• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Saamana: शिवसेना ने सुशांत सिंह को बताया 'चरित्रहीन', पूछा- गुप्तेश्वर का 'गुप्त रोग' हुआ दूर?

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली। सुशांत सिंह राजपूत केस में AIIMS की रिपोर्ट सामने आने के बाद शिवसेना ने 'सामना' के जरिए मुंबई पुलिस पर सवाल उठाने वालों पर जमकर निशाना साधा है, पार्टी ने अपने मुखपत्र में लिखा है कि एम्स की रिपोर्ट से साफ हो चुका है कि एक्टर सुशांत सिंह राजपूत ने आत्महत्या की थी, उनकी हत्या नहीं हुई है, अब जो महाराष्ट्र और मुंबई पुलिस पर सवाल खड़े कर रहे थे, उनका सच सामने आ चुका है क्योंकि उनका वस्त्रहरण हो चुका है।

'कई गुप्तेश्वरों को महाराष्ट्र द्वेष का गुप्तरोग हो गया था'

'कई गुप्तेश्वरों को महाराष्ट्र द्वेष का गुप्तरोग हो गया था'

'सामना' में तल्ख शब्दों में लिखा है कि सुशांत सिंह की आत्महत्या के बाद कई गुप्तेश्वरों को महाराष्ट्र द्वेष का गुप्तरोग हो गया था लेकिन अफसोस 100 दिन खुजाने के बाद भी उनके हाथ कुछ नहीं आया।

'डॉ. सुधीर गुप्ता महाराष्ट्र सरकार के आदमी नहीं'

एम्स की रिपोर्ट को देने वाले डॉ. सुधीर गुप्ता, महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्रालय या विभाग से संबंध नहीं रखते हैं, जो कि हमारे कहने से रिपोर्ट सामने लाएंगे, वो एम्स' के फॉरेंसिक विभाग के प्रमुख हैं और उनका मुंबई से कोई लेना-देना नहीं है, इसलिए उन्होंने वही कहा जो सच है और जो मुंबई पुलिस पहले से दिन से कह रही थी।

यह पढ़ें:सुशांत सिंह राजपूत केस: AIIMS की रिपोर्ट पर बोले मुंबई के पुलिस कमिश्नर-'अब सब कुछ साफ हो चुका है'यह पढ़ें:सुशांत सिंह राजपूत केस: AIIMS की रिपोर्ट पर बोले मुंबई के पुलिस कमिश्नर-'अब सब कुछ साफ हो चुका है'

    SSR Case: AIIMS Report पर Sanjay Raut बोले- CBI जांच पर भी भरोसा नहीं रहा क्या ? | वनइंडिया हिंदी
    'AIIMS पर देश गृहमंत्री को भी भरोसा, अब क्या करेंगे अंधभक्त'

    'AIIMS पर देश गृहमंत्री को भी भरोसा, अब क्या करेंगे अंधभक्त'

    'सामना' में आगे लिखा है कि यहां आपको बता दें कि ये वो ही एम्स है, जहां कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद देश के गृहमंत्री अमित शाह भी भर्ती हुए थे और जहां के इलाज से ठीक होने के बाद वो स्वस्थ होकर घर लौटे हैं, ऐसे में एम्स पर सवालिया निशान तो अंधभक्त भी नहीं उठा सकते हैं क्योंकि एम्स पर तो देश के होम मिनिस्टर को भी पूरा भरोसा है।

    विफलताओं से निराश एक्टर लेता था 'ड्रग्स'

    'सामना' में लिखा है कि सुशांत सिंह राजपूत की दुर्भाग्यपूर्ण मृत्यु को 110 दिन हो गए है, इस दौरान मुंबई पुलिस की खूब बदनामी की गई इसलिए मुंबई पुलिस की जांच पर जिन्होंने सवाल उठाए हैं उन राजनेताओं को और चैनलों को महाराष्ट्र से माफी मांगनी चाहिए, इन लोगों ने जानबूझकर महाराष्ट्र को बदनाम करने की कोशिश की, ये सबकुछ साजिश के तहत किया गया।

    'वो चरित्रहीन और अवसाद ग्रस्त था'

    'सामना' में लिखा है कि एक एक्टर जो कि विफलताओं से निराश हो गया था,वो चरित्रहीन था और उसने अवसाद में आकर मादक पदार्थों का सेवन करना शुरू कर दिया और एक दिन फांसी लगाकर अपनी जीवनलीला को समाप्त कर बैठा, उसकी मौत को चंद लोगों ने स्वार्थ के चलते तमाशा बना दिया इस तरह से किसी की मौत को तमाशा बनाकर खिलवाड़ करना बिल्कुल सही नहीं है।

    'देशभर के कई गुप्तेश्वरों का गुप्तरोग बढ़ गया था'

    'देशभर के कई गुप्तेश्वरों का गुप्तरोग बढ़ गया था'

    शिवसेना के मुखपत्र में इसके साथ ही लिखा है कि दुनिया की बेस्टमुंबई पुलिस इस मामले की बड़ी बारीकी से जांच कर ही रही थी लेकिन 'मुंबई पुलिस कुछ छुपा रही है, किसी को बचाने का प्रयास कर रही है' कहकर ऐसा धुआं उड़ाया गया कि पूछो मत. उस दौरान सिर्फ बिहार ही नहीं, बल्कि देशभर के कई गुप्तेश्वरों का गुप्तरोग बढ़ गया था। यही नहीं लेख में लिखा है कि सुशांत के पटना निवासी परिवार का का इस्तेमाल भी गंदी राजनीति के लिए किया गया।

    गंदी राजनीति के लिए खाकी वर्दी का 'वस्त्रहरण'

    गंदी राजनीति के लिए खाकी वर्दी का 'वस्त्रहरण'

    और जिस तरह से इस केस की जांच सीबीआई को दी गई है, उसने तो 'बुलेट ट्रेन' की रफ्तार को भी पीछे छोड़ दिया, मुंबई पुलिस ने इस केस को तमाशा बनने से रोकने के लिए शांति से जांच कर रही थी लेकिन जैसे ही सीबीआई के हाथ में केस आया, मात्र 24 घंटे में एक्टर के गांजा और चरस लेने का सच सामने आ गया, बिहार पुलिस को अगर रोका नहीं गया होता तो सुशांत के परिवार वाले रोज बेइज्जत होते, बिहार चुनाव में नीतीश कुमार के पास कोई मुद्दा नहीं था, इसलिए उन्होंने सुशांत केस को मुद्दा बना लिया , जिसके लिए राज्य के पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर भी वर्दी में खूब नाचे और अंत में उन्हीं नीतीश कुमार की पार्टी में शामिल भी हो गए, जिसने उनकी खाकी वर्दी का वस्त्रहरण किया था।

    'सुशांत सिंह राजपूत की हत्या नहीं हुई'

    मालूम हो कि एम्स की फॉरेंसिक रिपोर्ट में कहा गया है कि सुशांत सिंह राजपूत की हत्या नहीं हुई थी। एम्स ने कहा है कि जिन हालातों में मौत हुई थी, उसमें किसी भी तरह के फाउल प्ले नहीं हैं और ये एक आत्महत्या का मामला है, जिसके बाद मामले की जांच कर सीबीआई (CBI) की टीम अब इस मामले को आत्महत्या मानकर चलेगी और आत्महत्या के उकासाने (abetment to suicide) की दिशा में जांच करेगी।

    यह पढ़ें: Bihar Assembly Elections 2020: JDU से अलग होने के बाद बोले चिराग पासवान-'मुझे इस पल का आनंद लेने दीजिए'यह पढ़ें: Bihar Assembly Elections 2020: JDU से अलग होने के बाद बोले चिराग पासवान-'मुझे इस पल का आनंद लेने दीजिए'

    English summary
    Shiv Sena's Saamana calls late actor Sushant Singh Rajput 'characterless' and Gupteshwar pandey had Venereal disease.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X