• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

बढ़ती महंगाई को लेकर राकेश टिकैत ने किया 8 जुलाई को देशभर में विरोध प्रदर्शन का ऐलान

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 7 जुलाई। बढ़ती महंगाई को लेकर भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने गुरुवार को देशभर में विरोध प्रदर्शन का ऐलान किया है। उन्होंने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'कल देशभर में 10:00 से 12:00 बजे तक देश के किसान महंगाई को लेकर सड़कों पर प्रदर्शन करेंगे।'

Rakesh Tikait

ट्वीट करते हुए राकेश टिकैत ने लिखा- पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस सभी के दाम बढ़ते जा रहे हैं, ऐसे में आम आदमी परेशान है। कोरोना संक्रमण की मार से अभी देशवासी उबर भी नहीं पाए हैं ऐसे में उनको महंगाई से दो-चार होना पड़ रहा है।बता दें कि पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के हजारों किसान पिछले कई महीनों से दिल्ली बॉर्डर पर कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं।

किसानों और मोदी सरकार के बीच कृषि कानूनों को लेकर कई दौर की बातचीत हो चुकी है, लेकिन ये बातचीत बेनतीजा रही है। बता दें कि केंद्र सरकार पिछले साल सितंबर माह मे 3 नए विधेयक लाई थी, जिन पर राष्ट्रपति की मुहर लगने के बाद उन्हें कानून की शक्ल दे दी गयी। इन तीनों कानूनों के लेकर किसानों में भारी नाराजगी दिख रही है।

यह भी पढ़ें: टीकरी बॉर्डर पर हुई एक और किसान की मौत, प्रियंका गांधी ने FB पर वीडियो शेयर कर मोदी सरकार से पूछी ये बात

किसानों का मानना है कि इन कानूनों से किसानों का नुकसान होगा और निजी खरीदारों व बड़े कॉरपोरेट घरानों का फायदा होगा। किसानों को डर है कि इन कानूनों के लागू होने के बाद न्यूनतम समर्थन मूल्य खत्म हो जाएगा। वहीं दूसरी तरफ केंद्र सरकार हर हाल में इन कानूनों को लागू करना चाहती है। सरकार का कहना है कि इन कानूनों में संशोधन तो किया जा सकता है मगर इन्हें रद्द नहीं किया जा सकता।

English summary
Rakesh Tikait announced a nationwide protest on July 8 regarding rising inflation
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X