• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

रेलवे के आंकड़ों के अनुसार देश में चल रही है बुलेट ट्रेन, 17 मिनट में 117 किलोमीटर दौड़ी ट्रेन

|

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी 2014 में बुलेट ट्रेन के चुनावी ऐलान के साथ सत्ता में आई थी, जिसके बाद लगातार इस बात के सवाल उठ रहे हैं कि आखिर देश में कब बुलेट ट्रेन का संचालन शुरू होगा। लेकिन सीएजी की रिपोर्ट में चौंकाने वाली बात सामने आई है। इसमे कहा गया है कि इलाहाबाद से फतेहपुर के बीच 116 किलोमीटर की दूरी एक्सप्रेस ट्रेन ने 416 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से महज 16 मिनट में तय की है।

409 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार

409 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार

अब आप सोच रहे हैं होंगे कि आखिर कैसे भारत में खस्ताहाल ट्रैक पर कोई ट्रेन 409 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से दौड़ सकती है। खैर हकीकत में ना सही लेकिन कागज पर यह ट्रेन जरूर 409 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से जरूर दौड़ी है। सीएजी ने भारतीय रेलवे का हाल ही में जो ऑडिट किया है उसमे कई गलत तथ्य निकलकर सामने आए हैं, जिसके बाद रेलवे की कार्यप्रणाली पर फिर से सवाल खड़ा हो गया है।

इन तीन ट्रेनों के आंकड़े फर्जी

इन तीन ट्रेनों के आंकड़े फर्जी

तीन ट्रेनों के आंकड़ों की जांच के दौरान सीएजी को यह बड़ी खामी देखने को मिली है। जिन तीन ट्रेनों के आंकड़ों का ऑडिट किया गया है उसमे प्रयागराज एक्सप्रेस, जयपुर-इलाहाबाद एक्सप्रेस और दिल्ली-इलाहाबाद दूरंतो एक्सप्रेस शामिल है। इन ट्रेनों के आवागम के आंकड़ों की जांच में यह गलत जानकारियां सीएजी के हाथ लगी है। सीएजी की रिपोर्ट में रेलवे की आंकड़ों पर गंभीर सवाल खड़े किए गए हैं। इसमे इंटीग्रेटेड कोचिंग मैनेजमेंट सिस्टम जोकि ट्रेन की रफ्तार का रीयल टाइम डेटा देती है उसपर भी सवाल खड़े किए गए हैं। यही नहीं इसके साथ ही नेशनल ट्रेन इंक्वायरी सिस्टम के आंकड़ो को भी सीएजी ने गलत ठहराया है। इन आकंड़ों की वजह से यात्रियों को काफी मुश्किल का सामना करना पड़ता है।

इसे भी पढ़ें- राजस्थान: रोडवेज कर्मचारियों की हड़ताल दूसरे दिन भी रही जारी, 10 लाख यात्रियों को हुई परेशानी

17 मिनट में 117 किलोमीटर

17 मिनट में 117 किलोमीटर

सीएजी रिपोर्ट में कहा गया है कि 2016-17 के दौरान तीन ट्रेनों का संचालन 354, 343, 144 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हुआ है, ऐसे में यह ट्रेनें महज 53 मिनट में 116 किलोमीटर का सफर तय करती हैं। नियमानुसार एक ट्रेन 53 मिनट में अधिकतम 130 किलोमीटर की दूरी तय कर सकती है। लेकिन सीएजी की रिपोर्ट में सामने आया है कि 9 जुलाई 2016 को इलाहाबाद दूरंतो एक्सप्रेस फतेहपुर सुबह 5.53 बजे पहुंच गई थी, जबकि वह इलाहाबाद 6.10 बजे पहुंची है। इस लिहाज से ट्रेन ने 17 मिनट में 116 किलोमीटर की दूरी तय की है, जोकि 409 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से ही संभव है।

इन दिनों ये ट्रेन बनीं बुलेट ट्रेन

इन दिनों ये ट्रेन बनीं बुलेट ट्रेन

इसी तरह से 10 अप्रैल 2017 को जयपुर इलाहाबाद एक्सप्रेस फतेहपुर सुबह 5.56 बजे पहुंच गई थी, जबकि इलाहाबाद यह 5.31 बजे पहुंच गई। कुछ इसी तर्ज पर प्रयाग राज एक्सप्रेस 7 मार्च 2017 को इलाहाबाद 6.50 बजे पहुंच गई थी, जबकि इलाहाबाद वह 6.50 बजे पहुंच गई। यही नहीं रिकॉर्ड में यह दिखाया गया है कि ट्रेन इलाहाबाद से पहले सुबेदारगंज 7.45 बजे पहुंच गई थी।

इसे भी पढ़ें- फेसबुक पर योगी आदित्यनाथ के खिलाफ आपत्तिजनक कमेंट की वजह से युवक गिरफ्तार

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Railway fraud data exposed by CAG it suggests Bullet train already running in India.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X