• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

महाराष्ट्र में गृह मंत्रालय को लेकर रार, गृह अपने साथ रखना चाहते हैं सीएम उद्धव ठाकरे!

|

बेंगलुरू। महाराष्ट्र में नवगठित महा विकास अघाड़ी मोर्च की सरकार को शपथ लिए हुए 10 दिन से अधिक हो चुके हैं, लेकिन अभी तक महाराष्ट्र में शपथ ले चुके 6 कैबिनेट मंत्री बिना मंत्रालय के घूम रहे हैं। माना जा रहा है कि इसके पीछे गृह मंत्रालय पर छिड़ी रार है। एनसीपी और शिवसेना दोनों गृह मंत्रालय पर दावे को लेकर अड़ी हुई हैं।

udhav

दरअसल, शिवसेना चीफ और महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे गृह मंत्रालय अपने साथ रखना चाहते हैं, लेकिन वर्ष 1999 से 2014 के बीच महाराष्ट्र में गठित साझा सरकारों में एनसीपी लगातार गृह मंत्रालय का कार्यभार संभालती आई है इसलिए एनसीपी एक बार फिर गृह मंत्रालय पर दावा कर रही हैं। हालांकि पहले खबर थी कि एनसीपी अहम गृह मंत्रालय को शिवसेना को देने पर राजी हो गई थी।

गौरतलब है वर्ली में हुए एक लंबी मुलाकात के दौरान महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार के बीच महाराष्ट्र में पोर्टफोलियो के बंटवारे पर विस्तार से चर्चा हुई थी। इसी मीटिंग में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शहरी विकास मंत्रालय के बदले अपनी पार्टी के लिए गृह मंत्रालय की जोरदार पैरवी की थी।

udhav

क्योंकि सीएम पद पर करीब 10 दिन रहने के बाद उद्धव ठाकरे को गृह मंत्रालय का महत्व समझ में आ गया और अब वो किसी भी सूरत में गृह मंत्रालय को अपने हाथ से नहीं देना चाहते हैं। सीएम उद्धव और एनसीपी चीफ शरद पवार के साथ हुई मीटिंग में शिवसेना के रणनीतिकार संजय राउत, शिवसेना के विधायक दल के नेता एकनाथ शिंदे, वरिष्ठ पार्टी नेता सुभाष देसाई, एनसीपी नेता जयंत पाटिल और एनसीपी नेता अजित पवार शामिल थे।

कहा जा रहा है कि महाराष्ट्र में मंत्रि मंडल विस्तार और शपथ ले चुके मंत्रियों के विभागों के बंटवारे में देरी के पीछे एक वजह एनसीपी नेता अजित पवार भी हैं। एनसीपी कोटे से उद्धव कैबिनेट में अजित पवार के डिप्टी सीएम की शपथ अभी तक नहीं लेने की वजह से विभाग बंटवारे की गाड़ी अटकी हुई है।

udhav

चूंकि अभी तक गृह मंत्रालय को लेकर एनसीपी और शिवसेना में खींचतान जारी हैं इसलिए माना जा रहा है कि महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार की कैबिनेट में मंत्रियों के विभागों का बंटवारा अभी आगे और लटक सकता है। यही नहीं, यह भी आशंका जताई जा रही है कि उद्धव कैबिनेट में मंत्रिमंडल विस्तार भी लंबा खिच सकता है।

गत 30 नवंबर को शिवाजी पार्क में एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना की साझा सरकार वाली महा विकास अघाड़ी मोर्च की सरकार ने उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में शपथ लिया था। शपथ ग्रहण समारोह के दौरान मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ 6 मंत्रियों को भी शपथ दिलवाई गई थी, लेकिन शपथ ग्रहण समारोह को 10 दिन से अधिक ज्यादा बीत चुके हैं,लेकिन अभी तक न मंत्रमंडल विस्तार हो सका है और न शपथ ले चुके 6 मंत्रियों को विभागों का बंटवारा किया गया है।

udhav

उल्लेखनीय है आगामी 16 दिसंबर से विधानमंडल का शीतकालीन अधिवेशन नागपुर में शुरू होने जा रहा है और सोमवार से सचिवालय का कामकाज शुरू हो गया है, लेकिन विभागों का बंटवारा नहीं होने से संसदीय कार्य विभाग, गृह विभाग को छोड़कर मुंबई से उपराजधानी नागपुर में अन्य किसी विभाग के बड़े अधिकारी या कर्मचारी नहीं पहुंचे हैं। अधिवेशन को अब सप्ताह से भी कम समय है, लेकिन हैदराबाद हाउस में विभागों के तैयार कक्ष में अभी तक एक अधिकारी नहीं पहुंचा है।

दरअसल, प्रशासन में करीब 42 विभाग हैं और अगर जल्द विभागों का बंटवारा नहीं हुआ तो महाराष्ट्र विधानमंडल का शीतकालीन का पहला अधिवेशन बिना विभागों वाले मंत्रियों से आरंभ होगा। सवाल उठाया जा रहा है कि विभागों का बंटवारा नहीं किया गया तो क्या सभी प्रश्नों के जवाब मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे अकेले देंगे या फिर पूर्व की सरकार पर इसकी जिम्मेदारी डाली जाएगी।

udhav

फिलहाल उक्त सवालों का जवाब ढूंढने में खुद अधिकारी भी असमंजस की स्थिति में हैं। चूंकि सभी विभाग मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के पास हैं और नागपुर अधिवेशन में कुल 5 दिन शेष है, इसलिए संभावना जताई जा रही है कि अधिवेशन के दौरान उद्धव ठाकरे को सभी सवालों के जवाब देने पड़ कते है, क्योंकि किसी मंत्री के पास विभाग नहीं होने से अधिवेशन के लिए विभागों की तैयारियां प्रभावित हुई हैं।

मालूम हो, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की सरकार में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और महाविकास आघाड़ी में कैबिनेट मंत्री बालासाहेब थोरात, शिवसेना कोटे से कैबिनेट मंत्री एकनाथ शिंदे, कांग्रेस कोटे से मंत्री नितिन राउत, एनसीपी के जयंत पाटिल, छगन भुजबल और सुभाष देसाई सभी मंत्री पद की शपथ लेने के बाद विभाग मिलने का इंतजार कर रहे हैं।

udhav

इस बीच एनसीपी नेता शरद पवार ने कहा है कि मंत्रियों के बीच जल्द से जल्द विभाग का बंटवारा किया जाना चाहिए। संभावना जताई गई है कि महाराष्ट्र में मंत्रिमंडल का विस्तार नागपुर में होने वाले शीतकालीन सत्र के बाद प्रस्तावित है, लेकिन शपथ लेने वाले 6 मंत्रियों के विभागों का बंटवारा कब होगा, इसका जवाब कोई नहीं दे रहा हैं।

Uddhav

यही वजह है कि महाराष्ट्र में विभाग बंटवारे में देरी और नागपुर अधिवेशन में महाराष्ट्र सरकार की तैयारियों पर बीजेपी चुटकी ली हैं। बीजेपी नेता आशीष शेलार ने कहा कि इस गठबंधन के विधायकों में गहरा असंतोष है।

राज्यसभा में पेश होने से ठीक पहले नागरिकता बिल पर शिवसेना ने बदला पाला, उद्धव ने दिया बड़ा बयान

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Actually, Shiv Sena Chief and Maharashtra CM Uddhav Thackeray wants to keep the Ministry of Home Affairs with them, but between 1999 and 2014, NCP has been continuously taking over the Home Ministry in the joint governments formed in Maharashtra, hence NCP once again claim the Home Ministry. Whereas earlier there was news that NCP had agreed to give important home ministry to Shiv Sena.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more
X