• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

लोकसभा चुनाव 2019: तिरुवन्नामलाई लोकसभा सीट के बारे में जानिए

|

नई दिल्ली: तमिलनाडु की तिरुवन्नामलाई लोकसभा सीट से AIADMK की नेता आर वनरोजा सांसद हैं। उन्होंने साल 2014 के चुनाव में इस सीट पर DMK के अन्नादुराई को 168, 606 वोटों से पराजित किया था, उस बार आर वनरोजा को यहां पर 500, 751 वोट हासिल हुए थे तो वहीं अन्नादुराई को 332, 145 वोटों पर संतोष करना पड़ा था। इस सीट पर नंबर तीन पर PMK के प्रत्याशी थे जिन्हें कि 157, 954 वोट मिले थे तो वहीं इस सीट पर नंबर चार पर कांग्रेस थी, जिसके प्रत्याशी को केवल 178, 54 वोट नसीब हुए थे। साल 2014 के चुनाव में इस सीट पर कुल मतदाताओं की संख्या 13,52,966 थी, जिसमें से मात्र 10,67,447 लोगों ने अपने मतों का प्रयोग यहां पर किया था, जिनमें पुरुषों की संख्या 5,29,027 और महिलाओं की संख्या 5,38,420 थी। यहां 93 प्रतिशत लोग हिंदू धर्म में और 3 प्रतिशत मुस्लिम धर्म में भरोसा करते हैं।

profile of Tiruvannamalai lok sabha constituency

तिरुवन्नामलाई परिचय-प्रमुख बातें-

तिरुवन्नामलाई एक तीर्थ नगरी है, यहां के अन्नामलाईयर मंदिर के दर्शन के लिए लाखों की संख्या में लोग आते हैं, यह मंदिर तमिलनाडु में भगवान शिव के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। लम्बे समय से तिरुवन्नामलाई कई योगियों और सिद्धों से जुड़ा रहा है, तिरुवन्नामलई, चेन्नई से 185 किलोमीटर और बेंगलुरु से 210 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां थेनमपेन्नई नदी के ऊपर साथनूर डैम, तिरुवन्नामलई के पास एक खूबसूरत पर्यटन स्थल है तो वहीं यहां का अरुणाचल मंदिर भी करोड़ों लोगों के आस्था का केंद्र है, बहुत सारी धार्मिक और सांस्कृतिक धरोहरों को अपने आंचल में संजोए इस शहर की आबादी 18,25,291 है, जिसमें 78.55 फीसदी लोग गांवों में और 21.45 फीसदी लोग शहरों में निवास करते हैं, यहां कि 21.77 फीसदी लोग एससी वर्ग के और 5 प्रतिशत लोग एसटी वर्ग के हैं।

तिरुवन्नाामलाई लोकसभा सीट का इतिहास

पूर्व में रही तिरुप्पत्तूर सीट को खत्म करके साल 2008 के परिसीमन के बाद तिरुवन्नाामलाई लोकसभा सीट अस्तित्व में आई थी। साल 2009 के संसदीय चुनाव में इस सीट पर डीएमके को विजय मिली और पार्टी के धनपाल वेणुगोपाल सांसद बने थे तो साल 2014 का चुनाव यहां पर AIADMK की नेता आर वनरोजा ने जीता। दिसंबर 2018 की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 5 सालों के दौरान लोकसभा में आर वनरोजा की उपस्थिति 77 प्रतिशत रही है और इस दौरान इन्होंने मात्र 49 डिबेट में हिस्सा लिया है और 370 प्रश्न पूछे हैं। तिरुवन्नामलाई लोकसभा सीट साल 2009 में DMK के पास थी लेकिन साल 2014 में यह सीट AIADMK के पास आ गई जो कि DMK के लिए बहुत बड़ा झटका थी, साल 2014 के चुनाव में मुख्यमंत्री जयललिता के नेतृत्व में AIADMK ने लोकसभा चुनावों में पूरे राज्य में काफी अच्छा प्रदर्शन किया था लेकिन जयललिता के निधन के बाद AIADMK को आंतरिक कलह से जूझना पड़ा है, वो फूट का शिकार हुई तो पार्टी नेतृत्व के लिए भी AIADMK में जमकर बवाल मचा, ऐसे हालात में क्या वो अपनी यह सीट अपने पास बचाकर रख पाएगी, यह एक बड़ा सवाल है, जिसका जवाब हमें चुनावी नतीजे देंगे, इसमें कोई शक नहीं कि इस बार इस सीट पर मुकाबला कड़ा होगा, जहां DMK की पूरी कोशिश अपने हार का बदला लेने की होगी तो वहीं AIADMK का पूरा प्रयास अपनी जीत को बचाने का होगा, देखते हैं इस जंग में जीत का सेहरा किसके सिर बंधता है।

लोकसभा चुनाव 2019: अरानी/ आरणि लोकसभा सीट के बारे में जानिए

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
profile of Tiruvannamalai lok sabha constituency
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X