• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

कम 'नींद' लेने के हैं भयंकर नुकसान, खो सकती है याददाश्त तक

|

नई दिल्ली। आज की जिंदगी बहुत फास्ट हो गई है और जो इस फास्ट लाईफ के हिसाब से खुद को ढाल नहीं पाता है, वो जीवन में काफी पीछे रह जाता है और इसी वजह से हर इंसान आज 24 घंटे में 25 घंटे भागने की कोशिश कर रहा है, जिसमें वो अपनी निजी जरूरतों से समझौता कर लेता है, जिसमें सबसे अहम है 'नींद', जिसके चलते वो समय से पहले बुढ़ापे को और बहुत सारी घातक बीमीरियों को भी आमंत्रित कर रहा है। स्वास्थ्य जानकार मैथ्यू वाल्कर ने इस बारे में कुछ अहम बातें बताई हैं, जिन पर अभी अगर अमल ना किया गया तो इंसान बहुत सारी घातक बीमारियों के चंगुल में फंस सकता है, जहां से बचकर निकलना उसके लिए आसान नहीं है।

आधी-अधूरी नींद से गायब हो सकती है आपकी याददाश्त

आधी-अधूरी नींद से गायब हो सकती है आपकी याददाश्त

आधी-अधूरी 'नींद' की वजहें कई हैं, जिसमें इंसान का काम, मोबाइल पर देर रात चैटिंग, टीवी देखना, लेट नाईट पार्टी, एल्कोहल या हैवी फूड का सेवन, पारिवारिक तनाव, आपस झगड़े जैसे कारण शामिल हैं, नींद पूरी ना होने पर आप दिनभर थके-थके रहते हैं बल्कि ये आपके दिमाग पर भी असर डालती है और इससे मेमोरी लॉस होने का भी खतरा रहता है, मैथ्यू का कहना है कि याददाश्त का कमजोर होना भी नींद का पूरा ना होना है और कभी-कभी तो आधी-अधूरी नींद से इंसान की याददाश्त भी चली जाती है।

यह पढ़ें: ईवीएम से जुड़ी शिकायत के लिए चुनाव आयोग ने ईवीएम कंट्रोल रूम बनाया, इस नंबर पर कर सकते हैं शिकायत

कितनी घंटे की नींद है जरूरी?

कितनी घंटे की नींद है जरूरी?

एक्सपर्ट के मुताबिक, हर व्यक्ति को रोजाना कम से कम 8-9 घंटे की नींद जरूर लेनी चाहिए, जिसमें महिलाओं को पुरूषों के मुकाबले 1 घंटे एक्स्ट्रा नींद की जरूरत होती है लेकिन भारत समेत विश्व के कई देशों में महिलाओं के हिस्से में पुरुषों से कम सोने के घंटे आते हैं।

पूरी नींद ना लेने के नुकसान

पूरी नींद ना लेने के नुकसान

  • कमजोर याददाश्त: नींद पूरी नहीं होने पर शरीर की तरह दिमाग तरोताजा नहीं हो पाता, जिसके चलते कई मानसिक समस्याएं, कमजोर याददाश्त, सुस्ती और थकावट जैसी परेशानियां हो सकती हैं।
  • हार्मोनल इम्बैलेंस: पूरी नींद ना लेने से हार्मोनल का बैलेंस बिगड़ जाता है, इससे पेट दर्द, मोटापा और थकावट जैसी समस्याएं होने लगती है।
  • डायबिटीज: पूरी नींद ना लेने से हाई ब्लड प्रेशर और मधुमेह जैसी बीमारियों के होने का खतरा बढ़ जाता है।
  • ऑस्ट‍ियोपोरोसिस: अगर भी पूरी नींद नहीं लेते तो इससे आपको ऑस्ट‍ियोपोरोसिस का खतरा हो सकता है। मिनरल्स का संतुलन बिगड़ जाता है, जिसके चलते जोड़ों के दर्द की समस्या पैदा हो जाती है।
  • कैंसर का खतरा: कई शोधों में ये बात सामने आ चुकी है कि कम नींद लेने की वजह से ब्रेस्ट कैंसर होने का खतरा काफी हद तक बढ़ जाता है।
  • हार्ट अटैक: नींद पूरी न होने की वजह से हाई ब्लड प्रेशर की आशंका बढ़ जाती है। इससे हार्ट अटैक होने का खतरा भी बढ़ जाता है।
कैसे लें भरपूर नींद?

कैसे लें भरपूर नींद?

  • खाने से पहले हैवी फूड्स, एल्कोहल, निकोटीन प्रोडक्ट्स और कॉफी का सेवन ना करें।
  • रोजाना सोने और सुबह उठने के लिए एक ही समय तय करें क्योंकि अनियमित स्लिपिंग रूटीन भी खराब नींद की वजह है।
  • सोने से पहले गानें सुने, गुनगुने पानी से स्नान और मेडिटेशन जैसे रूटीन फॉलो करें। इससे नींद अच्छी आएगी।
  • मोबाइल, टीवी, कंप्यूटर और लैपटॉप आदि इलेक्ट्रॉनिक चीजों को सोने से पहले इस्तेमाल ना करें।

यह पढ़ें: 12 सेकेंड में अपने ही लोगों के हाथों मिसाइल का शिकार हो गए थे IAF के 6 जांबाज!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Poor Sleep Causes Memory Loss And Forgetfulness. Poor quality sleep among the elderly can cause significant memory loss and brain deterioration.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X