• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

PETA India:रक्षा बंधन पर 'चमड़ा मुक्त' बनने की अपील, सोशल मीडिया ने धो डाला

|

नई दिल्ली- रक्षा बंधन पर्व के नाम पर विवादास्पद पोस्टर लगाकर प्रचार करने की वजह से 'पेटा इंडिया' एकबार फिर से विवादों में है। दरअसल, पेटा इंडिया ने एक गाय की तस्वीर के साथ बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगावाए हैं, जिसपर लिखा गया है कि 'इस रक्षा बंधन, कृपया मेरी रक्षा करो: चमड़ा-मुक्त बनो।' अब लोग पेटा इंडिया से पूछ रहे हैं कि ऐसा बे-सिर-पैर वाला पोस्टर लगाने का क्या मतलब है। क्योंकि, ऐसा पहलीबार नहीं हुआ है। लोग आरोप लगा रहे हैं कि ऐसे कई मौके आए हैं, जब पेटा इंडिया ने अधूरी जानकारी या कथित तौर पर जानबूझकर पर्व-त्योहारों के मौके पर इस तरह से विवाद खड़ा करने की कोशिश की है। गौरतलब है कि एकबार जन्माष्टमी के मौके पर पेटा ने शाकाहारी घी खाने की अपील करके बहुत बड़ा विवाद पैदा कर दिया था। ऐसे कई मौके आए हैं, जब यह संगठन विवादों में पड़ा और उसकी गतिविधियों को शक की नजरों से देखा गया है।

PETA India: Appeal to Rakshabandhan to become leather-free,got trolled

पीपुल्स फॉर एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स (पेटा) खुद के जानवरों की रक्षा के लिए लड़ने वाला संगठन बताता है। लेकिन, हाल में ऐसे कई मौके आए हैं, जब उसके इंडिया चैप्टर की हरकतों की वजह से विवाद सामने आए हैं। इसी कड़ी में इसबार पेटा इंडिया ने रक्षा बंधन जैसे त्योहार को गाय की रक्षा से जोर दिया है। इस संगठन ने लोगों से अपील की है कि 'चमड़ा-मुक्त बनो।' अब सोशल मीडिया पर पेटा से यही सवाल किया जा रहा है कि राखी के त्योहार का चमड़े से क्या लेना-देना? सबसे बड़ी बात कि बिना राखी के सही जानकारी के इस संगठन ने यह बिलबोर्ड अहमदाबाद, भोपाल, चंडीगढ़,जयपुर,कानपुर,पटना और पुणे जैसे तमाम शहरों में महत्वपर्ण जगहों पर लगा दिए हैं। जाहिर है कि जो भी इस बिलबोर्ड देखता है, वह परेशान हो जा रहा है कि आखिर पेटा को जब मालूम नहीं है तो ऐसा क्यों किया जाता है।

सोशल मीडिया पर उससे यही पूछा जा रहा है कि, 'आपका मतलब की राखियां चमड़े से बनती हैं? एक त्योहार को क्यों चुना, जिसका जानवरों की हत्या से कोई लेना-देना नहीं है।' एक यूजर ने लिखा है कि, 'ऐसा लगता है कि पेटा इंडिया तभी नींद से जागता है, जब हिंदुओं का कोई त्योहार आता है और तुमने कहां देखा है लोगों को चमड़े की राखी पहनते हुए?? रक्षा बंधन के पवित्र त्योहार पर तो हम मीट या अंडे भी नहीं खाते।'

इससे पहले जन्माष्टमी जैसे त्योहार पर भी विवादित ट्वीट करके पेटा फंस चुका है और उसकी खूब आलोचना हो चुकी है।

इसे भी पढ़ें- त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार का बड़ा फैसला, अब हफ्ते के 2 दिन उत्तराखंड में रहेगा पूर्ण लॉकडाउन

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
PETA India: Appeal to Rakshabandhan to become 'leather-free',got trolled
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X