• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

कोरोना की दूसरी लहर में 2020 की तरह लोगों की जा सकती हैं नौकरियां, तेजी से बढ़ रही बेरोजगारी दर: शोध

|

नई दिल्‍ली, अप्रैल 12: देश भर में कोरोना की दूसरी लहर आ चुकी हैं। हर दिन नए कोरोना पॉजिटिव मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। कोरोना के प्रकोप के बीच एक शोध में डरा देने वाले संकेत दिए गए हैं। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान कोविड -19 मामलों में तेज वृद्धि के साथ देश की अर्थव्यवस्था को हिट करना शुरू कर दिया है। एक निजी शोध रिपोर्ट बताती है कि अप्रैल से बेरोजगारी की दर बढ़ने लगी है और ये संभावना जताई गई है कि 2020 की तरह इस साल भी लाखों लोगों की नौकरियां जाएगी।

unemployment

दावा किया जा रहा है कोविड -19 की दूसरी लहर के कारण देश के विभिन्न हिस्सों में लगाए गए प्रतिबंधों की वजह से नौकरी छूट सकती है, जैसा कि 2020 में देखा गया था। सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी, मुंबई स्थित थिंक टैंक द्वारा जारी किए गए डेटा ने सुझाव दिया कि देश में बेरोजगारी फिर से बढ़ने लगी है। सीएमआईई द्वारा जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार, 11 अप्रैल को समाप्‍त हुए सप्‍ताह में बेरोजगारी की दर 8.6 प्रतिशत थी, जो कि दो सप्ताह पहले 6.7 प्रतिशत थी।

महाराष्‍ट्र में जल्‍द लग सकता है लॉकडाउन

महाराष्ट्र, जो भारत में सबसे अधिक कोरोना के मामले सामने आ रहे हैं वहीं महाराष्‍ट्र आंशिक लॉकडाउन उपायों की घोषणा करने वाला पहला राज्‍य है। राज्य के अधिकारियों ने कहा कि इस सप्ताह पूर्ण तालाबंदी पर निर्णय लिया जाएगा। वहीं अन्य राज्यों ने भी रात्रि कर्फ्यू जैसे प्रतिबंध लगाए हैं और जल्द ही कड़े उपायों का विकल्प चुन सकते हैं यदि औसत दैनिक मामले तेजी से बढ़ते रहें।

अर्थशास्त्रियों को सता रहा ये भय

सोमवार को, भारत ने 1.6 लाख से अधिक मामलों की दैनिक स्पाइक की रिपोर्ट की और कुल मामलों की रिपोर्ट के मामले में ब्राजील को सबसे अधिक प्रभावित करने वाला देश बन गया। अर्थशास्त्रियों को डर है कि बढ़ते मामले व्यवसायों को बुरी तरह प्रभावित कर सकते हैं और इससे नौकरी के नुकसान में तेजी आएगी। समग्र प्रभाव भारत की आर्थिक सुधार में काफी देरी कर सकता है।

2020 में क्या हुआ था
कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए सख्त राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन ने 2020 में व्यापक तबाही मचाई थी। बेरोजगारी की दर में तेजी से वृद्धि हुई क्योंकि लॉकिंग के कारण लाखों श्रमिक बेरोजगार हो गए थे। लॉकडाउन ने न केवल श्रमिकों को प्रभावित किया था, बल्कि कई हाई पोस्‍ट पर बैठे लोगों ने नौकरियों को भी खो दिया था और लाखों लोगों की नौकरियां चली गई थी। खासकर विमानन, पर्यटन, यात्रा और आतिथ्य जैसे क्षेत्रों में लाखों लोगों की नौकरी चली गई थी। जबकि कई कंपनियों ने नौकरियों में कटौती के बजाय वेतन कटौती का विकल्प चुना था । नौकरियों की कमी के परिणामस्वरूप घरेलू आय में तेजी से गिरावट आई और बाद में एक महत्वपूर्ण मांग संकट पैदा हुआ। जबकि कुछ नौकरियों को बहाल कर दिया गया है, भारत का रोजगार स्तर 2020 में महामारी से पहले जो कुछ हुआ करता था उससे बहुत दूर है। यदि मामलों के पुनरुत्थान को जल्द ही शामिल नहीं किया जाता है, तो ठीक होने वाली अर्थव्यवस्था को नुकसान कई व्यवसाय मालिकों के अनुसार विनाशकारी हो सकता है।

Corona Guidelines: जानें नवरात्रि और रमजान को लेकर यूपी, दिल्‍ली समेत अन्‍य राज्‍यों में क्‍या हैं नियम?Corona Guidelines: जानें नवरात्रि और रमजान को लेकर यूपी, दिल्‍ली समेत अन्‍य राज्‍यों में क्‍या हैं नियम?

https://www.filmibeat.com/photos/akanksha-sharma-71593.html?src=hi-oiआकांक्षा शर्मा का लेटेस्ट फोटोशूट, देखकर नजरें थम जाएंगी

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
People may lose jobs in the second wave of Corona by 2020, rising unemployment rate
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X