• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

रामायण के सीन कट करने का आरोप लगाकर लोगों ने किया हंगामा तो दूरदर्शन ने दी अब ये सफाई

|

नई दिल्ली। कोरोनोवायरस लॉकडाउन के दौरान छोटे पर्दे पर अपनी वापसी के बाद रामानंद सागर के रामायण ने सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। जैसे ही राष्ट्र कोरोना वायरस महामारी के साथ लॉकडाउन हुआ तो दर्शकों ने रामायण के साथ-साथ महाभारत की वापसी की भी मांग की। बता दें लॉकडाउन की वजह से दूरदर्शन पर लोगों की मांग के बाद रामानंद सागर की रामायण का फिर से प्रसारण शुरू हुआ था।

रावण वध सीन काटे जाने का दर्शकों ने लगाया था आरोप

रावण वध सीन काटे जाने का दर्शकों ने लगाया था आरोप

बता दें पिछले दिनों राम और रावण के बीच युद्ध सीन दर्शकों को बांधे रखने में कामयाब रहे। इस सीरियल ने आते ही टीआरपी के कई रिकॉर्ड्स तोड़ दिए। इस बीच सोशल मीडिया पर 'रामायण' टॉप ट्रेंड करने लगा था। जहां यूजर्स ने खूब कमेंट्स किए वहीं शनिवार के एपिसोड में भगवान राम ने रावण का वध करते दिखाया गया, तो दर्शकों ने महसूस किया कि कुछ दृश्यों को संपादित यानी एडिट किया गया है, जिस पर दर्शक काफी नाराज हुए यहां तक कि कई दर्शकों ने तो अपना गुस्‍सा सोशल मीडिया पर जमकर निकाला। शनिवार को प्रसारित हुए एपिसोड में भगवान राम द्वारा रावण वध के सीन में काट छांट किए जाने से लोग भड़क गए। रामायाण के दर्शकों ने दूरदर्शन पर आरोप लगाया कि राम और रावण के बीच हुए युद्ध के दौरान कई सीन्स को एडिट कर दिया गया। अब इस मामले पर दूरदर्शन की तरफ से सफाई आई है।

प्रसार भारती के सीईओ से यूजर ने पूछा ये सवाल

प्रसार भारती के सीईओ से यूजर ने पूछा ये सवाल

ट्विटर पर एक यूजर ने प्रसार भारती के सीईओ शशि शेखर को टैग करते हुए पूछा कि भरत कैकई मिलन, अहिरावण वध, मुकुट समारोह की तैयारी, अयोध्या के निवासियों द्वारा राम का स्वागत करना...ये सभी सीन डीडी ने काट दिए और ये वास्तव में रामानंद सागर रामायण के हैं।

सीईओ ने सफाई देते हुए लिखी ये बात

सीईओ ने सफाई देते हुए लिखी ये बात

इस सवाल पर प्रसार भारती के सीईओ शशि शेखर ने जवाब देते हुए लिखा, 'हमारे महाकाव्यों की सुंदरता कई कहानियां, पक्ष-कहानियां और व्याख्याएं हैं। हर बारीकियों को संभवतः एक टेलीविजन स्क्रिप्ट में नहीं बनाया जा सकता है, लेकिन ऐसा करना शायद भविष्य के आने वाले कार्यक्रमों के लिए दरवाजा खुला छोड़ देता है। उन्होंने आगे लिखा, 'कोई भी सीन कट नहीं किया गया है। ये सभी सीन्स ओरिजनल 'रामायण' का हिस्सा नहीं थे।'

'हर दिन 4 एपिसोड प्रसारित किए गए थे

वहीं एक और यूजर ने पूछा, 'रामानंद सागर की रामायण के 78 एपिसोड थे। 28 मार्च की रात से डीडी पर प्रतिदिन सुबह और रात में दो एपिसोड प्रसारित हुए और 18 मार्च तक सभी खत्म भी हो गए। ऐसा लग रहा है कि बहुत बड़े स्तर इसे एडिट किया गया।'इसके जवाब में शशि शेखर ने लिखा, 'हर दिन 4 एपिसोड प्रसारित किए गए थे। दो एपिसोड को एक स्लॉट में मिलाकर दिखाया गया था।' बता दें कि रामायण में आधे-आधे घंटे के दो एपिसोड को मिलाकर एक घंटे का दिखाया जा रहा था। फिलहाल अब दूरदर्शन पर उत्तर रामायण का प्रसारण शुरू हो गया है।

'रामायण', के दर्शकों ने रावण वध के बाद दी थी दशहरें की शुभकामना

चूंकि दर्शक पिछले कई दिनों से रावण वध का सीन देखने के लिए काफी उत्सुक थे और भगवान राम ने जब रावण का वध किया तो लोगों ने रावण वध के साथ फिर से टॉप ट्रेंड में आया और 'रामायण', के दर्शक सोशल मीडिया पर एक दूसरे को दशहरे की शुभकामनाएं देने लगे थे लेकिन कई लोगों ने महसूस किया कि रावण वध के दौरान दृश्यों को काट दिया गया था और दूरदर्शन पर उन्‍होंने जमकर सोशल मीडिया पर अपनी नाराजगी व्यक्त करने लगे। दर्शकों ने कहा कि रावण-लक्ष्मण के बीच के दृश्य, अहिरावण के दृश्य टेलीकास्ट से काट दिए गए हैं।

'रामायण' धारावाहिक में रावण वध के सीन काटे जाने से दुखी हुए दर्शक, सोशल मीडिया पर निकाला ऐसे गुस्‍सा

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
People made uproar by accusing them of cutting scenes of Ramayana, this explanation came from Doordarshan
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X