• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

भारत और अमेरिकी वैज्ञानिकों की 8 टीमें मिलकर करेंगी कोरोना वायरस पर शोध

|

नई दिल्ली। भारत और अमेरिका के शोधकर्ताओं की 8 टीमों को COVID-19 महामारी के रोगजनन और रोग प्रबंधन में अत्याधुनिक अनुसंधान के लिए चुना गया है। मंगलवार को एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि टीमें एंटीवायरल कोटिंग्स, प्रतिरक्षा मॉड्यूलेशन, अपशिष्ट जल में SARS CoV-2 पर नज़र रखने के साथ-साथ रोग का पता लगाने वाले मैकेनिज्म, रिवर्स जेनेटिक्स रणनीतियों और ड्रग पुनर्परिवर्तन जैसे क्षेत्रों में अनुसंधान करेंगी।

    Corona Vaccine: Health Ministry ने कहा-जल्द तीसरे स्टेज में पहुंचेगी Oxford Vaccine | वनइंडिया हिंदी

    study

    भारत और अमेरिका की सरकारों द्वारा संयुक्त रूप से वित्त पोषित एक स्वायत्त द्विपक्षीय संगठन भारत-अमेरिका विज्ञान और प्रौद्योगिकी फोरम (IUSSTF) द्वारा हाल में अनुसंधान पुरस्कारों की घोषणा की गई थी, जो सरकार, शिक्षाविदों और उद्योग के बीच महत्वपूर्ण संपर्क के जरिए विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और नवाचार को बढ़ावा देता है। विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (DST) और अमेरिकी राज्य विभाग इसकी नोडल विभाग हैं।

    study

    कोरोना वैक्सीनः सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया इसी सप्ताह शुरु करेगी दूसरे चरण का ट्रायल

    भारत-अमेरिका विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंच का उद्देश्य व्यक्तिगत वैज्ञानिकों, वैज्ञानिक संस्थानों और बड़े पैमाने पर वैज्ञानिक समुदाय के बीच एक साझेदारी के माध्यम से भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका के बीच दीर्घकालिक वैज्ञानिक सहयोग को बढ़ावा देने के लिए एक उत्प्रेरक के रूप में कार्य करना है।

    study

    कोरोना कोहराम के बीच राहत भरी खबर, भारत में 24 घंटे में रिकॉर्ड 57584 मरीज स्वस्थ हुए

    कोरोना पर शोध के लिए चुनी गई सर्वश्रेष्ठ वैज्ञानिकों की टीमों में से एक हैं, जिन्होंने भारतीय और अमेरिकी विज्ञान और प्रौद्योगिकी समुदायों की संयुक्त विशेषज्ञता का दोहन करने के लिए प्रस्तावों के आमंत्रण के जवाब में अपना प्रस्ताव प्रस्तुत किया था।

    study

    क्या जल्दबाजी में लांच कर दिया गया रूसी कोरोना वैक्सीन, जानिए रूसी दावों पर क्यों उठ रहे हैं सवाल?

    चुनी गईं वैज्ञानिकों की टीमें वर्तमान में कोरोना शोध में लगे भारतीय और अमेरिकी इंजीनियरों और वैज्ञानिकों की टीमों के बीच साझेदारी की सुविधा प्रदान करती हैं। बयान में यह भी कहा गया है कि दोनों देश अनुसंधान को आगे बढ़ाने और उसमें प्रगति के लिए मौजूदा बुनियादी ढांचे को भी बढ़ाते हैं।

    study

    रूसी कोरोना वैक्सीन का पहला बैच तैयार, अगस्त अंत में बाजार में उपलब्ध हो सकता है टीका!

    डीएसटी सचिव और IUSSTF इंडिया के को-चेयर आशुतोष शर्मा ने कहा कि COVID-19 पर विशेष आह्वान के लिए थोड़े समय में बेहतर प्रतिक्रिया भारत और अमेरिका के बीच बेहतर सहयोग के एक व्यापक स्पेक्ट्रम प्रदर्शित करते हैं। उन्होंने कहा कि SARS-Cov2 वायरस के व्यवहार पर बुनियादी अध्ययन से वायरस ट्रांसमिशन के डायग्नोस्टिक्स और चिकित्सीय दृष्टिकोण मिलेगा।

    क्या जेडीयू की डमी कैंडीडेट हैं पुष्पम प्रिया चौधरी, अचानक बिहार की राजनीति में क्यों अवतरित हुईं?

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    8 teams of researchers from India and USA have been selected for cutting-edge research in the pathogenesis and disease management of COVID-19 epidemics. An official statement on Tuesday said the teams will conduct research in areas such as antiviral coatings, immune modulation, tracking SARS CoV-2 in wastewater, as well as disease detection mechanisms, reverse genetics strategies and drug reintegration.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X