• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Pakistan: कुर्सी की उल्टी गिनती गिन रहे इमरान, क्या बाजवा बना रहे हैं कब्जे का प्लान

|

बेंगलुरु। कश्‍मीर मामले के बाद पूरी दुनिया के समाने सच आ चुका है कि पाकिस्तान तरक्की की राह से मुड़कर आतंकवाद के रास्ते पर हैं। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की आंखों पर जेहाद की पट्टी बंधी है। पाकिस्तान में सेना की ही हुकूमत चलती है। सेना के इशारे पर इमरान सरकार कार्य करती है। इससे पहले इमरान खान की पूर्व पत्नी रेहम खान भी उन्हें सेना की कठपुतली बता चुकी हैं

imran and bazava

पिछली कुछ रिपोर्ट भी कुछ ऐसा ही इशारा कर रही है।अमेरिकी कांग्रेस (संसद) की स्वतंत्र अनुसंधान विंग कांग्रेशनल रिसर्च सर्विस (सीआरएस) की रिपोर्ट के मुताबिक प्रधानमंत्री इमरान खान के कार्यकाल में देश की विदेश और सुरक्षा नीतियों पर पाकिस्तानी सेना हावी रही है।

पाक के वर्तमान हालात को देख कर अंदाजा लगाया जा रहा है कि इमरान सरकार की उल्‍टी गिनती शुरू हो चुकी है और पाकिस्तान सेना के चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ जनरल कमर जावेद बाजवा लोकतंत्र को कुचल कर तख्‍तापलट कर सत्ता हथिया लेने कि फिराक में है। अगर ऐसा होता है तो यह पहली बार नहीं होगा। पाकिस्तान इतिहास में सेना ने जब भी चाहा तब लोकतंत्र का गला घोंट कर सत्ता पर काबिज होकर मनमानी की। पिछले 72 वर्ष में 32 वर्षों तक सेना ने पाक पर शासन किया है।

वर्दी की आड़ में दहशत फैलाती है पाक सेना

सेना के इस इरादे का अंदाजा पाक की आवाम को हो गया है। इसीलिए भारत को परमाणु युद्ध की धमकी देने वाले पाकिस्तान में लोग शुक्रवार को पाकिस्तानी सेना के खिलाफ सड़कों पर उतर आए है। पाकिस्तान जो दुनिया से अब तक छुपाता आया है वहां के लोगों ने वो सच दुनिया के सामने रख दिया है और बता दिया है कि आतंकवाद को पालने पोसने वाला और कोई नहीं बल्कि पाकिस्तानी सेना है। उनका आरोप है कि वर्दी की आड में पाकिस्तान की सेना पूरी दुनिया में दहशत फैला रही है।

bazava

दहशतगर्दी की खिलाफत कर रहे पाकिस्तानी

बदहाल अर्थव्यवस्‍था में गरीबी से जूझ रही पाकिस्तानी जनता को सेना के मंसूबों से भयभीत है। सेना के हाथों की कठपुतली पाक इमरान सरकार के खिलाफ वहां की जनता का गुस्सा दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है।

सूत्रों के अनुसार वहां लोग सड़कों पर निकलकर नारा लगा रहे है कि ये जो दहशतगर्दी है इसके पीछे वर्दी है...ये नारे पाकिस्तान मे गूंज रहे हैं. ये नारे चीख-चीख कह रहे हैं कि पाकिस्तान को आतंक और दहशत के गहरे कुएं में धकेलने वाला और कोई नहीं बल्कि पाकिस्तानी सेना है।

लोकतंत्र को कुचल कर, सेना ने किया 35 साल किया शासन

इतिहास गवाह है कि आतंकवादियों को प्रशिक्षण देने वाली पाक सेना के इशारों पर सरकारें चलती रही हैं। जिस भी प्रधानमंत्री ने सेना का विरोध किया उनको या तो फांसी दे दी गई या तख्तापलट कर दिया गया। 72 साल के पाकिस्तान के इतिहास में जब-जब मुल्क पर संकट आया। तब-तब सेना ने लोकतंत्र को कुचल कर देश की कमान अपने हाथों में ले ली। फील्ड मार्शल अयूब खान से लेकर याहया खान तक और जियाउल हक से लेकर परवेज मुशर्रफ तक कुल 35 साल तक पाकिस्तानी सेना प्रमुख मुल्क पर राज कर चुके हैं।

लोकतंत्र की हत्या कर सेना ही कर रही शासन

लोकतंत्र में नियम-कानून, चुनाव, न्यायपालिका ताकतवर होती है, लेकिन पाकिस्तान की सेना इन सबका अस्तित्व झुटला दिया है। पाकिस्तान के नागरिकों के अधिकारों को ताख पर रखते हुए नौकरशाह के साथ गठजोड़ बनाकर सेना सत्ता की केंद्र बिंदु बन गई। जैसा वर्तमान में भी हो रहा है। जिसका नतीजा ये हुआ की पाकिस्तान में सेना सर्वेसर्वा हो गई।

पाक की अर्थव्यवस्था भी सेना की मुट्ठी में

पाक सेना 20 अरब डॉलर से अधिक की 50 वाणिज्यिक संस्थाओं को चलाती है। इनमें पेट्रोल पंपों से लेकर विशाल औद्योगिक संयंत्रों, बैंकों, बेकरियां, स्कूल, विश्वविद्यालय आदि शामिल हैं। सेना देश के सभी विनिर्माण का एक-तिहाई और निजी संपत्तियों का सात प्रतिशत तक नियंत्रण करती है।

सैन्य शासन में प्रधानमंत्री को जेल भेजकर लटकाया फांसी पर

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री जुल्फिकार अली भुट्टो ने ही जनरल जिया उल को चीफ ऑफ ऑर्मी स्टाफ बनाया था। मगर उसी जनरल ने मौका मिलते ही 5 जुलाई 1977 को न केवल प्रधानमंत्री जुल्फिकार अली भुट्टो का तख्तापलट कर सैन्य शासन लागू कर दिया, बल्कि उन्हें जेल भेजकर फांसी पर भी लटका दिया। जिया ने तख्तापलट के पीछे तर्क देते हुए कहा था कि जुल्फिकार अली भुट्टो के कार्यकाल में पाकिस्तान के हालात खराब हो चले थे, लिहाजा सैन्य शासन जरूरी था।

pakistan

धार्मिक कट्टरता की आग में झोंका

जनरल जिया उल हक ने पाकिस्तान को न केवल धार्मिक कट्टरता की आग में झोंक दिया बल्कि कश्मीर को भी सुलगाने का काम किया। अपने शासनकाल में कट्टरता के जो कांटे उन्होंने बोए, वही आज पाकिस्तान के पैरों में चुभ रहे हैं। पाकिस्तान तरक्की की राह से मुड़कर आतंकवाद के रास्ते पर चल पड़ा। जनरल जिया उल हक ने 1973 में जो संवैधानिक प्रावधान किए थे। उन्होंने यह व्यवस्था की कि कोई भी गैर मुस्लिम व्यक्ति देश का प्रतिनिधित्व नहीं करेगा। तख्तापलट के बाद जिया उल हक ने राष्ट्रपति पद संभाला तो संविधान को ठुकराते हुए शरिया कानून को लागू किया। आज पाकिस्तान बदहाली के जिस मोड़ पर है, वहां तक पहुंचाने में जिया उल हक की नीतियां जिम्मेदार बताई जाती हैं।

युवाओं को आतंक के रास्ते पर धकेला

बेरोजगार युवकों को फौज ने पैसे का लालच देखकर अफगानिस्तान और भारत के खिलाफ आतंक के रास्ते पर धकेल दिया, जिससे गरीबी, भूखमरी और आतंकवाद को लेकर पूरी दुनिया में पाकिस्तान पहचाना जाने लगा।

yuddh

सेना ने ही 4 बार युद्ध की आग में झोंका पाक को

सेना के प्रभाव में पाकिस्तान के भारत के साथ चार युद्ध (1947, 1965, 1971, 1999) हुए। चारों ही युद्धों में पाकिस्तान की बुरी तरह से हार हुई और अंतत: 1971 में पाकिस्तान दो भागों में टूट गया। नया देश बना बांग्लादेश। इस बीच पाकिस्तान में न तो उद्योग धंधे खड़े हो पाए और न ही कृषि पर ध्यान दिया गया। नतीजा ये हुआ कि अमेरिका से मिले खैरात के पैसों से पाकिस्तान में सेना और नौकरशाह वर्ग तो बहुत अमीर हो गया, लेकिन जनता गरीबी से नीचे जीवन जीने को मजबूर हो गई।

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Imran government has started and Pakistan Army Chief of Army Staff General Qamar Javed Bajwa is in a position to overthrow democracy and seize power.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more