• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

पेगासस मुद्दे को तूल दिए जाने पर विपक्ष में ही दो मत, हेमंत सोरेन ने उठाए सवाल

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 22 अगस्त। विपक्ष के नेताओं की शुक्रवार को बैठक हुई, जिसमे 19 दलों के नेताओं ने हिस्सा लिया। जिसमे झारझंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने पेगासस मुद्दे को तूल दिए जाने पर सवाल खड़ा किया। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि जो मुद्दे आम जनता से जुड़े हैं और जिसका राजनीतिक असर होगा उनपर ध्यान देने की अहम चुनौती हमारे सामने हैं। बता दें कि तीन राज्यों में अगले साल विधानसभा चुनाव है, ऐसे में कांग्रेस और अन्य दल के केई नेताओं को लगता है कि इस पेगासस जैसे मुद्दों पर इतना ज्यादा आक्रामक होना विपक्ष की मदद नहीं करेगा, राफेल की तरह ही विपक्ष के लिए दूसरा मुद्दा बन सकता है जिसका लोगों पर असर नहीं हुआ।

hemant

सूत्रों के अनुसार हेमंत सोरेन ने कहा कि पेगासस जरूरी मुद्दा है, लेकिन यह आम आदमी को कैसे प्रभावित करता है,नए कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों को कैसे प्रभावित करता है। वहीं सीताराम येचुरी ने इसके विरोध में तर्क देते हुए कहा कि विपक्ष को जासूसी मामले को लोगों के बीच एक वृहद तरीके से रखने की जरूरत है, लोगों को बताने की जरूरत है कि कैसे संस्थाओं पर सरकार नियंत्रण कर रही है, वह जासूसी करके देश के लोकतंत्र को खतरे में डाल रही है। वहीं राहुल गांधी ने कहा कि पेगासस स्पाइवेयर का भाजपा सरकार ने इस्तेमाल करके अधिनायकवादी राज्य बना दिया है।

हालांकि बैठ के दौरान नेताओं के एक वर्ग को यह जरूर लगता है कि पेगासस के मुद्दे को आगे ले जाना चुनौती होगा। पेगासस जासूसी के जमीनी असर का पता अगले साल उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और पंजाब में होने वाले विधानसभा चुनाव में जरूर पता चलेगा। कांग्रेस के भीतर के भी कुछ नेताओं को लगता है कि पेगासस मामले को मानसून सत्र में इस तरह से उठाना गलत रणनीति थी। पंजाब, हरियाणा के सदस्य इस बात से खुश नहीं थे कि किसानों के मुद्दे को पीछे करके पेगासस मुद्दे को वरीयता दी गई।

इसे भी पढ़ें- कल्याण सिंह के निधन पर यूपी में तीन दिन का राजकीय शोक, 23 अगस्त को सार्वजनिक अवकाश की घोषणाइसे भी पढ़ें- कल्याण सिंह के निधन पर यूपी में तीन दिन का राजकीय शोक, 23 अगस्त को सार्वजनिक अवकाश की घोषणा

एआईएमआईएम के नेता असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि चुनाव एक मुद्दे पर नहीं लड़े जा सकते हैं। यूपी में योगी सरकार के गलत शासन पर जनता अपना वोट देगी, कोरोना की दूसरी लहर में जिस तरह से वह लापता हो गए हैं, वह अहम मुद्दा है। पेगासस जासूसी मामला गंभीर मुद्दा है, लेकिन और भी मुद्दे हैं जिसको लेकर सरकार से सवाल किया जाना चाहिए। इस वक्त देश बड़े आर्थिक उथालपुथल से गुजर रहा है, जिसकी वजह भाजपा सरकार है। वहीं सपा और बसपा दोनों का मानना है कि पेगासस मुद्दा ग्रामीण यूपी तक पहुंचान काफी मुश्किल है।

English summary
Opposition divided over the the pegasus issued wheather to go with it oe not.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X