• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

ऑपेरशन समुद्र सेतु: श्रीलंका में फंसे 700 भारतीयों को लेकर आज भारत पहुंचेगा आईएनएस जलाश्व

|

नई दिल्ली। नौसेना का युद्धपोत आईएनएस जलाश्व सोमवार को श्रीलंका की राजधानी कोलंबो पहुंच चुका है और सोमवार देर शाम ऑपेरशन समुद्र सेतु के तहत 700 भारतीयों को लेकर तमिलनाडु के तूतीकोरिन के लिए रवाना होगा। आईएनएस जलाश्व कोलंबों से तूतीकोरन के बीच करीब 256 किमी की दूरी करीब 10 घंटे में पूरी करेगा।

दिल्ली: 10 दिन में तैयार हुई दुनिया की सबसे बड़ी Covid-19 केयर फैसिलिटी के बारे में सबकुछ जानिए

ins

इससे पहले, आईएनस जलाश्व मालदीव में फंसे करीब 1286 भारतीयों को सुरक्षित कोच्चि ला चुकी है और सोमवार शाम कोलंबो से 700 भारतीयों को तूतीकोरन पहुंचाने के बाद एक बार फिर आईएनएस जलाश्व मालदीव के लिए रवाना की जाएगी और वहां फंसे 700 और भारतीयों को वापस स्वदेश लाने के लिए एक और ऑपरेशन को अंजाम देगी।

ins

लॉकडाउन: पाकिस्तान में फंसे 300 भारतीयों को स्वदेश लौटने की मिली अनुमति, आज अटारी-बाघा बार्डर से पहुंचेंगे भारत

गौरतलब है ऑपेरशन समुद्र सेतु के तहत भारत सरकार द्वारा शुरू किए अभियान में विदेशों में फंसे भारतीयों को लाने का काम शुरू किया गया था। मालदीव से 1286 भारतीयों को सकुशल स्वदेश पहुंचाने के बाद अब आईएनएस जलाश्व कोलम्बो से 700 और भारतीयों को लेकर तूतीकोरेन पहुंचेगा।

ins

वंदे भारत मिशन के दूसरे चरण में लाए जाएंगे विदेश में फंसे 1 लाख भारतीय

नौसेना पहले फेज में 1486 लोगों को माले से कोच्चि ला चुकी है। श्रीलंका और मालदीव में फंसे भारतीयों की स्वदेश वापसी की लिस्ट तैयार करते वक़्त गर्भवती महिलाओं, बच्चें और बुजुर्गों को प्राथमिकता दी गई है।

'अगर अभी लॉकडाउन हटाया गया तो दिसंबर तक भारत की 50% आबादी को हो सकता है कोरोना'

रिपोर्ट कहती है कि युद्धपोत INS जलाश्व में सफर करने वाले लोगों का पहले Covid-19 से जुड़ा मेडिकल टेस्ट होता है, जिसके बाद सफ़र के दौरान यात्रियों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह से पालन किया जाता है। युद्धपोत में डॉक्टरों की टीम और रोजमर्रा जरूरत के सारे समान होते हैं, जो यात्रियों को यात्रा के दौरान मुहैया कराए जाते हैं।

ins

698 भारतीयों को लेकर मालदीव से रवाना हुआ नौसेना का INS जलाश्व, कभी भी पहुंच सकता है भारत

उल्लेखनीय है कोलम्बो और मालदीव से स्वदेश लाए जाने के बाद भारतीय नौसेना यात्रियों को सीधे राज्य सरकार के सुपुर्द कर रही है, जिसके बाद राज्य सरकार कोरोनावायरस संचरण की रोकथाम से जुड़े प्रोटोकॉल का पालन करेगी। इसमें 14 दिनों का अनिवार्य क्वॉरेंटाइन प्रमुख है, जिनमें होम और कोविड केंद्र क्वॉरेंटाइन दोनों शामिल हैं।

Covid19 की चपेट में आए INS आंग्रे युद्धपोत के 21 कर्मी, नेवी ने कहा ऑपरेशन पर संक्रमण का असर नहीं

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
INS Jalashv will cover a distance of about 256 km from Colombo to Tuticorin in about 10 hours. Earlier, INS Jalashv has brought about 1286 Indians stranded in the Maldives safely to Kochi and once after transporting 700 Indians from Colombo to Tuticorin on Monday evening. Then INS Jalashv will be left for Maldives and will carry out another operation to bring back 700 more Indians trapped there.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more