• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

महाराष्ट्र में अब किस करवट बैठेगा ऊंट, पार्टियों में MLA खरीद-फरोख्त का बैठा डर!

|

बेंगलुरू। महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन की सिफारिश के बाद बीजेपी, शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस समेत सभी राजनीतिक दल अब बैक डोर से सत्ता तक पहुंचने की गणित से घबराई हुई हैं। सभी राजनीतिक दल अपने जीते हुए विधायकों पर नजर बनाए हुए है, क्योंकि महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए संख्याबल की जरूरत है। यही कारण है कि सभी राजनीतिक दल विधायकों की खरीद-फरोख्त से बचाने के लिए सतर्क हो गई हैं।

Horse trading

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019 के नतीजों में नंबर वन पार्टी बन कर उभरी बीजेपी ने एनडीए सहयोगी शिवसेना की नाजायज मांगों के चलते सबसे पहले सरकार गठन से अपना हाथ पीछे खींच लिया। इसके बाद सरकार गठन के लिए आगे शिवसेना भी सरकार गठन में फेल रही। फिर तीसरे नंबर की पार्टी एनसीपी को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया, लेकिन एनसीपी भी सरकार गठन में फेलियर साबित हुई, जिसके बाद राज्यपाल ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन की सिफारिश कर दी।

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में जनादेश बीजेपी और शिवसेना गठबंधन को मिला था, लेकिन तकरीबन 18 दिनों तक हाथ-पांव मारने के बाद भी दोनों दल सरकार गठन के लिए तैयार नहीं हो सकी। शिवसेना के 50-50 फार्मूले की जिद ने जनता के जनादेश का जनाजा निकाल दिया, जिससे महाराष्ट्र में थाली में परोस कर रखी गई सत्ता का स्वाद दोनों दलों के मुंह तक पहुंचते-पहुंचते रह गया।

Horse trading

माना जा रहा है कि आगामी विधानसभा चुनावों में दोनों दलों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। हालांकि पूर्व महाराष्ट्र सीएम देनेंद्र फड़णवीस ने जल्द ही स्थिर सरकार बनाने और नारायण राणे ने 145 विधायक जुटाने की बात कही है। इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि राष्ट्रपति शासन की सिफारिश के बाद महाराष्ट्र में अगले कुछ दिनों में क्या होने वाला है।

माना जा रहा है कि अब शिवसेना को अपने विधायकों को पार्टी में बनाए रखने की चुनौती पेश आने वाली है, क्योंकि अब तक शिवसेना के विधायक सत्ता मिलने के मोह में उद्धव ठाकरे के साथ मज़बूती से खड़े थे, लेकिन राष्ट्रपति शासन की सिफारिश ने सरकार गठन के आसार खत्म हो गए हैं। ऐसे में शिवसेना विधायक खरीद-फरोख्त के बाजार में सबसे बिकाऊ विधायकों की श्रेणी में पहुंच गए हैं और बीजेपी से बड़ा राजनीतिक खरीदार उनका कोई नहीं है। चूंकि यह मामला आर्थिक राजधानी मुंबई का है, तो यहां राजनीतिक निवेशकों की कोई कमी नहीं हैं।

Horse trading

कमोबेश यही हाल एनसीपी कुनबे के विधायकों का भी है, जो विधायकों के हॉट बाजार मे दूसरे सबसे बिकाऊ ट्रेंड कर रहे हैं। एनसीपी को विधानसभा चुनाव से पहले ही पार्टी छोड़कर बीजेपी में जाने वाले नेता पहले ही आघात पहुंचा चुके हैं। यही कारण है कि एनसीपी भी अपने विधायकों को लेकर सशंकित है कि कही सत्ता की लालच में उनके नवनिर्वाचित विधायक उन्हें छोड़कर बीजेपी में चले जाएं।

रही बात कांग्रेस की तो कांग्रेस को अभी हाल ही में कर्नाटक में इसका ताजा अनुभव कर चुकी है, जिससे कर्नाटक में 14 महीने पुरानी कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन धाराशाई हो चुकी है। अगर महाराष्ट्र में भी कांग्रेस के दो तिहाई विधायकों का हृदय परिवर्तन हो गया तो बीजेपी की सरकार महाराष्ट्र में बनने से कोई नहीं रोक सकेगा।

Horse trading

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि महाराष्ट्र में दोबारा चुनाव में जाने की ताकत बीजेपी को छोड़कर किसी भी दल में नहीं है और कोई भी दल चाहता भी नहीं है कि महाराष्ट्र में सत्ता के लिए दोबारा चुनावी कैंपेन में जाए। सभी दल चाहते हैं कि बैक डोर से ही सही, महाराष्ट्र में सरकार गठन में उसकी हिस्सेदारी हो।

सभी दल अच्छी तरह से जानते हैं कि चुनाव कितना खर्चीला होता है। हालांकि अपवाद रूप में बीजेपी को दोबारा चुनाव से ज्यादा फर्क नहीं पड़ने वाला हैं, क्योंकि उसके पास पैसे की कोई कमी नहीं और केंद्र और कुल 17 राज्यों में काबिज बीजेपी की सरकारों के चलते उन्हें निवेशक ढूंढने में भी अधिक परेशानी नहीं होगी।

Horse trading

यही कारण है कि सभी दल, जिसमें बीजेपी भी शामिल है महाराष्ट्र में दोबारा विधानसभा चुनाव टालने के लिए वैकल्पिक रास्ता अपनाती दिख रही है। माना जा रहा है क राष्ट्रपति शासन के दौरान ही सभी राजनीतिक दल महाराष्ट्र में सरकार गठन की संभावनाओं को तलाशते की कोशिश करेंगी।

इस बीच अगर कोई भी गठबंधन संख्याबल जुटाने में कामयाब रही तो राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के समक्ष सरकार बनाने का दावा राज्यपाल के समक्ष पेश कर देगा, लेकिन सवाल अब भी वही है कि कौन बाजी मार सकता है और किसमें पाला बदलने विधायकों को इंटरटेन करने की अधिक ताकत है और जवाब सिर्फ एक है बीजेपी?

Horse trading

इसमें कोई दो राय नहीं है कि बीजेपी से बड़ी खरीदार महाराष्ट्र में कोई नहीं है, जिससे शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस तीनों पार्टियां डरी हुई हैं, क्योंकि इन तीनों दलों को अपने विधायकों को टूटने से बचाने की चुनौती है। तीनों पार्टियां जानती हैं कि अगर उनके विधायकों के सामने बड़ा ऑफर आया तो उससे नज़रें फिराने से विधायकों को तीनों दल रोक नहीं पाएंगे, क्योंकि सत्ता में काबिज होने का लालच उन्हें नैतिकता और पार्टी के वसूलों से अधिक देर तक रोक पाएंगी और वैसे भी कहा जाता है कि राजनीति में कोई भी किसी का सगा नहीं होता है।

Horse trading

फर्ज कीजिए राष्ट्रपति शासन के दौरान भी कोई भी दल सरकार गठन में नाकाम रहती है तो अगले विधानसभा चुनाव में बीजेपी और शिवसेना गठबंधन होने से रहा और बीजेपी अकेल ही चुनाव में उतरेगी। दूसरी ओर, स्थानीय मराठी दल शिवसेना और एनसीपी गठबंधन करके चुनाव में उतर सकती है।

लेकिन बहुत मुश्किल है कि कांग्रेस और शिवसेना चुनाव पूर्व गठबंधन करके चुनावी मैदान में उतरेंगी। इसके लिए न ही शिवसेना तैयार होगी और न ही कांग्रेस गठबंधन करना चाहेगी। वैसे राजनीति में बेमेल गठबंधन की एक पूरी फेहरिस्त है, जहां सत्ता के लिए सिद्धांत गौढ़ हो गए।

Horse trading

मौजदूा दौर में ऐसे अनेकों उदाहरण हमारे बीच मौजूद हैं जब महज सत्ता के लिए परस्पर विरोधी पार्टियां एकदूसरे से गलबहियां करती हुईं दिखी। इनमें सबसे ताजा उदाहरण बीएसपी और सपा गठबंधन है, जिन्होंने सत्ता के लिए 30 वर्ष पुरानी दुश्मनी को भुलाकर लोकसभा चुनाव 2019 में एक साथ यूपी में उतरी। ऐसे ही परस्पर विरोधी गठबंधन में बीएसपी-बीजेपी, पीडीपी-बीजेपी और हिंदू महासभा-मुस्लिम लीग का गिनाया जा सकता है, जो महज सत्ता के लिए किया गया था। इसलिए मेल और बेमेल गठबंधन की बहस करना ही बेकार है।

महाराष्ट्र: सरकार गठन के लिए कांग्रेस को मनाने में जुटे शिवसेना प्रमुख, NCP ने टाली बैठक

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
After the imposition of President's rule in Maharashtra, the entire political party of Maharashtra came out in fear of horse trading. Although the BJP and Shiv Sena alliance won a majority from the people of Maharashtra by winning 161 seats, the Maharashtra Assembly with 288 seats requires only 145 seats for a majority.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more