बीजेपी MLA के प्‍यार में पागल जाहिदा डेट के बाद संभाल कर रखती थी यूज्‍ड कंडोम

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

भोपाल। अकसर ऐसा देखा गया है कि जिसे आप बेहद प्‍यार करते हों उसके साथ बिताए हर लम्‍हे को संजो कर रखना चाहते हैं। चाहें वो फिल्‍म देखने के बाद फिल्‍म की टिकट हो या फिर रेस्‍टोरेंट में खाना खाने के बाद रेस्‍टोरेंट का बिल। लेकिन क्‍या आपने कभी ऐसा सुना कि कोई अपने पार्टनर के साथ डेट के बाद उसके यूज्‍़ड कंडोम को संभाल कर रखता हो। शायद नहीं, लेकिन RTI एक्टिविस्ट शहला मसूद के मर्डर की सुपारी देने वाली जाहिदा परवेज ऐसा करती थी। वो बीजेपी एमएलए ध्रुवनारायण सिंह के प्यार में इस कदर दीवानी थी कि वह उसके इस्तेमाल किये गए कंडोम को भी संजोकर प्लास्टिक के पाउच में रखती थी।

बीजेपी MLA के प्‍यार में पागल जाहिदा डेट के बाद संभाल कर रखती थी यूज्‍ड कंडोम

इतना ही नहीं वो प्लास्टिक पैक के ऊपर उसको यूज करने की तारीख भी लिखती थी। इसके अलावा वो शारीरिक संबंध बनाने की जगह और उस पल का अनुभव भी लिखती थीं। डेली भाष्‍कर डॉट कॉम में प्रकाशित खबर के मुताबिक CBI के तत्कालीन संयुक्त निदेशक केशव कुमार के नेतृत्व में एक टीम ने 29 फरवरी 2012 को जाहिदा परवेज के दफ्तर पर दबिश दी थी। इस दौरान सीबीआई को आर्किटेक्चर कंपनी चलाने वाली जाहिदा के आफिस से पर्सनल डायरी मिली थी। पढ़े:फेसबुक पर हुआ इश्‍क, शादी का वादा कर विदेशी महिला से बनाया अप्राकृतिक संबंध 

इसी डायरी से पूरा केस खुला। जाहिदा की डायरी में शहला की हत्या वाले दिन 16 अगस्त 2011 को लिखा गया था,'उसे उसके घर के सामने गोली मार दी गई। मैं सुबह से ही परेशान थी। अली (साकिब अली 'डेंजर', जिसने भाड़े के हत्यारों को हत्या का काम सौंपा था) ने 11:15 बजे फोन किया कि मुबारक हो साहब हमने उसके घर के सामने काम कर दिया। हत्या की पुष्टि के लिए मैंने अपने एक कर्मचारी को शहला के घर भेजा। उसके बाद मुझे सुकून मिला।'

जाहिदा परवेज

सीबीआई को डायरी में ही कंडोम के रैपर मिले। रैपर के अंदर यूज्‍ड कंडोम थे जिसपर तारीख लिखा गया था। इस रैपर के साथ डायरी के एक पन्‍ने पर लिखा हुआ था। on August 6, 2011 "We met in evening. Had blasting sex. We had sex in the office."। जरूर पढ़ें- प्रेमी की आंखों पर पट्टी बांधकर गर्लफ्रेंड ने दिया ऐसा सरप्राइज, जिंदगी भर रहेगा याद

मिली उम्रकैद की सजा

CBI की इंदौर स्थित स्पेशल कोर्ट ने शनिवार को फैसला सुना दिया। दोषी जाहिदा परवेज, सबा फारुकी, क्रिमिनल शाकिब डेंजर और शूटर ताबिश को उम्रकैद की सजा सुनाई गई। एक अन्य आरोपी इरफान को जुर्म कबूलने करने और जांच में मदद करने के लिए बरी कर दिया गया।

बीजेपी MLA से डेट के बाद यूज्‍ड कंडोम संभाल कर रखती थी जाहिदा

जाहिदा ने क्‍यों करवाई हत्‍या

जाहिदा के बार-बार मना करने के बाद भी ध्रुव जब शहला से अलग नहीं हुए तो जाहिदा ने तय कर लिया था कि वो शेहला को खत्म कर देगी। इसका जिक्र जाहिदा की डायरी में भी है। जाहिदा ने शाकिब डेंजर को शेहला की हत्या का अपना इरादा बताया। शाकिब ने कानपुर के इरफान और ताबिश से संपर्क कर हत्या का सौदा तय किया। शाकिब ने ही इरफान और ताबिश को शहला की हत्या के लिए पल्सर बाइक औैर देशी कट्‌टा मुहैया कराया। साथ ही दो दिन तक शहला के घर की रेकी भी करवाई।

साल 2000 एक दूसरे के करीब आए थे ध्रुव और शहला

ध्रुव के साथ शहला के संबंध 2000 से थे। उस समय वह अपनी पहली इवेंट कंपनी मिरेकल्स खोलने के लिए दिल्ली से भोपाल लौटी थी। उसने जामिया मिल्लिया इस्लामिया से जनसंचार का पाठ्यक्रम पूरा करने के बाद दिल्ली में अमिताभ बच्चन कॉर्पोरेशन लिमिटेड के साथ काम करते हुए इवेंट मैनेजमेंट का अनुभव हासिल किया था। कहा जाता है कि 2003 और 2007 के बीच भोपाल विकास प्राधिकरण के चेयरमैन के रूप में ध्रुव ने शहला के बिजनेस में मदद की थी।

कौन थी शहला मसूद

  • शहला RTI एक्टिविस्ट थीं। इसी से जुड़ा एनजीओ चलाती थीं। 
  • शहला ने 200 से ज्यादा आरटीआई अर्जियां दायर की थीं। वे अन्‍ना हजारे के इंडिया अगेन्स्ट करप्शन मूवमेंट से जुड़ी थीं।
  • शहला एन्वायर्नमेंटलिस्ट थीं और इवेंट मैनेजमेंट कंपनी चलाती थीं। 
  • उनके पिता सुल्तान मसूद रिटायर्ड गवर्नमेंट ऑफिसर हैं।
देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
CBI found a diary that exposed the sordid details of Zahida's sexual encounters with Singh, a graphic CD recording, used condoms preserved in plastic packets with the date, and a lock of hair, also in a plastic packet.
Please Wait while comments are loading...