• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

फिलहाल ट्रेनों और उड़ानों की बहाली नहीं, जानिए क्या है लॉकडाउन 2 से निकलने की सरकार की योजना?

|

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने अभी तक कोरोनो वायरस लॉकडाउन को 3 मई के बाद बढ़ाने की चर्चा शुरू नहीं की है। सूत्रों की मानें तो लॉकडाउन प्रतिबंधों में मिलने वाली संभावित छूट सशर्त होगी। सूत्र के हवाले से कहा गया है कि सरकार के लिए अभी यह संभव नहीं था कि ट्रेन और उड़ान सेवाएं 3 मई के बाद जल्द ही शुरू कर दी जाएं। हालांकि शहर के भीतर यात्रा के लिए अनुमति दी जा सकती है।

जानिए, कितनी होगी उस वैक्सीन की कीमत, जिसे कोरोना के खिलाफ तैयार कर रहा सीरम इंस्टीट्यूट

lockdown

बताया गया है कि सरकार मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग को आम जीवन का हिस्सा बनाने जा रही हैं और घरों से बाहर निकलने के इच्छुक लोगों के लिए मास्क अनिवार्य कर सकती है। सरकार ने अभी तक विवाह और धार्मिक कार्यों के दौरान जुटने वाली भीड़ को अनुमति के लिए कोई योजना भी नहीं बनाई गई है। आवश्यक चीजों की बिक्री वाली दुकानों का संचालन जारी रहेगा, लेकिन उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा।

lockdown

पीएम मोदी ने कब-कब जवानों के बीच पहुंचकर सबको चौंकाया ?

मुंबई की इन दो झुग्गियों में मलेरिया रोधी दवा HCQ का परीक्षण कर सकता है प्रशासन?

कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए तत्पर सरकार द्वारा देश में विभिन्न क्षेत्रों में नियमित अंतराल पर मूल्यांकन करने की संभावना है। संभावना व्यक्त की गई है कि सरकार चिन्हित ग्रीन जोन वालों को कुछ छूट दिया जाएगा, जबकि रेड जोन में छूट वहां की स्थिति के आकलन के अनुसार दिया जाएगा।

lockdown

Coronavirus: जानिए कैसे काम करती है ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन और क्या हैं उसके साइड इफेक्ट्स?

गौरतलब है मुंबई, दिल्ली, नोएडा और इंदौर उन क्षेत्रों में से हैं, जहां सरकार 3 मई के बाद अधिक ध्यान देगी, क्योंकि उपरोक्त शहरों में कोरोना वायरस संक्रमित मामलों की संख्या तेजी से बढ़ी है। हालांकि सरकार की राय है कि भारत में स्थिति का सही विश्लेषण 15 मई के बाद ही किया जा सकता है।

lockdown

Covid19 लॉकडाउन का बड़ा असर, 22 साल के निचले स्तर पर तेल की कीमत!

मालूम हो, गत मंगलवार को भारत में Covid-19 मामलों ने 18,000 का आंकड़ा पार कर लिया है जबकि मरने वालों की संख्या बढ़कर 590 हो गई है। महामारी के प्रसार को रोकने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गत 24 मार्च को दुनिया में सबसे सख्त लॉकडाउन में से एक देश में लागू किया था।

lockdown

हालांकि गत 20 अप्रैल से कुछ प्रतिबंधों में धीरे-धीरे ढील दी गई, क्योंकि कठोर उपायों ने देश की अर्थव्यवस्था को काफी पीछे ढकेल दिया है, जिसने भारत के सबसे गरीब तबके को सबसे गंभीर चोट पहुंचाई है।

इन 3 प्रदेशों के 50% से अधिक लाभार्थियों तक नहीं पहुंचा लॉकडाउन राहत, जानिए कौन हैं ये प्रदेश?

कर्नाटक और तमिलनाडु गत सोमवार को चौथे और पांचवें राज्य बन गए, जिन्होंने 3 मई तक लॉकडाउन प्रतिबंधों में ढील देने के विकल्प नहीं चुना और इस मामले केंद्र सरकार के दिशा-निर्देशानुसार धीरे-धीरे देश को फिर से खोलने और सोमवार से अर्थव्यवस्था को को रीबूट करने जा रही है। जबकि तेलंगाना, पंजाब और दिल्ली ने रविवार को घोषणा की है कि वे लॉकडाउन में कोई ढील नहीं देंगे।

lockdown

हालांकि स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों से पता चलता है कि नए संक्रमणों की दर कम हो गई है। विशेषज्ञों ने कहा है कि आंकड़ों से बहुत कुछ आंकना मुश्किल है, क्योंकि पिछले पखवाड़े में परीक्षण के विस्तार के बावजूद भारत ने अपनी आबादी का केवल एक सीमित अनुपात का परीक्षण किया है।

जानिए, लॉकडाउन के दौरान भारत में कितनी बढ़ी है इंटरनेट की खपत? हैरतअंगेज हैं आंकड़े!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
The government is going to make masks and social distancing a part of common life, as the government can make masks mandatory for those wanting to move out of homes. The government has not yet made any plans to allow crowds gathering during marriages and religious functions. Although shops selling essential items will continue to operate, they will have to follow social distancing norms.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more