• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Coronavirus: केवल जिंदगी ही नहीं, यह व्यापार और उद्योग के लिए भी आपदा बन गई है!

|

बेंगलुरू। चीन के वुहान शहर से फैले घातक कोरोनावायरस के संक्रमण से अब तक दुनिया में करीब 3100 से अधिक लोगों की मौत हो गई है और 91700 से अधिक संक्रमित हैं। कुल 70 देशों में फैले कोरोनावायरस से अकेले चीन में अब तक इस जानलेवा कोरोनावायरस की वजह से 2981 लोगों की मौत हो चुकी है।

corona

चीन के बाद दक्षिण कोरिया में मंगलवार को एक दिन में सबसे ज्यादा 851 मामले सामने आए और इटली कोरोना संक्रमित 79 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है जबकि वहां 2502 लोगों में संक्रमण के चपेट में होने की बात कही जा रही हैं। वहीं, अमेरिका भी अछूता नहीं रह सका है और वहां संक्रमित लोगों के मौतों का आंकड़ा 9 पर पहुंच चुका है और करीब 100 लोग अभी भी इससे संक्रमित हैं।

CoronaVirus: बाजार में खड़ा शख्स 15 सेकंड में कोरोनावायरस से संक्रमित हो गया, जानिए कैसे?

corona

गौरतलब है वैश्विक रूप से फैलते जा रहे कोरोनावायरस के संक्रमण से मरने वाले लोगों में 95 फीसदी मरीज चीनी हैं, जहां रोजाना वहां नए-नए मामले सामने आ रहे हैं। सबसे हैरानी वाली बात यह रही कि ईरान में 77 कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों की मौत हैं, जिसकी सरहद भी चीन की सीमा से नहीं लगी हुई है।

corona

ईरान के आम नागरिक ही नहीं, बल्कि ईरानी संसद के 23 सदस्य भी इसकी चपेट में हैं। हालांकि डिप्टी हेल्थ मिनिस्टर और वाइस प्रेसीडेंट के भी कोरोनावायरस की चपेट में आने की खबरें भी सुर्खियां बनीं थीं। बताया जा रहा है कि अब तक ईरान में 2330 लोगों में कोरोनावायरस की पुष्टि हो चुकी है, जो खुद में एक आश्चर्य है।

corona

क्योंकि चीन से कई सीमाओं से सटे भारत में कोरोनावायरस संक्रमित लोगों की संख्या ईरान की तुलना में बेहद कम है, जो एक सुखद आश्चर्य कहा जा सकता है। भारत में भी अब तक 6 लोगों में कोरोनावायरस की पुष्टि हो चुकी है। हालांकि, इनमें से केरल में 3 लोगों को इलाज के बाद उनके घर भेज दिया गया है, जबकि बाकी को आइसोलेशन में रखा है और इलाज चल रहा है।

corona

हालांकि हाल ही में इटली से 21 लोगों के साथ आए एक शख्स में भी कोरोनावायरस की पुष्टि हुई थी और अब इन 21 लोगों में से भी 15 लोग कोरोनावायरस से संक्रमित पाए गए हैं।

corona

उल्लेखनीय है कोरोनावायरस के कहर से ज्यादातर सामानों के महंगा होने की खबरें ही सुनने में आ रही हैं, लेकिन कोरोना की वजह से कई देशों को सप्लाई की जाने वाली कई चीजें का एक्सपोर्ट भी लगभग थम गया है, लिहाजा डिमांड के मुकाबले सप्लाई बढ़ने से इनकी कीमतों में कमी दर्ज की जा रही है जबकि एक्सपोर्ट की किल्लत के चलते अन्य देशों डिमांड बढ़ने से कीमतें तेजी से उछाल मार रहीं हैं।

corona

कहा जा रहा कि उपरोक्त सामानों में खाने पीने से लेकर पहनने-ओढ़ने तक के आइटम्स शामिल हैं। यहां तक की घूमने फिरने के लिए भी अब लोगों को कम खर्च करना पड़ रहा है। कोरोना के असर से सबसे ज्यादा कमी कच्चे तेल की कीमतों में आई है। इसके असर से भारत में भी पेट्रोल-डीजल के दाम काफी कम हुए हैं।

CoronaVirus: जानिए सबकुछ, संक्रमित व्यक्ति के लक्षण, संक्रमण से बचाव और उनके उपचार!

3 मार्च तक पेट्रोल की कीमत 4 रुपये 46 पैसे प्रति लीटर कम हो चुकी हैं

3 मार्च तक पेट्रोल की कीमत 4 रुपये 46 पैसे प्रति लीटर कम हो चुकी हैं

12 जनवरी को कोरोना वायरस के फैलने की खबर सार्वजनिक हुई थीं. इसके बाद से 3 मार्च तक पेट्रोल की कीमत 4 रुपये 46 पैसे प्रति लीटर कम हो चुकी हैं। वहीं डीजल भी 5 रुपये 8 पैसे कम हो गई हैं। यानी गाड़ी चलाना बीते करीब 2 महीनों में पहले के मुकाबले सस्ता हुआ है। यही नहीं, अगर कोरोना वायरस के असर को कंट्रोल नहीं किया गया तो फिर कीमतों में और भी गिरावट आ सकती है, लेकिन ये गिरावट अर्थव्यवस्था में सुस्ती आने के चलते आएगी जो किसी भी लिहाज से खुशखबरी नहीं है।

इंटरनेशनल टूरिज्म कोरोना की वजह से 30 फीसदी प्रभावित हुआ है

इंटरनेशनल टूरिज्म कोरोना की वजह से 30 फीसदी प्रभावित हुआ है

कोरोना वायरस के कहर घूमने फिरने वालों के लिए कम दाम में टूर पैकेज मिल रहे हैं। कह सकते हैं कोरोना वायरस की चपेट में खासकर अंतर्राष्ट्रीय टूर एंड ट्रेवल बिजनेस सबसे अधिक प्रभावित हुआ है। इंटरनेशनल टूरिज्म कोरोना की वजह से 30 फीसदी तक सस्ता हो गया है।

खाद्य तेल की कीमतों में भी 10 परसेंट की गिरावट का अनुमान है

खाद्य तेल की कीमतों में भी 10 परसेंट की गिरावट का अनुमान है

इसके अलावा खाद्य तेल की कीमतों में भी 10 परसेंट की गिरावट का अनुमान है। भारत में 235 लाख टन की सालाना खपत का 70 फीसदी आयात किया जाता है। सोयाबीन, कॉटन और बासमती की कीमतें भी बीते दिनों में 10 फीसदी कम हुई हैं। इसके लिए भी कोरोना वायरस को ही जिम्मेदार ठहराया जा रहा है।

भारत से चीन को रूई और धागे का निर्यात बिल्कुल ठप पड़ गया है

भारत से चीन को रूई और धागे का निर्यात बिल्कुल ठप पड़ गया है

कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते भारत से चीन को रूई और धागे का निर्यात ठप पड़ गया है और कपड़ा उद्योग में इस्तेमाल होने वाला रासायनिक पदार्थ व एसेसरीज आइटम का आयात नहीं हो रहा है, जिससे घरेलू कपड़ा उद्योग पर असर पड़ा है। कारोबारी बताते हैं कि चीन से केमिकल्स और एसेसरीज आइटम का आयात नहीं होने से घरेलू कपड़ा उद्योग की लागत बढ़ गई है, जिससे आने वाले दिनों कपड़ा महंगा हो सकता है।

ठप पड़ा बोधगया टूरिज्म सेक्टर, लगभग 80 फीसदी बुकिंग हुईं रद्द

ठप पड़ा बोधगया टूरिज्म सेक्टर, लगभग 80 फीसदी बुकिंग हुईं रद्द

कोरोना वायरस का प्रकोप बोधगया टूरिज्म के प्रत्येक सेक्टर पर बेहद नकारात्मक असर पड़ा है। होटल, ट्रैवल व टूर ऑपरेटर, गाइड, दुकानें सभी इससे प्रभावित है। बोधगया में दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों से ज्यादा श्रद्धालु व टूरिस्ट आते हैं। श्रीलंका, थाइलैंड, वियतनाम व हांगकांग के टूरिस्ट अपनी बुकिंग कैंसिल कराने लगे हैं। चीन के टूरिस्ट भी नहीं आ रहे। इससे जुड़े लोगों का कहना है कि सभी सेक्टर मिलाकर लगभग पांच करोड़ से अधिक का नुकसान हुआ है।

चीन को एक सप्ताह में हुआ करीब 140 बिलियन डॉलर का नुकसान

चीन को एक सप्ताह में हुआ करीब 140 बिलियन डॉलर का नुकसान

चीन को कोरोना वायरस की वजह से 140 बिलियन डॉलर का नुकसान उठाना पड़ा है वो भी मात्र एक सप्ताह के भीतर में। दरअसल चीन में लूनर न्यू ईयर के बाद आमतौर पर लोग अपने दोस्तों, सहकर्मियों और परिवार के सदस्यों के साथ छुट्टी मनाने निकलते हैं। लेकिन कोरोना वायरस जो कि संक्रामक बीमारी है, जिसका असर लोगों के बिजनेस पर पड़ गया।

बुरी तरह प्रभावित हुआ पोल्ट्री बिजनेस, दामों में 70 फीसदी गिरावट

बुरी तरह प्रभावित हुआ पोल्ट्री बिजनेस, दामों में 70 फीसदी गिरावट

जानकारों का कहना है कि जनवरी के पहले हफ्ते से लेकर फरवरी अंत तक के बीच में चिकन की मांग में आधे से ज्यादा की कमी आ गई है। इसके अलावा चिकन के दामों में 70 प्रतिशत से ज्यादा की कमी आ गई है। मामले से जुड़े एक अधिकारी का बताया कि थोक मंडी में चिकन के दामों में 70 प्रतिशत तक की गिरावट दर्ज की गई है। इसकी वजह से 100 रुपए प्रति किलो में बिकने वाला चिकन अब 35 रुपये में मिल रहा है।

 टेलीविजन, एयर कंडीशनर, फ्रिज और स्मार्टफोन के बढ़ सकते हैं दाम

टेलीविजन, एयर कंडीशनर, फ्रिज और स्मार्टफोन के बढ़ सकते हैं दाम

कोरोना वायरस संकट के चलते टेलीविजन, एयर कंडीशनर, रेफ्रिजरेटर और कुछ स्‍मार्टफोन मॉडलों के दाम बढ़ सकते हैं। कंपनियां कोरोना वायरस प्रभावित चीन से आयात होने वाले कंपोनेंटों और फिनिश्‍ड प्रोडक्‍टों की कमी से जूझ रही हैं।

टीवीएस मोटर कंपनी की दुपहिया वाहन बिक्री फरवरी में 15 फीसदी गिरी

टीवीएस मोटर कंपनी की दुपहिया वाहन बिक्री फरवरी में 15 फीसदी गिरी

टीवीएस मोटर कंपनी के मुताबिक फरवरी 2020 में उसकी दुपहिया वाहन बिक्री एक साल पहले इसी माह के मुकाबले 15.39 प्रतिशत घटकर 2,53,261 वाहन रह गई। इसकी वजह कंपनी कोरोना वायरस को बता रही हैं। कंपनी के मुताबिक BS-IV वाहनों की बिक्री में कमी आने और कोरोना वायरस फैलने की वजह से कलपुर्जों की आपूर्ति प्रभावित होने से उसकी बिक्री कम हुई है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Most of the items have been reported to be expensive due to the corona virus havoc. However, due to the corona, the exports of many things supplied to many countries have almost come to a standstill, due to which the prices are being reduced due to increase in supply against the demand, whereas due to lack of exports, the imported goods in other countries There is a sharp rise in prices due to shortage.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X