• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

'ना का मतलब ना, कुछ पुरुषों को ये समझ नहीं आता', हिमाचल HC ने रेप आरोपी की जमानत याचिका की खारिज

|

शिमला, 6 मई। हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय ने रेप के एक आरोपी की जमानत पर सुनवाई करते हुए सख्त टिप्पणी की है। कोर्ट ने कहा कि एक लड़की की ना का मतलब ना है। ये सामान्य सी बात कुछ पुरुषों के लिए समझ पाना सबसे मुश्किल हो गया है। इसके साथ ही कोर्ट ने बलात्कार के आरोपी की जमानत याचिका खारिज कर दी।

2018 में आरोपी को किया था गिरफ्तार

2018 में आरोपी को किया था गिरफ्तार

आरोपी सुरेश कुमार को 18 दिसम्बर 2018 को गिरफ्तार किया गया था। उस पर हिमाचल के राजगढ़ क्षेत्र में 17 दिसम्बर 2018 को 17 वर्षीय किशोरी के साथ बलात्कार करने का आरोप है। किशोरी ने उससे लिफ्ट मांगी थी लेकिन वह उसे गंतव्य पर पहुंचाने की जगह एक सुनसान जगह पर ले गया है जहां पर उसने विरोध के बावजूद उसके साथ रेप किया। शिकायत मिलने पर आरोपी को गिरफ्तार किया गया था और तब से वह जेल में है। आरोपी ने हाईकोर्ट में जमानत के लिए याचिका डाली थी जिस पर बुधवार को जस्टिस अनूप चितकारा ने सुनवाई की।

'न का मतलब सिर्फ न, कुछ और नहीं'

'न का मतलब सिर्फ न, कुछ और नहीं'

याचिका को खारिज करते हुए जस्टिस अनूप चितकारा ने अपने फैसले में कहा, "न का मतलब न है - इस सबसे आसान वाक्य को कुछ पुरुषों के लिए समझना सबसे मुश्किल हो गया है। 'नहीं' का मतलब 'हाँ' नहीं है, इसका मतलब यह नहीं है कि लड़की शर्मीली है। इसका मतलब यह नहीं है कि लड़की किसी पुरुष को समझाने के लिए कह रही है। इसका मतलब यह नहीं है कि उसे उसका पीछा करते रहना है। इस 'नहीं' को किसी और स्पष्टीकरण या औचित्य की आवश्यकता नहीं है। यह अपने आप में पूरा है और आदमी को रुकना पड़ता है। जैसे इस मामले में पीड़िता ने आरोपी को न कहा जब उसने उसे छूना शुरू किया, बावजूद इसके उसने यह जारी रखा। इसका मतलब कहीं भी सहमति और उत्साह बढ़ाने या रोमांटिक प्रेम में एक दूसरे को पाने और महसूस करने की इच्छा नहीं है।"

कोर्ट ने आगे कहा "विरोध का न होना और अपनी अनिच्छा जाहिर करने का मतलब किसी भी भाषा में सहमति नहीं है। उसने आरोपी को स्पष्ट रूप से 'नहीं' कहा, लेकिन वह नहीं रुका। जब पाठ्यक्रम में उचित यौन शिक्षा शामिल नहीं है, तो ऐसे समाजों द्वारा उठाए गए बच्चे महिलाओं को बार-बार असफल करते हैं।"

अदालत ने यह भी कहा कि पीड़िता ने अपनी मां को घटना को स्वेच्छा से सुनाया और घटना की सच्चाई के बारे में बताया।

पीड़िता को कोर्ट ने बताया साहसी

पीड़िता को कोर्ट ने बताया साहसी

उन्होंने कहा, "यह कहना सही होगा कि पीड़िता की अपनी मां के साथ हुई दुर्भाग्यपूर्ण घटना के बारे में बात करना साहसी था और बाद में पुलिस में भी रिपोर्ट की। इसके अलावा वैज्ञानिक सबूत पीड़ित की अंडरवियर पर रक्त और वीर्य की उपस्थिति की ओर इशारा करते हैं। इसमें यह भी कहा गया है कि उसके शरीर पर कोई शारीरिक चोट नहीं पाई गई। जैसा कि पीड़िता ने धारा 164 सीआरपीसी के बयान में कहा था कि उसने आरोपी के साथ सेक्स के लिए 'ना' कहा था, और आरोपी ने उसे रोने के लिए नहीं कहा वरना वह उसके साथ जबरदस्ती करने पर मजबूर होगा।

कोर्ट ने कहा एकांत क्षेत्र में धमकी और जबरदस्ती की ऐसी परिस्थितियों में पीड़िता को आरोपी के साथ सहयोग करने के लिए मजबूर किया गया। उसके शरीर पर शारीरिक चोटों की अनुपस्थिति और वीर्य की उपस्थिति असुरक्षित यौन संबंध का संकेत देती है।

सुप्रीम कोर्ट ने रद्द किया मराठा आरक्षण, उद्धव बोले- आरक्षण के लिए कानून लाएं पीएम मोदीसुप्रीम कोर्ट ने रद्द किया मराठा आरक्षण, उद्धव बोले- आरक्षण के लिए कानून लाएं पीएम मोदी

English summary
no means no most difficult to understand for some men says himachal high court
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X