• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

निर्भया के दरिंदों को फांसी देने की तैयारी देख सहमा तिहाड़ में बंद अंडरवर्ल्ड डॉन, कहा- ऐसे...

|

नई दिल्ली। निर्भया गैंगरेप-मर्डर केस में पटियाला हाउस कोर्ट ने सभी चारों दोषियों को 22 जनवरी को सुबह 7 बजे फांसी देने का आदेश दिया है। निर्भया गैंगरेप-मर्डर केस में चारों दोषियों को मौत की सजा सुनाई गई थी। कोर्ट द्वारा डेथ वारंट जारी किए जाने के बाद तिहाड़ जेल में फांसी देने की प्रक्रिया तेज हो चुकी है। निर्भया के गुनहगारों को जेल नंबर 3 में फांसी के फंदे पर लटकाया जाना है। रविवार को तिहाड़ जेल में फांसी का डमी ट्रायल भी किया गया था। निर्भया के दरिंदों को फांसी पर लटकाए जाने का हर कोई इंतजार कर रहा है। वहीं, जेल में बंद अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन के बैरक में दशहत का माहौल है।

छोटा राजन के बैरक में दहशत का माहौल

छोटा राजन के बैरक में दहशत का माहौल

निर्भया के दोषियों को फांसी पर लटकाने की तैयारी तिहाड़ जेल में शुरू हो चुकी है। फांसी का डमी ट्रायल पहले ही हो चुका है, यूपी की जेलों से जल्लाद भी बुलाए गए हैं जबकि रस्सियां भी मंगा ली गई हैं। पटियाला हाउस कोर्ट द्वारा जारी डेथ वारंट के मुताबिक, 22 जनवरी को सुबह सात बजे चारों दरिंदों को फांसी के फंदे पर लटकाया जाना है। जबकि सूत्रों के मुताबिक, छोटा राजन ने निर्भया के दोषियों के बारे में जानकारी लेने की कोशिश की है। छोटा राजन जेलकर्मियों से फांसी दिए जाने के बारे में जानकारी लेने की कोशिश कर रहा है।

ये भी पढ़ें:निर्भया केस: दो दोषियों मुकेश और विनय की क्यूरेटिव पिटीशन को सुप्रीम कोर्ट ने किया खारिजये भी पढ़ें:निर्भया केस: दो दोषियों मुकेश और विनय की क्यूरेटिव पिटीशन को सुप्रीम कोर्ट ने किया खारिज

हाई-प्रोफाइल कैदी लेना चाहते हैं जानकारी

हाई-प्रोफाइल कैदी लेना चाहते हैं जानकारी

सूत्रों के मुताबिक, वह अखबार के जरिए इस केस और दोषियों को फांसी दिए जाने की प्रक्रिया के बारे में जानने का प्रयास कर रहा है। जबकि बताया जा रहा है कि कुछ अन्य हाई प्रोफाइल कैदी भी निर्भया केस के दोषियों को फांसी दिए जाने के प्रक्रिया की जानकारी लेने का प्रयास कर रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक, इन हाई प्रोफाइल कैदियों का मानना है कि ऐसे अपराधियों को फांसी होनी ही चाहिए। हाई सिक्योरिटी सेल में बंद पूर्व सांसद शहाबुद्दीन और नीरज बवानिया ने भी जेल कर्मियों से इस बारे में जानने की कोशिश की है। जेल अधिकारियों का कहना है कि निर्भया के दोषियों और अन्य हाई प्रोफाइल कैदियों की मुलाकात नहीं हो सकती है क्योंकि गैंगरेप-मर्डर के दोषियों को कसूरी वार्ड में कड़ी सुरक्षा के बीच रखा गया है।

कसूरी सेल में बंद हैं तीन दोषी

कसूरी सेल में बंद हैं तीन दोषी

बताया जा रहा है कि कसूरी सेल और हाई सिक्योरिटी सेल के बीच कुछ दूरी है लेकिन जब से इनको भनक लगी है कि निर्भया के दोषी इसी जेल में हैं, उसके बाद से इन हाई प्रोफाइल कैदियों की उत्सुकता बढ़ी हुई है। बता दें कि तीन दोषियों मुकेश, पवन और अक्षय को कसूरी सेल में रखा गया है। जबकि छोटा राजन समेत अन्य हाई प्रोफ्राइल कैदी इसी जेल के हाई सिक्योरिटी सेल में रखे गए हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की क्यूरेटिव पिटीशन

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की क्यूरेटिव पिटीशन

बता दें कि 16 दिसंबर, 2012 को दिल्ली में चलती बस में 6 दरिंदों ने निर्भया से दरिंदगी की थी और उसके बाद उसे बस से नीचे फेंक दिया था। आरोपियों में एक नाबालिग भी था, जिसे जुवेनाइल कोर्ट में पेश किया था, जबकि एक ने तिहाड़ जेल में आत्महत्या कर ली थी। चार में से दो दोषियों मुकेश और विनय ने सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन दायर की थी, जिसे पांच जजों की बेंच ने खारिज कर दिया।

English summary
Nirbhaya case: underworld don chhota rajan and prisoners want to know the process of execution
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X