• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Nirbhaya Case: डेथ वारंट के खिलाफ सुनवाई आज, निर्भया की मां ने कही बड़ी बात

|

नई दिल्ली। पटियाला हाउस कोर्ट की ओर से निर्भया के दोषियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी हो चुका है, जिसके बाद चारों गुनाहगारों मुकेश, विनय शर्मा, अक्षय सिंह और पवन गुप्ता को 22 जनवरी की सुबह 7 बजे फांसी दी जाएगी लेकिन निर्भया के दोषियों में से एक मुकेश सिंह ने पटियाला हाउस अदालत से जारी डेथ वारंट को हाईकोर्ट में चुनौती दी है,उसकी याचिका पर आज हाईकोर्ट में आज सुनवाई है।

निर्भया की मां ने कहा- 'खारिज होगी याचिका'

वहीं, इस याचिका को लेकर निर्भया की मां आशा देवी ने कहा 'वह जो चाहे करे, जबकि सबकुछ साफ हो चुका है, वह चाहे हाई कोर्ट जाए या सुप्रीम कोर्ट, मुझे आशा है कि उसकी याचिका खारिज होगी, जबकि एक दिन पहले ही जब सुप्रीम कोर्ट ने मुकेश और विनय की क्यूरेटिव याचिका को खारिज किया था तो आशा देवी ने कहा था कि आज मैं खुश हूं लेकिन असली खुशी और न्याय मुझे तब मिलेगा जब इन चारों को फांसी पर लटका दिया जाएगा।

यह पढ़ें: भरे मंच पर लिंगायत स्वामी वाचानंद पर भड़के येदियुरप्पा, बोले-छोड़ दूंगा CM पद, लालची नहीं हूं मैंयह पढ़ें: भरे मंच पर लिंगायत स्वामी वाचानंद पर भड़के येदियुरप्पा, बोले-छोड़ दूंगा CM पद, लालची नहीं हूं मैं

 दोषी मुकेश ने राष्ट्रपति को दया याचिका भी भेजी

दोषी मुकेश ने राष्ट्रपति को दया याचिका भी भेजी

मालूम हो कि दोषी मुकेश ने राष्ट्रपति को दया याचिका भी भेजी है। यह याचिका अधिवक्ता वृंदा ग्रोवर ने मुकेश की ओर से दायर की है, जिसमें कहा गया है कि मुकेश ने उपराज्यपाल और राष्ट्रपति को दया याचिका भेजी है। इसलिये डेथ वारंट को रद्द किया जाए। याचिका में यह भी कहा गया है कि दया याचिका खारिज होने की स्थिति में उसके डेथ वारंट पर अमल के लिये 14 दिन का नोटिस दिया जाए।

एक दोषी की हो चुकी है मौत

एक दोषी की हो चुकी है मौत

गौरतलब है कि निर्भया गैंगरेप मामले में में छह दोषियों में से एक की जेल में ही मौत हो चुकी है, जबकि एक नाबालिग दोषी सजा काटकर जेल से बाहर आ चुका है, 16 दिसंबर 2012 की रात हुई इस बर्बर घटना से देश स्‍तब्‍ध रह गया था, जटिल लंबी कानूनी प्रक्रिया के बाद अब यह मामला अपने अंजाम तक पहुंचा है और दोषियों की फांसी की सजा का दिन निर्धारित हुआ है।

यह पढ़ें: Jamia Violence: कुलपति अख्तर ने खटखटाया HRD मंत्रालय का दरवाजा, 'उच्च स्तरीय जांच' की मांग कीयह पढ़ें: Jamia Violence: कुलपति अख्तर ने खटखटाया HRD मंत्रालय का दरवाजा, 'उच्च स्तरीय जांच' की मांग की

English summary
Asha Devi, mother of 2012 Delhi gang-rape victim on convict Mukesh approached Delhi HC seeking to set aside trial court's order issuing death warrant: He can do whatever he wants. But everything is crystal clear. SC & HC know everything.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X