• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

NEET: सोनिया गांधी ने राज्यों में OBC के लिए आरक्षण मामले में प्रधानमंत्री को पत्र लिखा, जानिए, क्या है मामला?

|

नई दिल्ली। कांग्रेस अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने राज्य और केंद्र शासित प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा संस्थानों में राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (NEET) के माध्यम से भरे जा रहे अखिल भारतीय कोटा के तहत ओबीसी उम्मीदवारों के लिए आरक्षण निषेध मामले में शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा है। दरअसल, केंद्र सरकार के संस्थानों के अलावा राज्य की मेडिकल कॉलेजों में ओबीसी नीति को लागू नहीं है।

sonia

पत्र में पीएम मोदी से आग्रह किया गया है कि अखिल भारतीय कोटा के तहत राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के मेडिकल शिक्षण संस्थानों में भी ओबीसी उम्मीदवारों को आरक्षण के दायरे को बढ़ाया जाए। पत्र में कहा गया है कि राज्य चिकित्सा संस्थानों में ऑल इंडिया कोटा में आरक्षण का निषेध भारत सरकार द्वारा प्रशासित 93वें संशोधन के उद्देश्य का उल्लंघन करता है और इससे योग्य ओबीसी उम्मीदवारों तक मेडिकल शिक्षा पहुंचने में बाधा हो रही है।

sonia

जानिए किसका है 'कौल हाउस', जो बनने जा रहा है प्रियंका गांधी वाड्रा का ठिकाना

गौरतलब है इस संबंध में हाल ही में तमिलनाडु की सत्तारूढ़ AIADMK के अलावा DMK और CPI समेत कई अन्य पार्टियों ने NEET के तहत मेडिकल कॉलेज में सीटों को लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की थी। याचिका दायर करते हुए राज्य के स्नातक, स्नातकोत्तर चिकित्सा और दंत चिकित्सा पाठ्यक्रमों में ओबीसी कोटे के तहत 50 प्रतिशत आरक्षण की मांग की थी।

neet

सोनिया गांधी ने चिट्ठी लिखकर जो मांगा था, पीएम मोदी ने उससे ज्यादा दिया

मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने तमिलनाडु में मेडिकल सीटों पर ओबीसी आरक्षण नहीं देने के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई से इंकार करते हुए कहा कि आरक्षण का अधिकार मौलिक अधिकार नहीं है। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ताओं को हाईकोर्ट जाने की छूट दे दी। जस्टिस एल नागेश्वर राव, जस्टिस कृष्ण मुरारी और जस्टिस एस रविंद्र भट की बेंच ने सुनवाई के दौरान कहा कि इस मामले में किसका मौलिक अधिकार छीना गया है?

neet

सुप्रीम कोर्ट का फैसला- अब अल्पसंख्यक मेडिकल कॉलेजों में भी NEET के जरिए होगा एडमिशन

हालांकि आरक्षण की मांग करते हुए राज्य की मुख्य विपक्षी दल डीएमके की ओर से कोर्ट में कहा गया कि हम कोर्ट से ज्यादा आरक्षण जोड़ने को नहीं कह रहे हैं, बल्कि जो है उसे लागू करवाने को कह रहे हैं। याचिकाओं में कहा गया था कि केंद्र सरकार के संस्थानों को छोड़कर अन्य सभी ओबीसी उम्मीदवारों को ऑल इंडिया कोटा के तहत दी गई सीटों से बाहर मेडिकल कॉलेजों में दाखिला मिलना चाहिए और आरक्षण दिए जाने तक नीट के तहत काउंसलिंग पर रोक लगाई जाए।

'आरक्षण मौलिक अधिकार नहीं': OBC उम्मीदवारों के लिए रिजर्वेशन की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Congress interim president Sonia Gandhi on Friday wrote a letter to Prime Minister Narendra Modi in a case of reservation prohibition for OBC candidates under the All India Quota to be filled through the National Eligibility cum Entrance Test (NEET) in medical education institutions of the state and union territory. Has written the letter. Actually, OBC policy is not applicable in the medical colleges of the state other than central government institutions.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more