• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Navratri 2017: एशिया के सबसे बड़े गरबा स्थल पर 7000 लोगों ने रचाया रास

|

सूरत। नवरात्रि के पर्व का आगाज हो चुका है और गुजरात के पारंपरिक शहर सूरत में गरबा की शुरूआत भी। आप को बता दें कि नवरात्रि के पहले ही दिन सरसाणा डोम सहित शहर के अलग-अलग हिस्सों में गरबा रास शुरू हो गया।

दर्शकों की संख्या के लिहाज से एशिया के सबसे बड़े गरबा स्थल पर पहले ही दिन करीब सात हजार लोगों ने गरबा खेला। लोगों ने देर रात लगभग एक बजे तक गरबा नृत्य की रंगत जमाए रखी।

Navratri 2017: आखिर तवायफ के घर की मिट्टी से ही क्यों बनती है मां दुर्गा की मूर्ति?

गरबा?

घट स्थापना गरबा को लोग पवित्र परंपरा से जोड़ते हैं और ऐसा कहा जाता है कि यह नृत्य मां दुर्गा को काफी पसंद हैं इसलिए नवरात्रि के दिनों में इस नृत्य के जरिये मां को प्रसन्न करने की कोशिश की जाती है। इसलिए घट स्थापना होने के बाद इस नृत्य का आरंभ होता है। इसलिए आपको हर डांडिया नाईट में काफी सजे हुए घट दिखायी देते हैं। जिस पर दिया जलाकर इस नृत्य का आरंभ किया जाता है। यह घट दीपगर्भ कहलाता है और दीपगर्भ ही गरबा कहलाता है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Asia'S Biggest Garba On Surat In Gujarat, People are celebretd festival with full of joy.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X