• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

नरेश अग्रवाल बोले महिला पीए रखने से डरते हैं अधिकारी

By Ajay Mohan
|

Naresh Agrawal
नई दिल्‍ली। तहलका के संपादक तरुण तेजपाल पर बलात्‍कार का मामला दर्ज होने के तुरंत बाद एक विवादित बयान समाजवादी पार्टी के नेता नरेश अग्रवाल की ओर से आया है। राज्‍यसभा सांसद नरेश अग्रवाल ने कहा, "जब महिला हिंसा को रोकने का कानून बनाया जा रहा था, तभी मैंने कहा था कि एंटी रेप बिल की वजह से अधिकारी महिलाओं को नौकरी पर रखने से कतरायेंगे। मुझे पता चला है कि कई अधिकारी महिला पीए रखने से कतराते हैं।"

सांसद ने आगे कहा, "लोग महिलाओं को नौकरी पर रखने से इसलिये घबराते हैं, कि पता नहीं कब, कहां और किस वक्‍त उन पर झूठे आरोप लग जायें।"

नरेश अग्रवाल का यह बयान साफ दर्शा रहा है कि वे कहीं न कहीं तरुण तेजपाल के समर्थन में हैं। उनके इस बयान से यह भी झलक रहा है कि लड़की ने जो भी मामला दर्ज कराया है, वो झूठा है। नरेश अग्रवाल से मीडिया ने जब आगे सवाल किये तो वो बोले- "ऐसी वारदातें तो देश के हर कोने में हुआ करती हैं, ऐसी वारदातें दिल्‍ली में तो बार-बार हो रही हैं और मैं आश्‍चर्यचकित हूं कि मीडिया अब इतना ज्‍यादा फोकस क्‍यों कर रहा है।"

हालांकि जब अग्रवाल को लगा कि उनके मुंह से गलत शब्‍द निकल गये हैं, तो विवादों से बचने के लिये अंत में उन्‍होंने कहा कि ऐसे मामलों में दोषी पाये जाने वाले को कड़ी से कड़ी सजा होनी चाहिये।

सपा सांसद के इस बयान के बाद से मीडिया में उनकी काफी थू-थू मच रही है।

English summary
Samajwadi Party leader Naresh Agrawal has said that officers are "scared" to appoint women as their personal assistants after the passage of the bill to prevent sexual harassment of women at workplace.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X