• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

टीआरपी घोटाले के मामले में BARC के पूर्व सीईओ पार्थो दासगुप्ता की जमानत याचिका खारिज

|

नई दिल्ली। मुंबई सत्र न्यायालय ने टीआरपी घोटाले के आरोपी BARC के पूर्व सीईओ पार्थो दासगुप्ता (Partho Dasgupta) को जमानत देने से इंकार कर दिया है। आपको बता दें कि पार्थो दासगुप्ता को 24 दिसंबर 2020 को कथित टीआरपी घोटाले में गिरफ्तार किया गया था।

Partho Dasgupta

मालूम हो कि मंगलवार को मुंबई पुलिस ने इस मामले में कुछ तर्क देकर अदालत से दासगुप्ता को जमानत न देने की गुहार लगाई थी, जिसके बाद अदालत ने उनकी जमानत वाले आवेदन को सुरक्षित रख लिया था। अदालत ने पुलिस द्वारा पेश किए गए सभी साक्ष्यों का अच्छी तरह अध्ययन करने के बाद पार्थो को जमानत न देने का फैसला सुनाया।

यह भी पढ़ें: टीआरपी घोटाला केस में BARC के पूर्व सीओओ रोमिल रामगढ़िया गिरफ्तार

अभियोजक शिशिर हिरे ने तमाम साक्ष्यों पर गौर करने के बाद कहा कि यदि दासगुप्ता को जमानत दी गई तो वह गवाहों को प्रभावित कर सकते हैं। अभियोज शिशिर हिरे ने रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी और पार्थो दासगुप्ता के बीच हुए व्हाट्सएप चैट्स पढ़े, जिसमें वे दासगुप्ता की ओर से पीएमओ कार्यालय के साथ मध्यस्थता करने की पेशकश करते हैं, जबकि दूसरे में वह रिपब्लिक को टाइम्स नाउ से आगे बढ़ाने के लिए टीआरपी में हेरफेर करने की बात कहते हैं।

हाल ही में अर्नब गोस्वामी और पार्थो दासगुप्ता के बीच की एक और व्हाट्सएप चैट सोशल मीडिया पर लीक हुई थी जिसमें बालाकोट एयरस्ट्राइक का भी जिक्र है, जिसके मुताबिक अर्नब ने बालाकोट एयरस्ट्राइक से पहले ही पार्थो से कहा था कि कुछ बड़ा होने वाला है। इसके बाद तमाम विपक्षी दलों ने भाजपा पर देश की सुरक्षा के साथ समझौता करने के आरोप भी लगाए थे।

English summary
Mumbai Sessions Court dismisses bail plea of ​​TRP scam accused Partho Dasgupta
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X