• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

मिस अर्थ 2016 का कड़वा सच आया सामने, मॉडल ने बयां की दर्द की दास्तां

|

नई दिल्ली। अक्सर रैंप की चकाचौंध की चमचमाती लाइट के बीच में जब इठलाती मॉडल्स कैट वॉक करती हैं, तो जरा भी किसी को अंदाजा नहीं होता कि इस जगमगाती रोशनी के बीच कुछ काले अंधेरे भी हैं जहां ना जाने कितने खूबसूरत चेहरे किन्ही कारणों से दम तोड़ देते हैं। इस बारे में पता लोगों को तब लगता है जब कोई मॉडल टूटकर या फिर हिम्मत करके जगमगाती रोशनी के पीछे की काली स्याही को लोगों के सामने लाती है।

18 साल में हुई थी रेप की शिकार, लेकिन हिम्मत नहीं हारी, साल 1998 में बनीं मिस वर्ल्ड

 Miss Earth India 2016 finalist's claims winner was declared without competition

इस बार भी ऐसा ही काला और घटिया सच बयां किया है मॉडल चम दारांग ने, जिन्होंने मिस अर्थ इंडिया 2016 जैसी बड़ी प्रतियोगिता का एक घटिया सच फेसबुक पर उजागर किया है। चम ने आरोप लगाया है कि कंपटीशन पूरा हुआ ही नहीं और एक लड़की को विजेता घोषित कर दिया गया, जिसके लिए उसने शायद कुछ निजी समझौते किए थे, निजी समझौते का मतलब आप बखूबी समझते होंगे।

'प्लेब्वॉय' के कवर पेज पर 'हिजाब' के साथ मुस्लिम महिला नूर तगौरी

चम के इस आरोप के बाद मिस अर्थ की ऑफिशियल वेबसाइट http://www.missearthindia.com/voting-phase-2/ काम नहीं कर रही है। आपको बता दें कि मिस अर्थ प्रतियोगिता का फिनाले 3 अक्टूबर को था, जो कि बिना प्रतियोगिता के ही संपन्न हो गया। जिसको विजेता बनाया गया उसके बारे में मॉडल चम ने काफी कुछ फेसबुक पर लिखा है जिसे आप भी पढ़िए और समझने की कोशिश कीजिए।

पढ़िए, चाम दारांग ने क्या लिखा है:

 Miss Earth India 2016 finalist's claims winner was declared without competition

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Miss Earth India 2016 finalist's open letter goes viral; model claims winner was declared without competition.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X