• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

महबूबा मुफ्ती के भड़काऊ बोल- 'जब जम्मू-कश्मीर का वापस होगा झंडा तभी उठाएंगे तिरंगा'

|

नई दिल्ली- पीडीपी की अध्यक्ष और जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने आज राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे को लेकर बहुत ही भड़काऊ बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि जब तक जम्मू-कश्मीर का पुराना झंडा वापस नहीं होगा, वह तिरंगा नहीं उठाएंगी। गौरतलब है कि महबूबा हाल ही में पब्लिक सेफ्टी ऐक्ट से छूटकर 14 महीने की नजरबंदी के बाद हिरासत से बाहर आई हैं; और जब से वह आर्टिकल-370 की वापसी के बाद फिर से जम्मू-कश्मीर की राजनीति में सक्रिय हुई हैं, अपने पुराने सियासी ट्रैक पर वापस लौटती दिखाई पड़ रही हैं। खास बात ये है कि इस समय उनका कट्टर विरोधी अब्दुल्ला परिवार भी उनके साथ खड़ा हुआ है, जिन्हें प्रदेश को मिले विशेष दर्जा खत्म होने से अजीब सी छटपटाहट महसूस हो रही है।

Mehbooba Muftis provocative words - When J&Ks flag is back, only then will it raise tricolor

पीडीपी मुखिया महबूबा मुफ्ती ने आज कहा है कि, 'मेरा झंडा ये है (टेबल पर रखे हुए जम्मू-कश्मीर के झंडे की ओर इशारा करते हुए)। जब यह झंडा वापस आएगा, हम वह झंडा (राष्ट्रीय ध्वज) भी उठाएंगे। जब तक हमें हमारा अपना झंडा वापस नहीं मिल जाता, हम कोई दूसरा झंडा नहीं उठाएंगे.....इस झंडे ने उस झंडे के साथ हमारे संबंधों को जाली बना दिया है।'महबूबा यहीं नहीं रुकीं और कहा, 'इस देश के झंडे के साथ हमारा संबंध इस झंडे (जम्मू-कश्मीर के झंडे से) से आजाद नहीं है। जब यह झंडा हमारे हाथ में आएगा, हम वह झंडा (तिरंगा) भी उठाएंगे।'

    Mehbooba Mufti ने PM Modi के Bihar में Article 370 वाले भाषण पर साधा निशाना | वनइंडिया हिंदी

    बता दें कि जम्मू-कश्मीर से पिछले साल 5 अगस्त को आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद से वहां के सिविल सचिवालय से जम्मू-कश्मीर का झंडा हटा लिया गया था, जो कि पहले वहां तिरंगे के साथ-साथ फहराया जाता था। गौरतलब है कि आर्टिकल 370 के तहत जम्मू-कश्मीर को अपना अलग झंडा रखने की भी इजाजत मिली हुई थी। यह झंडा लाल रंग का होता था, जिसमें सफेद रंग की तीन सीधी लाइनें और एक सफेद हल होता था। लेकिन, केंद्र सरकार के फैसले के बाद जम्मू-कश्मीर के बाकी सरकारी दफ्तरों से भी जम्मू-कश्मीर का पुराना झंडा हटा लिया गया था। उस झंडे को जम्मू-कश्मीर की राज्य संविधान सभा ने 7 जून, 1952 को स्वीकार किया था। इसमें तीन लाइनें वहां के तीनों इलाकों जम्मू, कश्मीर और लद्दाख का संकेत देती थीं।

    इसे भी पढ़ें- मूल मुद्दों पर फेल होते हैं, तो PM मोदी अनुच्छेद 370 की बात करते हैं: महबूबा मुफ्ती

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Mehbooba Mufti's provocative words - When J&K's flag is back, only then will it raise tricolor
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X