• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

SSR Case: संदीप सिंह ने कहा- सुशांत के परिवार के साथ खड़ा होना गलत हो गया, शेयर की Whatsapp Chat

|

मुंबई। बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत पहेली बन गई है, लगातार आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है, इस केस में सुशांत के करीबी दोस्त कहे जाने वाले संदीप सिंह भी सवालों के घेरे में हैं, संदीप ही थे जो कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद उनके घर, पोस्टमार्टम और अंतिम संस्कार तक सभी में मौजूद रहे थे, हालांकि अब संदीप सिंह ने इस मामले पर चुप्पी तोड़ी है, संदीप सिंह ने ANI से बात करते हुए कहा कि अगर मैं फूट-फूट कर रोता तभी दोस्त कहलाता क्या?, साथ ही संदीप ने ये भी कहा है कि सुशांत ने उनके सामने कभी भी कोई ड्रग्स नहीं ली, रिया ने उनके बारे में जो भी कहा, वो ही जाने।

    Sushant Rajput Case: Sandip Singh ने तोड़ी चुप्पी,कही ये बात | Rhea Chakraborty | वनइंडिया हिंदी
    संदीप सिंह ने तोड़ी चुप्पी

    संदीप सिंह ने तोड़ी चुप्पी

    इसके साथ ही फिल्म निर्माता संदीप सिंह ने अपने और सुशांत के बीच के whatsapp चैट को भी शेयर किया है और ये बताने की कोशिश की है, 14 जून को सुशांत की मौत के बाद वो ही उनकी फैमिली के साथ घर और अस्पताल में मौजूद थे। जो चैट सामने आया है उसमें संदीप ने लिखा है कि 'सॉरी भाई, मेरी खामोशी ने 20 साल से बनाई मेरी इमेज और पर‍िवार को टुकड़ों में बांट दिया है, आज मैं हमारे पर्सनल चैट्स को पब्ल‍िक के सामने रख रहा हूं , क्योंकि इसके अलावा मेरे पास कोई चारा नहीं है।'

    यह पढ़ें: Sushant Singh Rajput Case: बिहार BJP ने छपवाया पोस्टर- ना भूले हैं...ना भूलने देंगे

    'मुश्क‍िल घड़ी में खड़ा रहना गलत हो गया'

    'मुश्क‍िल घड़ी में खड़ा रहना गलत हो गया'

    अपनी चैट में संदीप सिंह सुशांत की मौत के बाद उनकी बहनों और उनके जीजा से बात करते दिख रहे हैं, उन्होंने अपनी चैट को शेयर करते हुए लिखा है कि 14 जून को जब मैंने तुम्हारे बारे में सुना, मैं खुद को रोक नहीं पाया और तुम्हारे घर की ओर दौड़ पड़ा पर वहां मीतू दीदी के अलावा किसी को ना देखकर शॉक्ड रह गयास मैं आज भी सोच रहा हूं कि वहां उस वक्त तुम्हारी बहन के साथ उस मुश्क‍िल घड़ी में खड़ा रहकर मैंने गलती की या मुझे तुम्हारे दोस्तों के आने का इंतजार करना चाहिए था।

    'अकेली बहन को भाई के अंतिम संस्कार में मदद करना गलत'

    'सभी लोग कह रहे हैं कि तुम्हारा पर‍िवार मुझे नहीं जानता था,हां ये सच है. मैं कभी तुम्हारे पर‍िवार से नहीं मिला लेक‍िन शहर में शोक मनाती एक अकेली बहन को भाई के अंतिम संस्कार में मदद करना क्या मेरी गलती थी? एंबुलेंस ड्राइवर के बयान के बाद भी उसके साथ हुई मेरी बातचीत पर उठ रहे सवालों को खत्म करने के लिए मैं बस इतना कहना चाहूंगा।

    'सुशांत तो मेरा दोस्त था, मैं कैसे अर्थी में नहीं जाता'

    'सुशांत तो मेरा दोस्त था, मैं कैसे अर्थी में नहीं जाता'

    मालूम हो कि संदीप सिंह के बारे में कहा जा रहा है कि संदीप ने पिछले एक साल से सुशांत को फोन नहीं किया था। संदीप सिंह से जब पूछा गया कि आप अचानक आप सुशांत की मौत के दौरान इतना सक्रिय कैसे हो गए थे ? इस पर बात करते हुए संदीप ने कहा कि मैं बिहारी फैमिली से हूं, अगर कोई अंजान व्यक्ति की अर्थी भी देखते हैं तो हम उन्हें भी कंधा दे देते हैं, ये तो मेरा दोस्त था, सुशांत से मेरी दोस्ती साल 2011 से थी। सुशांत फिल्म 'छिछोरे' और 'ड्राइव' में बिजी था और मैं अपनी फिल्मों में इसलिए हमारे बीच मुलाकात नहीं हो पाई थी लेकिन इसका मतलब ये तो नहीं कि हम दोस्त नहीं है।

    संदीप सिंह ने कहा-मुझ पर आरोप लगाने वाले सुशांत के घर क्यों नहीं गए?

    संदीप सिंह ने कहा-मुझ पर आरोप लगाने वाले सुशांत के घर क्यों नहीं गए?

    इसके आग संदीप सिंह ने कहा, 'जो लोग मेरे खिलाफ आरोप लगा रहे हैं, उन्हें जवाब देना चाहिए कि जब उन्हें सुशांत सिंह राजपूत की मौत की खबर मिली तो वे उनके घर या अस्पताल क्यों नहीं गए, या उनके अंतिम संस्कार में क्यों नहीं आए। वे परिवार के साथ क्यों नहीं खड़े हुए?,

    क्या मुझे उस समय अपने हावभाव की परवाह करनी चाहिए थी?

    जब मैं मीतू दीदी (सुशांत की बहन) के साथ कूपर अस्पताल पहुंचा तो एक कांस्टेबल ने पूछा कि संदीप कौन है? इसके जवाब में मैंने चिल्लाने की बजाय अपना अंगूठा (थम्ब्स अप) दिखाया ताकि बता सकूं कि वो शख्स मैं हूं, इसमें क्या गलत है? क्या मुझे उस समय अपने हावभाव की परवाह करनी चाहिए थी?'

    मेरे ऊपर कोई भी घिनौना आरोप नहीं: संदीप सिंह

    इससे पहले संदीप सिंह ने अपने ऊपर लगे सेक्सुअल असॉल्ट केस को भी गलत बताया है, उन्होंने कहा है कि उनके बारे में गलत अफवाएं फैलाई जा रही हैं, उन्होंने पुलिस का लेटर शेयर किया उसमें लिखा है कि कार्यालय आपको यह सूचित करना चाहता है कि पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार, संदीप विनोद कुमार सिंह, जिनका जन्म 2 सितंबर 1981 को हुआ था और भारतीय पासपोर्ट संख्या Z4318005 के धारक हैं, वो मॉरिशस में किसी भी पुलिस मामले में शामिल नहीं हैं और न ही पुलिस की ओर से उनपर कोई जांच चल रही है।

    यह पढ़ें: Sushant Singh Rajput case: कोर्ट ने दीपेश सावंत को 9 सितंबर तक NCB की रिमांड में भेजा

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Sandip Singh says in hindsight, ‘maybe standing with Sushant Singh Rajput’s family was wrong’
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X