• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

कोरोना संक्रमित होने पर युवक को पता चला 18 पुरानी बीमारी का राज, बचपन में की थी ये गलती

|
Google Oneindia News

कोच्चि, जुलाई 30: कई बार बचपन में की गई गलतियां लंबे समय तक नुकसान पहुंचाती हैं। ऐसी ही एक घटना के शिकार 32 साल के सूरज हो गए थे। जब वे 18 साल के थे। उन्होंने नौवीं कक्षा में पढ़ते समय गलती से कलम की निब को निगल लिया था। जो उनके फेंफड़ों में फंस गई थी। जिसे डॉक्टरों ने हाल ही में उसे निकाला दिया है। निब के चलते वे सालों तक अस्थमा जैसी बीमारी से पीड़ित रहे।

स्कूल में हुई गलती के चलते 18 साल तक झेली कई बीमारियां

स्कूल में हुई गलती के चलते 18 साल तक झेली कई बीमारियां

न्यू इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, यह घटना 2003 की है, जब अलुवा के रहने वाले सूरज ने पेन से सीटी बजाते समय गलती से निब निगल ली थी। उसी दिन उन्हें कोच्चि के एक निजी अस्पताल में ले जाया गया जहां उनका एक्स-रे किया गया। हालांकि, एक्स-रे में कुछ भी असामान्य नहीं दिखा। उसके फेफड़ों के अंदर किसी बाहरी वस्तु की उपस्थिति का पता नहीं चल सका। इसके बाद उनके घर वालों ने मान लिया कि पेन का निब पेट से निकल गया है।

कोरोना संक्रमित होने पर खुला राज

कोरोना संक्रमित होने पर खुला राज

हालांकि सूरज को कुछ समय फेफड़ों से संबंधित बीमारियों ने जकड़ लिया। जिसमें पुरानी खांसी और सांस लेने में तकलीफ शामिल थी।सूरज यह सोचकर विभिन्न अस्पतालों में इलाज करवाते रहे कि यह परेशानी उन्हें अस्थमा के कारण हो रही थी। लेकिन पिचले साल दिसंबर में सूरज कोरोना संक्रमित हो गए।उनकी स्थिति काफी बिगड़ गई। लगातार खांसी और सांस लेने में तकलीफ के कारण, उन्होंने कोच्चि के अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया।

सीटी स्कैन में पता चली गड़बड़ी

सीटी स्कैन में पता चली गड़बड़ी

कोरोना की स्थिति का पता लगाने के लिए डॉक्टरों ने उनकी छाती का सीटी स्कैन किया। सीटी स्कैन में उनके दाहिने फेफड़े के निचले हिस्से में एक लोहे जैसी चीज दिखी। आगे के इलाज के लिए उन्हें अमृता अस्पताल रेफर कर दिया गया। अमृता में डॉक्टरों द्वारा बिना सर्जरी किए पेन की निब को हटा दिया। निब को दाहिने फेफड़े के निचले हिस्से में फंसा पाया गया था। निब को जटिल कठोर ब्रोंकोस्कोपिक प्रक्रिया के माध्यम से हटाया गया।

देश में 4 हफ्तों के अंदर 2.27 लाख गर्भवती महिलाओं को लगी वैक्सीन, तमिलनाडु है सबसे आगेदेश में 4 हफ्तों के अंदर 2.27 लाख गर्भवती महिलाओं को लगी वैक्सीन, तमिलनाडु है सबसे आगे

मश्किल तकनीक का इस्तेमाल कर निकाला गया निब

मश्किल तकनीक का इस्तेमाल कर निकाला गया निब

डॉक्टर ने बताया कि, चूंकि निब पिछले 18 वर्षों से फेफड़ों में फंसा हुआ है, इसके ऊपर ऊतक का निर्माण हो गया था। संचित ऊतक को हटाना पहला और सबसे कठिन कार्य था। इसके बाद कठोर ब्रोंकोस्कोपी की गई। एक दिन ऑब्जर्वेशन में भर्ती रहने के बाद सूरज गुरुवार को अस्पताल से घर लौट आया। सूरज अब अधिक आराम से सांस ले रहे हैं। सूरज ने कहा, मैं पिछले 18 सालों से सांस और खांसी की गंभीर तकलीफ से पीड़ित था। मुझे राहत मिली है कि आखिरकार, अब मुझे इससे जुड़ी कोई और परेशानी नहीं झेलनी पड़ेगी।

English summary
man swallowed the nib, while he was trying to whistle with a pen, Kerala doctors remove
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X