• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

क्‍या महाराष्‍ट्र को उपमुख्‍यमंत्री के लिए भी करना पड़ेगा लंबा इंतजार?

|
Google Oneindia News

बेंगलुरु। महाराष्‍ट्र में पिछले सप्‍ताह महाविकास अघाड़ी की तीन पहियों की सरकार का गठन हो चुका है। लंबे इंतजार के बाद प्रदेश को उद्वव ठाकरे के रुप में नया मुख्‍यमंत्री भी मिल गया। लेकिन सरकार के गठन के इतने दिनों बाद भी उपमुख्‍यमंत्री कौन होगा ये पेंच अभी भी फंसा हुआ है। वर्तमान हालात को देखकर तो ये ही लगता है कि उपमुख्‍यमंत्री की कुर्सी को अभी और लंबा इंतजार करना पड़ेगा।

maharastra

बता दें सरकार के महाराष्‍ट्र में उद्वव सरकार के बहुमत परीक्षण के पहले भी कांग्रेस और एनसीपी के बीच डिप्टी सीएम पद को लेकर सहमति नहीं बन पायाी थी। शिवसेना को मुख्यमंत्री पद देने के बाद कांग्रेस-एनसीपी में उपमुख्यमंत्री पद के लिए आपस में मतभेद होने की बात सामने आयी थी। अघाड़ी सरकार में कांग्रेस को अध्‍यक्ष पद देने की बात हुई थी इसके बावजूद कांग्रेस उपमुख्यमंत्री पद की मांग कर रही थी। जबकि एनसीपी इस पद पर अपना दावा पहले ही ठोक चुकी हैं। दो उपमुख्यमंत्रियों पर भी एनसीपी राजी नहीं थी।

congncp

पूर्व में भी कांग्रेस नेताओं का कहना था कि पार्टी इस बात पर राजी है कि मंत्रिमंडल में भले उसे एकाध जगह कम मिले परंतु उपमुख्यमंत्री पद जरूरी है क्योंकि तभी महाविकास अघाड़ी की सरकार में तीनों दलों का गठबंधन दिखेगा। उद्धव के मुख्यमंत्री पद की शपथ से पहले भी अघाड़ी की बैठक में यह मुद्दा उठा था और तब भी कांग्रेस ने कहा था कि उसे उपमुख्यमंत्री पद नहीं मिला तो बेहतर होगा कि शिवसेना-एनसीपी मिलकर सरकार बनाएं। वह उन्हें बाहर से समर्थन देगी। वहीं कुछ कांग्रेस के कुछ नेता शुरू से ही यह चाहते हैं कि विधानसभा अध्यक्ष का पद एनसीपी को देकर उसके बदले में दो मंत्री पद ले लिए जाएं।

jayant

हालांकि इन खबरों के बाद ही एनसीपी के प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटिल ने शनिवार को यह बयान दिया था कि महाराष्‍ट्र सरकार में एनसीपी का उपमुख्यमंत्री होगा और शरद पवार साहेब यह तय करेंगे कि यह पद किसे मिलेगा। हालांकि अभी उन्होंने कोई फैसला नहीं लिया है। वैसे भी इस पर कोई जल्दी नहीं है।

ajit

बता दें उपमुख्यमंत्री पद के लिए अजित पवार के साथ ही जयंत पाटिल भी प्रतियोगिता में है। जो नाम इस पद के लिए सबसे आगे माना जा रहा है वो अजित पवार का है। वहीं एनसीपी के दिग्गज नेता जयंत पाटिल का भी नाम इस डिप्टी सीएम को लेकर चर्चा में है। यही वजह है कि पार्टी अभी इस मुद्दे पर कोई स्पष्ट फैसला नहीं सकी है।

ajit

जब इस बारे में अजित से सवाल किया गया तो अजित ने कहा कि पार्टी उन्हें जो भी जिम्मेदारी देगी, वह उसे पूरी निष्ठा के साथ निभाएंगे। पार्टी सूत्रों का कहना है कि अजित पवार को ही उपमुख्यमंत्री बनाया जा सकता है। जिसमें कहा जा रहा है कि कांग्रेस भी सरकार में अपना उपमुख्यमंत्री चाह रही है। यदि उसकी मांग मानी जाती है तो सरकार में दो उपमुख्यमंत्री होंगे।

ncp

माना जा रहा है, चूंकि कांग्रेस ने विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए हामी भर दी है, इसका मतलब है कि अब वह उपमुख्यमंत्री पद पर जोर नहीं देगी। फिलहाल माना जा रहा है कि शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस की गठबंधन सरकार में उपमुख्यमंत्री का पद एनसीपी के कोटे में जबकि विधानसभा अध्यक्ष का पद कांग्रेस के खाते में पहले ही जा चुका है। वहीं एनसीपी के वरिष्ठ नेता प्रफुल्ल पटेल ने कहा कि नागपुर विधानसभा सत्र के अगले महीने खत्म होने के बाद उद्धव ठाकरे सरकार में उपमुख्यमंत्री का पद भर दिया जाएगा। सत्र 22 दिसंबर को खत्म होगा।

prafulpatel

बता दें इस सरकार के गठबंधन की जब से बात चल रही थी तभी से उपमुख्‍यमंत्री पद के लिए अजीत पवार का नाम सबसे ऊपर चल रहा था। लेकिन महाराष्‍ट्र में 23 नवंबर की सुबह महाराष्ट्र में एक अलग तरक का सियासी नाटक देखा गया। इससे एक दिन पहले एनसीपी-शिवसेना और कांग्रेस ने सरकार बनाने की बात कही थी। लेकिन अगली सुबह मुख्यमंत्री के रूप में देवेंद्र फडणवीस ने शपथ ले ली। उनके साथ अजित पवार ने भी उप-मुख्यमंत्री पद की शपथ लेकर सबको चौंका दिया था।

ncp

उसके तुरंत बाद शरद पवार ने ट्वीट के ज़रिए कहा कि बीजेपी के साथ जाना अजित पवार का व्यक्तिगत फ़ैसला है। और वो उसका समर्थन नहीं करते हैं। इसके बाद अजित पवार को एनसीपी विधायक दल के नेता के पद से हटा कर जयंत पाटिल को बना दिया गया। अगले तीन दिन महाराष्ट्र की सियासत में काफ़ी गहमागहमी वाले रहे। अजित पवार की मान-मुनौव्वल की कोशिशें होती रहीं। मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा। जिसके बाद अजित ने इस्तीफ़ा दिया और अब वो अपने चाचा की पार्टी और परिवार के पास लौट आए हैं।

ncp

अजित पवार की इस बगावत के बाद उन्हें उप मुख्यमंत्री बनाने को लेकर एनसीपी नेता दो हिस्‍से में बंट चुके हैं। अजित पवार, शरद पवार के भतीजे हैं इसलिए उनकी घर वापसी करना पार्टी और परिवार के लिए महत्तवपूर्ण था। फ़्लोर टेस्ट के समय विधायकों में दरार सामने न आए शायद ये सोचकर अजित पवार को वापिस लाने की भरसक कोशिश की गई।

ncp

लेकिन शरद पवार बड़े राजनीतिज्ञ हैं जल्‍दबाजी में अजित पवार को लेकर कोई निर्णय लेकर गठबंधन की सरकार को लेकर कोई भी खतरा नहीं ले सकते। उन्‍हें अच्‍छे से मालूम है कि अजित के विरोध या पक्ष में लिया गया उनका निर्णय , दोनों ही स्थितियों में विरोध हो सकता है। इसलिए उपमुख्‍यमंत्री की कुर्सी को लेकर महाराष्‍ट्र को और अभी लंबा इंतजार करना पड़ सकता है।

English summary
The Aghadi government of Maharashtra will still have to wait a long time for the post of Chief Minister. Know whose Shiv Sena, NCP, Congress will become DPCM,
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X