मध्य प्रदेश का प्रस्तावित रेप क़ानून कितना सख़्त?

Posted By: BBC Hindi
Subscribe to Oneindia Hindi

बारह साल से कम उम्र की लड़कियों के साथ हुए बलात्कार के मामलों में फांसी की सजा तय करने के लिए मध्य प्रदेश विधानसभा ने हाल ही में 'दंड विधि (मध्य प्रदेश संशोधन) विधेयक' पारित किया है.

इस कानून के मुताबिक 12 साल या इससे कम उम्र की लड़कियों के साथ बलात्कार या सामूहिक बलात्कार के मामलों में अपराध सिद्ध होने पर दोषियों को कम से कम 14 साल की क़ैद और अधिकतम फांसी की सजा सुनाई जा सकती है.

क्या फांसी से बच्चों के ख़िलाफ़ रेप का अपराध रुकेगा?

कोपर्डी रेप केस: तीन दोषियों को सज़ा-ए-मौत

सांकेतिक तस्वीर
BBC
सांकेतिक तस्वीर

सऊदी अरब और उत्तर कोरिया की कतार में

मध्य प्रदेश विधान सभा में संशोधन विधेयक के पारित होने के बाद इस पर बहस छिड़ गई है. माना जा रहा है कि कुछ अन्य जगहों पर भी ऐसी ही मांगें उठ सकती हैं.

अगर पूरे देश में ये प्रावधान लागू किया गया तो भारत बलात्कार के मामले में मृत्यु दंड देने वाले उत्तर कोरिया, सऊदी अरब, चीन, मिस्र, ईरान और अफ़ग़ानिस्तान जैसे देशों की कतार में शामिल हो जाएगा.

सऊदी अरब में अपराधी का सर काटकर सार्वजानिक तौर पर हत्या की जाती है जबकि अफगानिस्तान में आरोपी का दोष सिद्ध होने के हफ्ते भर के भीतर ही गोली मार दी जाती है.

नार्थ कोरिया में बलात्कार के अपराधियों की सैनिक दस्ते द्वारा गोली मारकर हत्या की जाती है जबकि चीन में उन्हें नपुंसक बनाकर हत्या करने का प्रवधान है.

मिस्र और ईरान में फांसी पर लटका कर सजा-ए-मौत देने का प्रावधान है.

'उसका बलात्कार निर्भया के बाद हुआ'

'रेप के ज़ख़्म ऐसे कि हाथ मिलाते भी डरती हूँ'

सांकेतिक तस्वीर
Getty Images
सांकेतिक तस्वीर

मध्य प्रदेश में बलात्कार

फिलहाल राष्ट्रपति के पास अंतिम स्वीकृति के लिए भेजे गए इस विधेयक के कानून बनते ही मध्य प्रदेश नाबालिगों के साथ हुए बलात्कार के मामलों में फांसी की सजा घोषित करने वाला पहला भारतीय राज्य बन जाएगा.

यहाँ गौरतलब है कि हाल में जारी किए गए नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के ताज़ा आकड़ों के मुताबिक साल 2016 में बलात्कार के सबसे अधिक मामले मध्य प्रदेश में ही दर्ज किये गए.

जस्टिस वर्मा कमेटी

2013 में जस्टिस वर्मा कमेटी के सुझावों के आधार पर पारित 'क्रिमिनल लॉ अमेंडमेंट एक्ट -2013' के लागू होने के बाद से भारत में बलात्कार की अधिकतम सजा 14 वर्ष की कैद कर दी गई है.

इस संशोधित कानून के आधार पर ही सिर्फ जघन्यतम मामलों में साक्ष्यों और अपराधी के नीयत का संज्ञान लेते हुए अदलात फांसी की सजा भी सुना सकती है.

पर मध्य प्रदेश विधान सभा द्वारा पारित इस नए विधेयक के कानून बनते ही 12 या 12 वर्ष से कम उम्र की लड़की से बलात्कार के मामले में अदालत अपराध सिद्ध होने पर सीधे सजा-ए-मौत सुना सकती है.

गौरतलब है की दुनिया के दो-तिहाई से भी अधिक देशों में मृत्यु दंड का प्रवधान समाप्त हो चुका है. अपने पक्ष और विपक्ष दोनों में समर्थकों और तर्कों की लम्बी फेहरिस्त लिए, मृत्यु दंड भारत में भी एक विवादस्पद विषय है.

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Madhya Pradeshs proposed rape law is so strict
Please Wait while comments are loading...

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.