• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Lockdown: भारत की GDP विकास दर 1-2 फीसदी के बीच रहने की है संभावना: के सुब्रमणियन

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली। कोरोनावायरस प्रेरित राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन का विस्तार गत 17 मई को 54वें दिन में प्रवेश कर जाएगा। ऐसे में भारत के मुख्य आर्थिक सलाहकार (सीईए) के वी सुब्रमणियन ने सोमवार को कहा है कि इस वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल से जून) में भारत की जीडीपी वृद्धि एक से दो फीसदी के बीच रहने की संभावना है।

CEA

उन्होंने कहा कि आशा जताई है कि दूसरी तिमाही में आपूर्ति श्रृंखला के व्यवस्थित होने और प्रवासी कामगारों के वापस लौटने और उद्योगों के संचालन फिर से शुरू होने के बाद अर्थव्यवस्था अपने ट्रैक पर लौट आएगी।

लॉकडाउनः सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों को 20,000 करोड़ का राहत पैकेज दे सकती है सरकारलॉकडाउनः सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों को 20,000 करोड़ का राहत पैकेज दे सकती है सरकार

CEA

सुब्रमणियन ने कहा कि सुस्त अनिश्चितता के कारण लॉकडाउन के कारण संभावित नौकरी के नुकसान का अनुमान लगाना मुश्किल है। हालांकि अच्छी कंपनियों ने अपने अधिकांश कार्यबल को बनाए रखने और न्यूनतम मजदूरी में कटौती करने की संभावना है और वे संचालन शुरू करते हैं। मुख्य आर्थिक सलाहकार ने कहा कि वैश्विक आर्थिक परिदृश्य कमजोर है, जिसका भारतीय निर्यात पर असर पड़ना तय है।

लॉकडाउन से मंडराया इंडियन एयरलाइन सेक्टर में 29 लाख कर्मचारियों की नौकरी पर खतरा!लॉकडाउन से मंडराया इंडियन एयरलाइन सेक्टर में 29 लाख कर्मचारियों की नौकरी पर खतरा!

CEA

उन्होंने आगे कहा, हालांकि यह समय भारतीय उद्योगों के लिए अपनी रणनीतियों को सुधारने, आधुनिक तकनीकों को अपनाने और वैश्विक बाजारों में प्रतिस्पर्धा करने के लिए कमर कसने का है, क्योंकि कई बहुराष्ट्रीय कंपनियां अपने विनिर्माण फैक्टरियों को चीन से बाहर स्थानांतरित करने पर विचार कर रही हैं।

CEA

साथ ही, उन्होंने कहा कि भारतीय शहर प्रवासी श्रमिकों के लिए एक जीवंत आधार प्रदान करते हैं, जहां वे अपने घरेलू शहरों की तुलना में अच्छी कामकाजी परिस्थितियों, बेहतर जीवनशैली और उचित शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं की आकांक्षाओं को पूरा कर सकते हैं।

Covid 19 इम्पैक्टः जीएसटी भुगतान पर 6 महीने के लिए राहत दे सकती है सरकार!Covid 19 इम्पैक्टः जीएसटी भुगतान पर 6 महीने के लिए राहत दे सकती है सरकार!

CEA

सुब्रमणियन ने कहा कि शेयर बाजार में मौजूदा अस्थिरता भारतीय अर्थव्यवस्था के मजबूत मूल सिद्धांतों को नहीं दर्शाती है। बाजार उन निवेशकों की भावनाओं की सवारी करते हैं जो उच्च विकास वाले क्षेत्रों में निकट-अवधि के मुनाफे की तलाश करते हैं।

 CM योगी ने चीन छोड़ने के इच्छुक अमेरिकी कंपनियों को भेजा प्रस्ताव, सुविधाओं का दिया भरोसा CM योगी ने चीन छोड़ने के इच्छुक अमेरिकी कंपनियों को भेजा प्रस्ताव, सुविधाओं का दिया भरोसा

CEA

गौरतलब है राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के चलते पिछले 41 दिनों से भारत में आर्थिक गतिविधियों को पूरी तरहे विराम लग गया है और लगा विराम आगामी 17 माई को ही पूरी तरह से खत्म हो सकेगा।

लॉकडाउन: कांट्रेक्ट श्रमिकों पर गिरी बड़ी गाज, बिना भुगतान गुजारे को मजबूर हुए 12 करोड़ श्रमिकलॉकडाउन: कांट्रेक्ट श्रमिकों पर गिरी बड़ी गाज, बिना भुगतान गुजारे को मजबूर हुए 12 करोड़ श्रमिक

English summary
Subramanian said it is difficult to estimate potential job losses due to lockdown due to sluggish uncertainty. However good companies are likely to retain most of their workforce and cut the minimum wage and they start operations. The Chief Economic Advisor said that the global economic scenario is weak, which is bound to affect Indian exports.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X