• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

लॉकडाउनः सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों को 20,000 करोड़ का राहत पैकेज दे सकती है सरकार

|

नई दिल्ली। केंद्र सरकार कोरोना वायरस महामारी से प्रेरित घोषत 40 दिनों के लॉकडाउन से उबरने के लिए सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (MSME) की आर्थिक गतिविधियों को फिर से शुरू करने में मदद के लिए 20,000 करोड़ रुपए के राहत पैकेज को मंजूरी दे सकती है, जिसे दो अलग-अलग फंडों में विभाजित किया जाएगा।

12 अगस्‍त को रूस से आ रही है पहली कोरोना वायरस वैक्‍सीन, जानिए इसके बारे में सबकुछ

MSME

दरअसल, Covid -19 लॉकडाउन के कारण संकट का सामना कर रहे MSME की मदद के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन की अध्यक्षता में हुए एक बैठक में व्यय वित्त समिति (EFC) ने MSME को लगभग 20,000 करोड़ रुपए आवंटित करने वाले दो प्रस्तावों को मंजूरी दे दी है। अगर केंद्रीय मंत्रिमंडल की अगली बैठक में सब ठीक रहा तो प्रस्ताव को हरी झंडी मिल जाएगी।

MSME

कोरोना वैक्सीन: ऑक्सफोर्ड ही नहीं, ये 6 वैक्सीन भी पहुंच चुकी हैं थर्ड फेज के ट्रायल में

Covid19: महामारी का रोजगार पर बड़ा असर, भारत में 23 फीसदी से अधिक हुई बेरोजगारी

सरकारी सूत्रों ने बताया कि नितिन गडकरी के नेतृत्व वाले MSME मंत्रालय ने दो फंडों- डिस्ट्रेस्ड एसेट फंड और 'फंड ऑफ फंड्स' के तहत नए प्रस्तावों को आगे बढ़ाने की योजना बनाई है और जब कैबिनेट प्रस्ताव को मंजूरी देगा तो दोनों को 10,000 करोड़ रुपए मिलेंगे। वर्तमान में बैंक संकटग्रस्त व्यवसायों को इक्विटी प्रदान करने के लिए तैयार नहीं हैं, जिन्हें स्विफ्ट इक्विटी इन्फ्युजन की जरूरत है।

MSME

लॉकडाउन के कारण 60 सालों में पहली बार थम जाएगा एशियाई देशों का विकास- IMF

मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि बहुत सारे MSME संघर्ष कर रहे हैं, लेकिन "आर्थिक रूप से व्यवहार्य हैं और बड़े पैमाने पर क्षमता बढ़ाने का जम रखते हैं। MSME को उक्त राहत पैकेज आपदाग्रस्त संपति कोष से दिया जाएगा। फंड के पीछे यह विचार है कि लॉकडाउन समाप्त होने के बाद व्यवसायों को कुशलतापूर्वक पुनः आरंभ करने के लिए MSME को "टर्नअराउंड कैपिटल" प्रदान करना है।

लॉकडाउन-2: प्रशांत किशोर उर्फ PK ने पूछा, 'क्या केंद्र सरकार के पास कोई प्लान-B है?'

 निर्यात उन्मुख व्यवहार्य इकाइयों को सहायता दी जा सकती है

निर्यात उन्मुख व्यवहार्य इकाइयों को सहायता दी जा सकती है

प्रस्ताव में कहा गया है कि यदि आवश्यक धन का 10 फीसदी प्रारंभिक धन के रूप में निवेश किया जाता है, तो बैंक आगे का पुनर्गठन कर सकते हैं। MSME मंत्रालय को लगता है कि निर्यात उन्मुख व्यवहार्य इकाइयाँ, जिनके पास माल का निर्माण करने की क्षमता है और जो विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी हैं, उन्हें इस कोष से सहायता दी जा सकती है।

फंड ऑफ फंड्स

फंड ऑफ फंड्स" के लिए 10,000 करोड़ रुपए मदद का प्रस्ताव है

दूसरा प्रस्ताव है पहले से ही उपलब्ध सुविधा का उपयोग करना है। MSMEs के लिए "फंड ऑफ फंड्स" को संस्थाओं के लिए 10,000 करोड़ रुपए तक की सहायता प्रदान की जा सकती है, जो गुणवत्ता और मात्रा दोनों के मामले में अपने उत्पादन को बढ़ाने की क्षमता रखते हैं।

MSME को सिर्फ बड़े होने के लिए नहीं, बल्कि बेहतर करने के लिए है

MSME को सिर्फ बड़े होने के लिए नहीं, बल्कि बेहतर करने के लिए है

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "उक्त प्रस्ताव MSME को सिर्फ बड़े होने के लिए नहीं, बल्कि बेहतर करने के लिए है। MSMEs के पास अगले स्तर पर जाने के लिए अभी एक अनूठा अवसर है क्योंकि चीन में विनिर्माण पर प्रश्न चिन्ह लगा हुआ हैं। उन्होंने कहा, "इन संस्थाओं को प्रारंभिक धन साथ-साथ विशेषज्ञता भी प्रदान की जा सकती है।"

अधिकारियों ने इस मॉडल के लिए OYO रूम्स का उदाहरण दिया

अधिकारियों ने इस मॉडल के लिए OYO रूम्स का उदाहरण दिया

अधिकारियों ने इस मॉडल के लिए OYO रूम्स का उदाहरण दिया। उन्होंने कहा कि यह विचार निजी क्षेत्र की दक्षता और अधिक विदेशी वित्त पोषण के लिए है। इस श्रेणी में पहचाने गए लाभार्थियों को उन विदेशी फंडों के रूप में भी सहायता मिलेगी, जो पेशेवरों द्वारा प्रबंधित हैं और जो व्यवसाय को अगले स्तर तक ले जा सकते हैं और यहां तक ​​कि उन्हें शेयर बाजार में सूचीबद्ध कर सकते हैं।

नियमित रूप से GST का भुगतान करने वाले फंड से लाभ मिलेगा: गडकरी

नियमित रूप से GST का भुगतान करने वाले फंड से लाभ मिलेगा: गडकरी

MSMEs के मंत्री नितिन गडकरी ने हाल ही में कहा था कि जिन औद्योगिक इकाइयों का कारोबार अच्छा है और वे नियमित रूप से GST का भुगतान करती हैं, उन्हें इस फंड से लाभ मिलेगा।"

धन की स्थापना जैसे उपाय मध्यम और लंबे समय में मदद कर सकते हैं

धन की स्थापना जैसे उपाय मध्यम और लंबे समय में मदद कर सकते हैं

उद्योग के अंदरूनी सूत्रों ने कहा कि धन की स्थापना जैसे उपाय मध्यम और लंबे समय में मदद कर सकते हैं, लेकिन MSME क्षेत्र को तत्काल एक प्रत्यक्ष पैकेज की आवश्यकता है जो तत्काल संकट का सामना करें। छोटे और मझोले कारोबार अपने कार्यबल को वेतन देने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, क्योंकि उत्पादन इकाइयां देशव्यापी लॉकडाउन के बीच ठप पड़ी हैं, उन्हें सीधे मदद की जरूरत है, क्योंकि लॉकडाउन के दौरान उनके पास अपने कार्यबल को भुगतान करने के लिए एक महीने के लिए भी धन उपलब्ध नहीं है। यही कारण है कि इस क्षेत्र में बड़े पैमाने पर छंटनी और वेतन भुगतान में कटौती देखी जा रही है। ।

थिंक टैंक का संकट से निपटने के लिए MSME को पेरोल समर्थन का सुझाव

थिंक टैंक का संकट से निपटने के लिए MSME को पेरोल समर्थन का सुझाव

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) द्वारा विचारित उक्त प्रस्ताव NITI Aayog से आया है। थिंक टैंक ने संकट से निपटने के लिए MSME को पेरोल समर्थन का सुझाव दिया है। दूसरे सुझाव में केंद्र और राज्यों को शामिल किया गया है कि वे लॉकडाउन अवधि के दौरान MSMEs द्वारा भुगतान की जाने वाली न्यूनतम बिजली शुल्क की तरह निश्चित लागतों का ध्यान रखें ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे व्यवहार्य रहें।

MSME ऑपरेटरों को माल के लिए लिक्विड कैश के साथ छोड़ दिया जाए

MSME ऑपरेटरों को माल के लिए लिक्विड कैश के साथ छोड़ दिया जाए

व्यवसायों को फिर से शुरू करने के लिए यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि MSME ऑपरेटरों को सभी महत्वपूर्ण कच्चे माल के लिए लिक्विड कैश के साथ छोड़ दिया जाए। हालांकि इस तरह के पैकेज की घोषणा कब की जा सकती है, इस पर सरकार की ओर से कोई स्पष्ट संकेत नहीं है। सूत्र पुष्टि करते हैं कि वित्त मंत्रालय जमीनी आंकड़ों का अध्ययन कर रहा है, प्रभाव का विश्लेषण कर रहा है और पैकेज को अंतिम रूप देने के लिए संसाधनों का आकलन कर रहा है। हालांकि प्रस्ताव को अंतिम रूप पीएमओ द्वारा दिया जाएगा।

पैकेज की मंजूरी Covid19 के प्रसार को रोकने में जल्द सक्षमता पर निर्भऱ है

पैकेज की मंजूरी Covid19 के प्रसार को रोकने में जल्द सक्षमता पर निर्भऱ है

वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों का कहना है कि बहुत कुछ इस बात पर निर्भर करेगा कि भारत कितनी जल्दी कोरोनो वायरस के प्रसार को रोकने में सक्षम होता है। यदि मामले बढ़ते हैं और सरकार लॉकडाउन फिर से विस्तारित हो सकती है, तो सरकार राहत पैकेज के साथ नहीं जा सकती है।

महामारी ऐसे समय में आई जब कई देश मंदी के दौर में प्रवेश कर चुके हैं

महामारी ऐसे समय में आई जब कई देश मंदी के दौर में प्रवेश कर चुके हैं

MSME मंत्रालय के एक वरिष्ठ सलाहकार ने कहा, ''Covid-19 संकट MSME क्षेत्र की आदर्श स्थिति में बदलाव लेकर आई है। बजाय नए स्ट्रक्चर को प्रोत्साहित करने के अभी हमारा फोकस मौजूदा स्ट्रक्चर को जीवित रखने में मदद करने वाला होना चाहिए और उन्हें जीवित रखने और स्थापित करने पर होना चाहिए। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस महामारी ऐसे समय में हुआ है जब दुनिया भर के कई देश पहले ही मंदी के दौर में प्रवेश कर चुके हैं। भारत को भी लॉकडाउन के कारण तेजी से नुकसान हुआ है, जिसे अब 3 मई तक बढ़ा दिया गया है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
In a meeting chaired by Finance Minister Nirmala Sitharaman to help MSMEs facing crisis due to Covid-19 lockdown, the Expenditure Finance Committee (EFC) has approved two proposals allocating approximately Rs 20,000 crore to MSMEs. . If all goes well in the next meeting of the Union Cabinet, the proposal will get the green signal.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X