• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

जानिए लॉकडाउन में हमारे वायुमंडल में क्या हुआ बड़ा बदलाव, कितने साल का टूटा रिकार्ड, पढ़ें NASA की ये रिपोर्ट

|

बेंगलुरु। कोरोनावायरस के संक्रमण पर नियंत्रण पाने लिए पिछले 25 मार्च को पूरे भारत में संपूर्ण लॉकडाउन कर दिया गया। मोदी सरकार द्वारा किए गए लॉकडाउन के बाद देश की 1 सौ 30 करोड़ जनसंख्‍या घरों में बंद हो गई और देश में चल रहे कल- कारखानों और कार, बस, ट्रक, रेलों का संचालन और हवाई जहाज यातायात को बंद कर दिया गया। आपको जानकर आश्‍चर्य होगा कि लॉकडाउन के महज एक सप्‍ताह में मानवीय गतितिवधियां बंद होने से विशेषकर उत्तर भारत के वायुमंडल में कितना सकारात्मक बदलाव आया। नासा ने हाल ही में एक रिपोर्ट जारी कर इसका खुलासा किया हैं।

नासा ने शेयर की ये रिपोर्ट

नासा ने शेयर की ये रिपोर्ट

नासा ने रिपोर्ट में खुलासा किया है कि लॉकडाउन के महज एक सप्‍ताह के अंदर उत्तरी भारत की हवा में मौजूद एरोसोल में पिछले 20 साल में पहली बार इतनी गिरावट आई हैं। नासा द्वारा उपग्रह संवेदकों द्वारा उत्तरी भारत में एरोसोल के स्तर को नापा गया जिसमें वायु में मौजूद Airborne Particle Level पिछले 20 साल में सबसे निचले स्तर पर पाया गया ।

स्‍वास्‍थ्‍य पर क्या डालते हैं प्रभाव

स्‍वास्‍थ्‍य पर क्या डालते हैं प्रभाव

बता दें हवा में मौजूद ये प्रदूषण के कण मानव निर्मित गतिविधियों के कारण उत्पन्‍न होता हैं। एंथ्रोपोजेनिक (मानव निर्मित) स्रोतों से एरोसोल के कारण भारत के कई शहरों का वायु प्रदूषण में बढ़ोत्‍तरी होने के कारण ये लोगों के स्‍वास्‍थ्‍य को बुरी तरीके से प्रभावित कर रहे हैं। मालूम हो कि एरोसोल हवा में निलंबित छोटे ठोस और तरल कण होते हैं जो हमारी आंख की रोशनी को प्रभावित करते हैं इतना ही नही ये मानव फेफड़ों और हृदय को नुकसान पहुंचा रहे हैं। ये मानव निर्मित एरोसोल अधिकांश छोटे कणों का योगदान करते हैं जिनकी मानव स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाने की अधिक संभावना होती है ।

इन स्रोतों से बनता है एरोसोल

इन स्रोतों से बनता है एरोसोल

वैज्ञानिकों के अनुसार कुछ एरोसोल में प्राकृतिक स्रोत से उत्पन्‍न होते हैं। जैसे धूल भरे तूफान, ज्वालामुखी विस्फोट और जंगल की आग लेकिन अन्‍य एरोसोल मानव गतिविधियों से भी उत्पन्‍न होते हैं , जैसे क्रापवेस्‍ट जलाने को जलाने के कारण प्रदूषण होता है। याद हो तो कुछ माह पूर्व उत्तर भारत में गेंहू की फसल की कटाई के बाद खेतों में लगाई आग लगाए जाने के बाद दिल्ली समेत उत्‍तरी भारत का प्रदूषण स्‍तर अचानक से बहुत बढ़ गया था। इस तरह के मानवनिर्मित गतिविधियों से वायुमंडल में एरोसोल बढ़ जाता हैं। इतना ही नहीं उत्तर भारत की गंगा घाटी में मानवीय गतिविधियाँ अधिकांश एरोसोल उत्पन्न करती हैं। मोटर वाहन, कोयला आधारित बिजली संयंत्र, और शहरी क्षेत्रों के आसपास के अन्य औद्योगिक स्रोत नाइट्रेट्स और सल्फेट्स का उत्पादन करते हैं। कोयला दहन से कालिख और अन्य कार्बन युक्त कण भी पैदा होते हैं। ग्रामीण क्षेत्र धुएं में समृद्ध होते हैं जिसमें ब्लैक कार्बन और कार्बनिक कार्बन से - खाना पकाने और हीटिंग स्टोव से और खेतों पर निर्धारित जल से (हालांकि खेती की आग वर्ष के अन्य समय में अधिक बार होती है)। 2020 लॉकडाउन ने मानव-निर्मित उत्सर्जन स्रोतों को कम कर दिया।

नासा ने जारी किया ये नक्शा

नासा ने जारी किया ये नक्शा

नासा के मार्शल स्पेस फ्लाइट सेंटर के एक यूनिवर्सिटी स्पेस रिसर्च एसोसिएशन (USRA) के वैज्ञानिक पवन गुप्ता ने कहा, "हमें पता था कि लॉकडाउन के दौरान हम कई स्थानों पर वायुमंडलीय संरचना में बदलाव देखेंगे।" "लेकिन मैंने वर्ष के इस समय इंडो-गंगा के मैदान में एरोसोल के मूल्यों को इतना कम नहीं देखा है।" उन्‍होंने एक नक्शा भी जारी किया जिसको देखने से पता चलता हैं कि लॉकडाउन के बाद इसमें क्या बदलाव आया। एयरोसोल ऑप्टिकल गहराई का एक उपाय है कि वायु के कणों द्वारा प्रकाश को अवशोषित या प्रतिबिंबित कैसे किया जाता है क्योंकि यह वायुमंडल के माध्यम से यात्रा करता है। यदि एरोसोल को सतह के पास केंद्रित किया जाता है, तो या उससे ऊपर की ऑप्टिकल गहराई बहुत धुंधली स्थितियों को इंगित करती है। संपूर्ण वायुमंडलीय ऊर्ध्वाधर स्तंभ पर 0.1 से कम की एक ऑप्टिकल गहराई, या मोटाई, को "स्वच्छ" माना जाता है। डेटा को नासा के टेरा उपग्रह पर मॉडरेट रिज़ॉल्यूशन इमेजिंग स्पेक्ट्रोमाडोमीटर (MODIS) द्वारा पुनर्प्राप्त किया गया था।

मौसम बिगड़ने पर हो सकती है इसमें वृद्धि

मौसम बिगड़ने पर हो सकती है इसमें वृद्धि

वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि भारत के कुछ हिस्सों में आगामी सप्ताह में एयरोसोल का स्तर थोड़ा बढ़ जाएगा क्योंकि धूल भरी मौसमी आधियां मौसमी आ सकते हैं। तापमान में वृद्धि और तेज हवाओं से थार रेगिस्तान और अरब प्रायद्वीप से रेत उड़ाने से पहले धूल की सांद्रता आमतौर पर मार्च और अप्रैल के शुरू में कम होती है। सवाल यह है कि क्या समग्र AOD सामान्य से नीचे रहेगा। नासा के MODIS एयरोसोल उत्पादों के प्रोग्राम लीडर रॉबर्ट लेवी ने बताया कि "एयरोसोल्स को समझने में मुश्किल हिस्सा यह है कि कण हवा के पैटर्न और अन्य मौसम विज्ञान पर आधारित हो सकते हैं।" "आपको मानव निर्मित बनाम मौसम संबंधी कारक के कारण क्या है, यह बताना होगा।"लॉकडाउन के पहले कुछ दिनों में, प्रदूषण में बदलाव का निरीक्षण करना मुश्किल था।

लॉकडाउन के पहले सप्‍ताह में भारी कमी देखी गई

लॉकडाउन के पहले सप्‍ताह में भारी कमी देखी गई

गुप्ता ने कहा, "हमने लॉकडाउन के पहले सप्ताह में एरोसोल में कमी देखी, लेकिन बारिश और तालाबंदी के कारण यह बंद हुआ।" 27 मार्च के आसपास, उत्तर भारत के विशाल इलाकों में भारी बारिश हुई और एरोसोल की हवा को साफ करने में मदद मिली। इस तरह की भारी वर्षा के बाद एयरोसोल सांद्रता आमतौर पर फिर से बढ़ जाती है ।गुप्ता ने कहा, "बारिश के बाद, मैं वास्तव में प्रभावित हुआ था कि एयरोसोल का स्तर ऊपर नहीं गया और सामान्य स्थिति में लौट आया।" "हमने एक क्रमिक कमी देखी, और चीजें उस स्तर पर रही हैं जो हम मानवजनित उत्सर्जन के बिना उम्मीद कर सकते हैं।"ऊपर दिए गए चार्ट 2016-2019 के औसत की तुलना में 1 जनवरी से 5 अप्रैल 2020 तक उत्तरी भारत में दैनिक औसत एयरोसोल निष्कर्षण गहराई दिखाता है। ध्यान दें कि फरवरी के अंत में AOD में वृद्धि भारतीय राज्य पंजाब और पड़ोसी पाकिस्तान में आग की गतिविधि के साथ हुईथी।

<strong>जानिए, दुनिया भर में लॉकडाउन से धरती को क्या हो रहा बड़ा फायदा</strong>जानिए, दुनिया भर में लॉकडाउन से धरती को क्या हो रहा बड़ा फायदा

English summary
lockdown effect on the atmosphere: Airborne Particle Levels Plummet in Northern India
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X