• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

प्रवासी राजनीति: निर्मला सीतारमण में प्रियंका गांधी से पूछा, 'बसें छत्तीसगढ़ क्यों नहीं भेजे?'

|

नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव और उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने प्रवासियों के लिए उत्तर प्रदेश में भेजने के लिए तैयार सैकड़ों बसों को बुधवार शाम 4 बजे तक इंतजार के बाद वापस बुला लिया है और लगातार तीन दिन से कांग्रेस और बीजेपी में प्रवासियों को लेकर चला राजनीतिक घमासान को अंत हो गया है।

buses

एक वीडियो मैसेज के जरिए प्रियंका गांधी ने यूपी सरकार पर जमकर निशाना साधते हुए कहा कि यूपी सरकार ने मामले को राजनीतिक रंग दे दिया जबकि उनकी मंशा प्रवासियों को मदद करने की थी। बुधवार शाम 4 बजे की समय सीमा से पहले जारी वीडियो संदेश में प्रियंका गांधी ने कहा, अगर आप बसों पर भाजपा के झंडे और स्टिकर का उपयोग करना चाहते हैं, तो करें, लेकिन कम से कम बसों को चलने दें।

buses

बस पॉलिटिक्स: प्रियंका के निजी सचिव पर केस के बाद अब डिप्टी सीएम ने कांग्रेस पर लगाया यह आरोप

उधर, पूरे मामले पर कांग्रेस नेता पर हमला करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि अगर वह (प्रियंका गांधी) वास्तव में यूपी सरकार के कामकाज पर निगाह रखती हैं, तो उन्हें देखना चाहिए कि यूपी में 300 श्रमिक ट्रेनें क्यों पहुंचीं, जबकि छत्तीसगढ़ में अभी तक 7 ट्रेन नहीं पहुंची हैं।

buses

सीतारमन ने आगे कहा कि उन्हें मामले का राजनीतिकरण नहीं करना चाहिए, क्योंकि प्रवासी भारतीय हैं और हम सभी को असाधारण स्थिति को ध्यान केंद्रित करते हुए एक साथ काम करना चाहिए।

बसों पर गरमाई राजनीति: अब मायावती ने ट्वीट कर प्रियंका गांधी को दी यह सलाह

दरअसल, उत्तर प्रदेश सरकार ने कांग्रेस पर धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए कांग्रेस द्वारा सूचीबद्ध बसों को चलाने की अनुमति देने का फैसला वापस ले लिया था, क्योंकि मुहैया कराए सूची में बसों के नाम पर ऑटोरिक्शा, टेम्पो और मालवाहक ट्रकों को सूचीबद्ध किया गया था।

buses

बीती देर रात बसों के गलत विवरण देने के लिए योगी सरकार ने प्रियंका गांधी के सचिव के खिलाफ प्राथमिकी भी दायर कराई गई। इतना ही नहीं, इस गंदी राजनीतिक लड़ाई में रायबरेली की कांग्रेस विधायक ने भी प्रियंका गांधी को आड़ों हाथ लिया और अपनी ही पार्टी हमला करते हुए योगी सरकार का समर्थन किया।

प्रियंका गांधी ने किया ट्वीट, कहा- जांच में सही मिली 879 बसों को तो चलने दीजिए..

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस विधायक अदिति सिंह ने बयान में कहा, संकट की घड़ी में यह क्षुद्र राजनीति क्यों? 1,000 बसों की एक सूची भेजी गई थी, लेकिन आधी से अधिक बसें नकली थीं, 297 दोषपूर्ण थीं, 98 ऑटो-रिक्शा और एम्बुलेंस-प्रकार की कारें थीं और 68 वाहन बिना पंजीकरण पत्र के थे। क्या क्रूर मजाक है? अगर बसें होतीं, तो उन्हें राजस्थान, पंजाब और महाराष्ट्र (सभी कांग्रेस शासित) में क्यों नहीं चलाया जाता।

buses

सूत्रों के हवाले से कहा जा रहा है कि मामले में अपनी पार्टी पर हमला करने की वजह कांग्रेस विधायक अदिति सिंह को कांग्रेस महिला विंग में उनके पद से निलंबित कर दिया गया है और उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई भी शुरू कर दी गई है।

बिना नाम लिए बीजेपी सांसद ने प्रियंका गांधी पर कसा तंज, ट्विटर पर भिड़े समर्थक

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
In a video message released before the 4 pm deadline on Thursday, Priyanka Gandhi said, if you want to use BJP flags and stickers on buses, do it, but at least let the buses run otherwise they will be sent back , But the Congress and its activists will continue to provide food and all possible help to the migrants.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X