• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

'खटिया में क्लेचर' को लेकर फैन ने किया शक, तो कुमार विश्वास बोले- 'तोहार भौजी का अहै'

|

नई दिल्ली। मशहूर कवि और आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता कुमार विश्वास सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं। चाहे ट्विटर हो या फेसबुक, कुमार विश्वास के चाहने वालों की संख्या लाखों में हैं, जहां उनकी कविताओं को काफी पंसद किया जाता है। कई बार ऐसे मौके भी आते हैं, जब कुमार विश्वास का कोई ट्वीट बेहद वायरल हो जाता है। कुछ ऐसा ही तब हुआ, जब कुमार विश्वास ने अपने फेसबुक पेज पर एक कविता पोस्ट की और उनके एक फैन ने मजाकिया लहजे में उनके ऊपर शक करते हुए एक कमेंट कर दिया। हालांकि कुमार विश्वास ने भी उस फैन के कमेंट का जवाब देने में देर नहीं लगाई।

'घर में अपनी कोई एक निशानी छोड़ जाती हो'

'घर में अपनी कोई एक निशानी छोड़ जाती हो'

दरअसल, कुमार विश्वास ने सोमवार को अपने फेसबुक पेज पर एक कविता की चार पंक्तियां लिखीं- 'कलेजे में जलन आंखों में पानी छोड़ जाती हो, मगर उम्मीद की चूनर को धानी छोड़ जाती हो, सताने की अदा ये भी तुम्हारी कम नहीं जाना, कि घर में अपनी कोई एक निशानी छोड़ जाती हो...!' कुमार विश्वास ने इस कविता के साथ एक तस्वीर भी शेयर की, जिसमें चारपाई में एक क्लेचर लगा हुआ था।

'आपको संदेह के घेरे में खड़ा करता है कविवर'

'आपको संदेह के घेरे में खड़ा करता है कविवर'

कुमार विश्वास की इस कविता और तस्वीर को देखकर उनके एक फैन ने मजाकिया लहजे में लिखा, 'इस तरह क्लेचर का खटिया में लगा होना आपको संदेह के घेरे में खड़ा करता है कविवर...'। इस कमेंट पर कुमार विश्वास ने जवाब देते हुए लिखा, 'तोहार भौजी का अहै मुंहझौंसा...'। इसके बाद कुमार विश्वास के जवाब को लेकर उनके बाकी फैंस भी चुटकी लेने लगे और उनकी ये पोस्ट वायरल हो गई।

किसान आंदोलन पर भी लिखी फेसबुक पोस्ट

किसान आंदोलन पर भी लिखी फेसबुक पोस्ट

आपको बता दें कि इससे पहले कुमार विश्वास ने किसानों के आंदोलन को लेकर भी अपने फेसबुक पेज पर एक पोस्ट लिखी, जो काफी वायरल हो रही है। दरअसल कृषि कानूनों के विरोध में किसानों ने आज भूख हड़ताल का ऐलान किया है, जिसपर कुमार विश्वास ने अपनी पोस्ट में लिखा, 'ये क्या हुआ कि हर इक खामुशी हुई मुहमल, मैं चुप हुआ तो मेरा शोर चुप हुआ ही नहीं...!' हे ईश्वर! सड़क पर जमी बेचैन आवाजों और शांत राजप्रासादों की अबूझ खामोशी के बीच पसरे इन सन्नाटों को, रात के इस पुल से गुजार कर कल सुबह के सूरज की तरह कोई रौशन रास्ता निकाल।'

'आज दिनभर उपवास..'

'आज दिनभर उपवास..'

वहीं, कुमार विश्वास ने 8 दिसंबर को किसानों की तरफ से बुलाए गए भारत बंद को समर्थन देते हुए उपवास भी रखा। कुमार विश्वास ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'आज दिनभर उपवास..'। गौरतलब है कि कृषि कानूनों के खिलाफ हरियाणा, पंजाब और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसान पिछले कई दिनों से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। किसानों और केंद्र सरकार के बीच पांच दौर की बातचीत हो चुकी है, लेकिन अभी तक मुद्दे का कोई हल नहीं निकला है।

'किसान धान उगाता है तो समाधान भी उगा ही लेगा'

'किसान धान उगाता है तो समाधान भी उगा ही लेगा'

किसानों को लेकर कुमार विश्वास ने बीते 2 दिंसबर को लिखा था, 'अपने बंगलों और अपार्टमेंटों की बालकनियों में बैठकर बौद्धिक जुगाली कर रहे अभिनेताओं और ज्ञानियों से सादर अनुरोध है कि वे किसान आंदोलन का समर्थन करें न करें, पर कम से कम किसानों की वास्तविक समस्याओं पर अपना अधकचरा तपसरा तो बंद करें। किसान धान उगाता है तो समाधान भी उगा ही लेगा।'

ये भी पढ़ें-मुश्किल वक्त में शाहरुख खान ने की केजरीवाल सरकार की खास मदद, सत्येंद्र जैन ने कहा शुक्रियाये भी पढ़ें-मुश्किल वक्त में शाहरुख खान ने की केजरीवाल सरकार की खास मदद, सत्येंद्र जैन ने कहा शुक्रिया

English summary
Kumar Vishwas Poem With Clature Viral On Facebook.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X