• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

जानिए, शेयर बाजार को प्रभावित करने में क्यों विफल रहीं वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण?

|

नई दिल्ली। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा भारतीय अर्थव्यवस्था में जान डालने के लिए घोषित भारी-भरकम 20 लाख करोड़ रुपए की आर्थिक पैकेज की घोषणा की पहली खेप का अनावरण किया, लेकिन गुरुवार को जब बाजार की खुला तो वित्त मंत्री द्वारा विभिन्न् सेक्टरों के लिए घोषित आर्थिक पैकेज शेयर बाजार को उठाने में लगभग विफल रही।

nirmala

इस पर विश्लेषकों का कहना है कि वित्त मंत्री द्वारा घोषित पैकेज मांग-पक्ष के मुद्दों को ठीक करने के बजाय आपूर्ति-पक्ष के मुद्दों को पूरा करने के लिए अधिक था। उन्होंने कहा कि वे 6 लाख करोड़ रुपए की घोषणाओं से छोटी अवधि में अर्थव्यवस्था को किसी बढ़ावे की उम्मीद नहीं करते हैं।

nirmala

 20 लाख करोड़ का राहत पैकेज: MSME के बाद आज वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण किसानों को दे सकती हैं तोहफा 20 लाख करोड़ का राहत पैकेज: MSME के बाद आज वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण किसानों को दे सकती हैं तोहफा

गौरतलब है बुधवार को वित्त मंत्री सीतारमन के बड़ी आर्थिक पैकेज के घोषणाओं के बावजूद बाजार शांत रहा। गुरूवार को सुबह 9.30 बजे तक बीएसई सेंसेक्स 600 अंकों की गिरावट के साथ 31,400 पर बंद हुआ था। वहीं, एनएसई निफ्टी 50 9,200 के स्तर का टिका हुआ था।

nirmala

वित्त मंत्री की घोषणाओं के बाद पीएम मोदी ने किया ट्वीट, कहा- उठाए गए कदम उद्यमियों को सशक्त बनाएंगेवित्त मंत्री की घोषणाओं के बाद पीएम मोदी ने किया ट्वीट, कहा- उठाए गए कदम उद्यमियों को सशक्त बनाएंगे

बुधवार को वित्त मंत्री सीतारमन ने एमएसएमई में 3 लाख करोड़ रुपए के जमानत-मुक्त ऋण और 50,000 करोड़ रुपए के इक्विटी निवेश की घोषणा की थी और बिजली वितरण कंपनियों ( डिस्कॉम्स) में 90,000 करोड़ रुपए की इमरजेंसी लिक्विडिटी की घोषणा के अलावा टीडीएस और टीसीएस पर 50,000 करोड़ रुपए की राहत की घोषणा की थी।

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण की प्रेस कॉन्फ्रेंस की बड़ी बातेंवित्तमंत्री निर्मला सीतारमण की प्रेस कॉन्फ्रेंस की बड़ी बातें

वित्त मंत्री की घोषणाओं की पहली खेप में पूर्ण प्रोत्साहन नहीं था

वित्त मंत्री की घोषणाओं की पहली खेप में पूर्ण प्रोत्साहन नहीं था

फिलिप कैपिटल ने कहाकोरोनावायरस प्रेरित लॉकडाउन से पस्त अर्थव्यस्था को गति देने के लिए जब बाजार को प्रधानमंत्री मोदी द्वारा घोषित पूरे 20 लाख करोड़ रुपये की प्रोत्साहन राशि का अनुमान था तो वित्त मंत्ती ने कहा कि घोषणाएं अगले कुछ दिनों में किश्तों में की जाएंगी, जबकि स्टॉक्स ने एक राजकोषीय बोनस की उम्मीद से लामबंद थी।

बुधवार की घोषणाओं का लक्ष्य MSMEs और NBFC को समर्थन देना था

बुधवार की घोषणाओं का लक्ष्य MSMEs और NBFC को समर्थन देना था

हालांकि बुधवार की घोषणाओं का लक्ष्य MSMEs और NBFC को समर्थन देना था, और आर्थिक पैकेज को एक बोनस के रूप में नहीं देखा जा सकता है। हालांकि फिलिप कैपिटल ने कहा कि वह कोई राय बनाने से पहले अभी पूर्ण आर्थिक पैकेज विवरण की प्रतीक्षा करेगा। एचडीएफसी सिक्योरिटीज के एमडी और सीईओ धीरज रेली ने कहा कि बाजार थोड़ा निराश था क्योंकि बड़े राजकोषीय प्रोत्साहन से तत्काल खर्च अपेक्षाकृत कम है और इस पर संदेह हो सकता है कि क्या आर्थिक विकास बड़ी संख्या में उत्तेजना के अनुपात में जल्द ही फिर से बढ़ेगा।

विश्लेषकों ने कहा घोषणा से अल्पकालिक राहत की संभावना नहीं है

विश्लेषकों ने कहा घोषणा से अल्पकालिक राहत की संभावना नहीं है

विश्लेषकों ने नोट किया कि अधिकांश घोषणाएँ क्रेडिट गारंटी के रूप में थीं। एमके ग्लोबल ने कहा कि वित्त वर्ष 21 में वास्तविक राजकोषीय घाटा 24,000 करोड़ रुपए अथवा जीडीपी का 0.12 फीसदी होना चाहिए। नोमुरा ने कहा, "हमें उम्मीद नहीं है कि हमारे भौतिक विकास के तरीकों में सुधार होगा, क्योंकि मल्टीप्लायर प्रभाव को मामूली रहना चाहिए। ब्रोकरेज की उम्मीद है कि 2020 में वास्तविक जीडीपी विकास दर 5 फीसदी तक गिर जाएगी। ब्रोकरेज उम्मीद करता है कि मार्च तिमाही में भारत की जीडीपी 1.5 फीसदी बढ़ सकती है

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन की घोषणाओं में धन विवरण गायब है

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन की घोषणाओं में धन विवरण गायब है

जब तक सभी घोषणाएं नहीं की जाती हैं, तब तक वित्त मंत्री ने पैकेज के वित्तपोषण के विवरण को विभाजित करने से इनकार कर दिया है। उन्होंने कहा कि घोषित धन का हिस्सा 4.2 लाख करोड़ रुपए अतिरिक्त उधार से आएगा।उन्होंने कहा कि अगले कुछ दिनों में 7.5 लाख करोड़ रुपए की शेष राशि के उपयोग की घोषणा की जाएगी।

MSME व NBFC के लिए कुल परिव्यय 6 लाख करोड़ है

MSME व NBFC के लिए कुल परिव्यय 6 लाख करोड़ है

मोतीलाल ओसवाल सिक्योरिटीज ने कहा कि भले ही एनबीएफसी के लिए विशेष तरलता खिड़की और एनबीएफसी उधार के लिए आंशिक क्रेडिट गारंटी (पीसीजी) सकारात्मक थी, लेकिन मध्यम आय के नजरिए से एनबीएफसी क्षेत्र के लिए यह पर्याप्त नहीं हो सकता है। "हमारे आकलन में एमएसएमई और एनबीएफसी के लिए सरकारी पैकेज के तहत कुल परिव्यय लगभग 6 लाख करोड़ रुपए है। हालांकि, सरकार का वास्तविक व्यय लगभग 1-1.9 लाख करोड़ तक सीमित हो सकता है।

 रेटिंग डाउनग्रेड के जोखिम बने हुए हैं

रेटिंग डाउनग्रेड के जोखिम बने हुए हैं

अन्य उभरते बाजारों की तुलना में भारत का संप्रभु ऋण-से-जीडीपी अनुपात उच्च है। क्रेडिट सुइस ने कहा कि रेटिंग एजेंसियों की संभावित कार्रवाई बाजारों और नीति निर्माताओं के लिए मुख्य चिंता का विषय है।

English summary
Analysts say the package announced by the finance minister was more to cater to supply-side issues than to fix demand-side issues. He said that he does not expect any boost to the economy in the short term with announcements of Rs 6 lakh crore. The stock market remained calm on Thursday morning, despite announcements by Finance Minister Sitharaman on a large economic package.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X