• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

जानिए क्यों कम संख्‍या में ऑडर की गई कोरोना वैक्‍सीन

|

नई दिल्‍ली, अप्रैल 28: कोरोना महामारी से लोगों को बचाने के लिए देश भर में टीकाकरण का अभियान युद्ध स्‍तर पर चल रहा है। कई राज्‍य कोरोना वैक्‍सीन की सप्‍लाई न होने का रोना रो रहे हैं। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि कोरोना की वैक्‍सीन की कमी के पीछे कारण क्या है सरकार ने पहले से फार्मा कंपनियों को पर्याप्‍त संख्‍या में वैक्‍सीन सप्‍लाई का ऑडर क्‍यों नहीं दिया? आइए जानते हैं इन्‍हीं सवालों का जवाब...

vaccine

बता दें केंद्र सरकार के वैक्सीन आदेशों को भी कम कर दिया है, यहां तक ​​फार्मा कंपनियों ने कोरोनोवायरस के ताजा प्रसार को रोकने के लिए एक बार पीछे हटती हुई नजर आ रही हैं। सरकार ने केवल शुरुआती चरण में 66 मिलियन खुराक के आदेश दिए, इसका मतलब था 30 मिलियन स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों और फ्रंट लाइन वर्करों का टीकाकरण करना, जिन्होंने 16 जनवरी, 2021 से अपने पहले शॉट्स प्राप्त करना शुरू कर दिया। ये ऑर्डर भारत और भारत के सीरम संस्थान के पास थे।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने अनुमान लगाया कि श्रमिकों के इन दो समूहों को ध्यान में रखते हुए लगभग 66 मिलियन खुराक की आवश्यकता होगी। पहले वैक्सीन की खरीद लागत - लगभग 1,300 करोड़ रुपये (13 बिलियन रुपये) थी जिसके भुगतान के लिए पीएम केयर्स फंड का उपयोग किया गया था। पीएम फंड वेब साइट के अनुसार, उसे वित्त वर्ष 2015 तक 3,076.62 करोड़ रुपये (30.76 बिलियन रुपये) रुपए मिले।

सरकार ने फंड का उपयोग वैक्सीन के भुगतान के लिए किया था। सरकार के एक प्रमुख अधिकारी ने कहा कि 66 मिलियन खुराक के आदेश के पीछे दो कारण थे। पहली गलत धारणा थी कि भारत में जल्द ही कोरोना की दूसरी लहर का कोई खतरा नहीं था। दूसरा इन्हीं फार्मा कंपनियों के साथ एक दशक पहले रखे गए इसी तरह के ऑर्डर का सरकार का एक्‍सपीरियंस था। इस मामले ने अदालतों की राह में रोड़ा अटका दिया है। इसमें शामिल राशि 30 करोड़ रुपये (300 करोड़ रुपये) थी।

दोनों कारणों के चलते स्वास्थ्य मंत्रालय को फार्मा फर्मों के साथ समझौते पर हस्ताक्षर करने में सतर्क रहा। नतीजतन, इसने सीरम से 56 मिलियन कोविशिल वैक्सीन की आपूर्ति के लिए और भारत बायोटेक से 10 मिलियन के लिए एक आदेश दिया था। आपूर्ति को चरणों में दोनों कंपनियों से इस साल मई के भीतर आना था। इसलिए, भले ही सीरम ने 3 जनवरी तक emergency authorisation प्राप्त कर लिया था और आपूर्ति जल्द ही शुरू हो गई थी, फिर भी आपूर्ति में तेजी लाने के लिए शुरू नहीं हुआ था।

सरकार और फार्मा कंपनियों के बीच पहले से मौजूद वैक्सीन का मामला 2009 में स्वाइन फ्लू के कारण एक और सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल से डर गया। एक बार भारत में फ्लू फैलने के बाद, सरकार वैक्सीन तैयार करने के लिए घरेलू फर्मों तक पहुंची। इन टीकों का इस्तेमाल आपात स्थितियों को पूरा करने के लिए भंडार के रूप में किया जाना था। दिसंबर 2009 तक आपूर्ति के आदेश की तारीख से तीन महीने के भीतर आपूर्ति की जानी थी।

जिंदा है इंसानियत: मैंने जिंदगी जी ली, इसके बच्‍चे अनाथ हो जाएंगे.. बुजुर्ग नारायण ने ये कहते हुए छोड़ा बेडजिंदा है इंसानियत: मैंने जिंदगी जी ली, इसके बच्‍चे अनाथ हो जाएंगे.. बुजुर्ग नारायण ने ये कहते हुए छोड़ा बेड

इन दोनों और पनासिया बायोटेक सहित फर्मों ने सरकार को सलाह दी थी कि उन्हें डेली टेस्‍ट पूरा करने के लिए निर्धारित तीन महीने से अधिक समय की आवश्यकता होगी। जब आदेश आए, तब तक डर निकल चुका था, सरकार को आदेश रद्द करने और फर्मों को झटका देने के लिए मजबूर होना पड़ा, जिससे टीकों को नष्ट करना पड़ा।

Photo: हनुमान जयंती और अंतिम शाही स्नान पर श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी

English summary
Know why a low number of corona vaccines ordered
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X