• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

UNGA: जानिए कौन हैं विदिशा मैत्रा, जिन्‍होंने यूएन में 5 मिनट में इमरान खान की उड़ा दी धज्जियां

|
    Vidisha Maitra आखिर है कौन, जिन्होंने 5 मिनट में उड़ा दी Imran Khan की धज्जियां | वनइंडिया हिंदी

    बेंगलुरु। संयुक्त राष्‍ट्र महासभा में पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत के खिलाफ खूब झूठ बोलते हुए कई आरोप लगाए । जिसका करारा जवाब भारत ने "राइट टू रिप्लाई" का इस्‍तेमाल करते हुए दिया। इमरान खान द्वारा 50 मिनट में दिए गए संबोधन में जो भारत के खिलाफ झूठ का गढ़ा उसे महज पांच मिनट में विदेश मंत्रालय की प्रथम सचिव विदिशा मैत्रा ने धज्जियां उड़ा दी। उन्‍होंने न केवल 'राइट टू रिप्लाई' का इस्तेमाल करते हुए पाकिस्‍तान के झूठ का न केवल पर्दाफाश किया बल्कि उसे हकीकत का आईना भी दिखाया।

    vidisha

    बता दें कि संयुक्त राष्ट्र महासभा में शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण के लगभग 17 मिनट बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भाषण दिया। अपने 50 मिनट के भाषण में खान ने भारत की एक गलत और मनगढ़त छवि पेश करने की कोशिश की। जिससे कि अतंरराष्ट्रीय बिरादरी को गुमराह किया जा सके। इमरान खान के प्रोपेगैंडा को ध्वस्त करने की जिम्मेदारी जिन विदेश मंत्रालय की प्रथम सचिव विदिशा मैत्रा को मिला वह यूएन मिशन में भारत की सबसे नई अधिकारी हैं।

    यूएनमें भारतीय मिशन की सबसे जूनियर सदस्‍य

    भारतीय विदेश सेवा की अधिकारी विदिशा मैत्रा 2009 बैच की अधिकारी हैं। साल 2008 में उन्होंने लोक सेवा की परीक्षा पास की थी। उन्हें पूरे देश में 39वीं रैंक मिली थी। 2009 में उन्हें विदेश मंत्रालय में 'बेस्ट ऑफिसर ट्रेनी' का गोल्ड मेडल मिला था।'परमानेंट मिशन ऑफ इंडिया टू द यूएन' की आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार वे संयुक्त राष्ट्र में वह भारतीय मिशन की सबसे जूनियर सदस्य हैं। संयुक्त राष्ट्र में तैनाती के बाद उन्हें पहली जिम्मेदारी सुरक्षा परिषद रिफॉर्म से जुड़े मुद्दे देखने की मिली। वह यूएन में सुरक्षा काउंसिल सुधार, सुरक्षा काउंसिल (पड़ोस/क्षेत्रीय मुद्दे) से जुड़े मामले देखती हैं। विशेष राजनीतिक मिशंस में भी विदिशा की अहम भूमिका होती है।

    un

    विदिशा ने कहा आतंकियों को पेंशन देने वाला अकेला देश

    इमरान खान के यूएन में बोले गए झूठ का पर्दाफाश करते हुए शनिवार को विदेश मंत्रालय की प्रथम सचिव विदिशा मैत्रा ने करारा जवाब दिया।उन्होंने कहा कि इमरान खान का भाषण नफरत से भरा हुआ था और उनकी कही हर बात झूठी है। उन्होंने अतंरराष्ट्रीय मंच का गलत इस्तेमाल करते हुए गुमराह करने की कोशिश की। पाकिस्तान ने खुलेआम वैश्विक आतंकी ओसामा बिन लादेन का बचाव किया था। उनका परमाणु को लेकर दिया गया बयान गैर जिम्मेदाराना है। खान ने कश्मीर राग अलापते हुए कहा था कि हमारे पास हथियारों को उठाने या परमाणु हथियारों का इस्तेमाल करने के अलावा कोई चारा नहीं रह जाएगा।

    मैत्रा ने कहा, 'मानवाधिकार की बात करने वाले पाकिस्तान को सबसे पहले पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की हालत देखनी चाहिए जिनकी संख्या 23 प्रतिशत से 3 प्रतिशत पर पहुंच गई है। वहां ईसाई, सिख, अहमदिया, हिंदू, शिया, पश्तून, सिंधी और बलोच पर सख्त ईशनिंदा कानून लागू किए जाते हैं, उनका उत्पीड़न और जबरन धर्मांतरण किया जाता है। पाकिस्तान को इतिहास नहीं भूलना चाहिए और याद रखना चाहिए कि 1971 में उसने अपने ही लोगों का नरसंहार किया था।'

    पाकिस्तान ने बनाई आतंकवाद की इंडस्ट्री

    उन्होंने कहा, 'बंदूके उठा लेना मध्यकालीन मानसिकता को दिखाता है न की 21वीं सदी की। कभी क्रिकेटर रहे इमरान खान जो जेंटलमैन के गेम की बात करते थे, आज बंदूकें उठाने और युद्ध की बात करते हैं। भारत के नागरिक नहीं चाहते कि कोई और उनकी तरफ से बोले। खासतौर से वह जिसने नफरत की सोच के साथ आतंकवाद की इंडस्ट्री बनाई है। ऐसा देश जो आतंकवाद और नफरत को मुख्यधारा में शामिल कर चुका है वो अब मानवाधिकारों का चैम्पियन बनकर अपने वाइल्डकार्ड इस्तेमाल करना चाहता है।'

    विदिशा ने इन सवालों से किया पाकिस्तान पर वार

    क्या पाकिस्तान इस बात को स्वीकार करेगा कि वह दुनिया का अकेला ऐसा देश है जो ऐसे व्यक्ति को पेंशन देता है

    जो यूएन की अल-कायदा और दाएश प्रतिबंधित सूची में नामित है?

    प्रधानमंत्री इमरान खान ने यूएन पर्यवेक्षकों को पाकिस्तान आने का न्यौता दिया है कि वह आएं और देखें कि वहां

    अब कोई आतंकी संगठन नहीं है। क्या वह अपने इस वादे को निभा पाएगा?

    क्या पाकिस्तान इस बात को स्वीकार कर सकता है कि वह यूएन द्वारा नामित 130 आतंकवादी और 25 आतंकी संगठनों का घर है?

    क्या पाकिस्तान बता सकता है कि यहां न्यूयॉर्क में उसके प्रमुख बैंक हबीब बैंक को आतंकवाद के वित्त पोषण पर लाखों डॉलर के जुर्माने के बाद अपनी दुकान बंद करनी पड़ी?

    क्या पाकिस्तान इससे इनकार करेगा कि वित्तीय कार्रवाई कार्य बल ने देश को 27 प्रमुख मानकों में से 20 से अधिक के उल्लंघन के लिए नोटिस दिया?

    इसे भी पढ़े-UNGA में क्‍या होता है Right to Reply जिसके बाद भारत ने पाकिस्‍तान को दिया करारा जवाब

    English summary
    Know who is Vidisha Maitra, who Eexposed Imran Khan's lies in 5 Minutes in UNGA
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X