• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

विस्मया सुसाइड केस में कोर्ट ने पति को दोषी ठहराया, आत्महत्या के लिए जिम्मेदार मानते हुए 10 साल की सुनाई सजा

|
Google Oneindia News

तिरुवनंतपुरम, मई 24। केरल की एक अदालत ने मंगलवार को विस्मया सुसाइड केस में अहम फैसला सुनाया। कोर्ट ने विस्मया के पति को दहेज हत्या और आत्महत्या के लिए उकसाने का दोषी माना और उसे 10 साल की जेल का आदेश सुनाया। साथ ही कोर्ट ने विस्मया के पति किरण कुमार पर 12.55 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया है, जिसमें 2 लाख रुपए विस्मया के माता-पिता को दिए जाएंगे।

vismaya dowry case

पिछले साल विस्मया ने लगा ली थी फांसी

आपको बता दें कि मेडिकल की छात्रा विस्मया ने 21 जून 2021 को कोल्लम जिले के सस्थामकोट्टा स्थित अपने घर में फांसी लगा ली थी। पुलिस ने विस्मया के पति किरण कुमार को गिरफ्तार किया था। किरण पर आरोप थे कि उसने अपनी पत्नी पर दहेज का दबाव बनाया, जिसके कारण विस्मया ने सुसाइड कर लिया। अदालत ने किरण को दोषी ठहराते हुए 10 साल की सजा सुना दी।

कोर्ट ने इन धाराओं के तहत सुनाई सजा

- अदालत ने किरण को दहेज प्रताड़ना के आरोप में आईपीसी 304 आत्महत्या के लिए उकसाने के लिए आईपीसी 306 के तहत छह साल की कैद और 2 लाख रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई गई है। यदि दोषी भुगतान करने में विफल रहता है तो 6 महीने की सजा और बढ़ जाएगी।

- अदालत ने किरण कुमार को घरेलू हिंसा का भी दोषी ठहराया है। घरेलू हिंसा के आरोप में किरण कुमार को आईपीसी 498ए के तहत दो साल कैद और 0.5 लाख रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई गई है। जुर्माना नहीं भरने पर तीन माह की अतिरिक्त सजा का प्रावधान है।

- इसके अलावा दहेज निषेध अधिनियम की धारा 3 के तहत किरण कुमार को छह साल कैद और 10 लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई गई है। जुर्माना नहीं भरने पर 18 महीने की अतिरिक्त कैद का प्रावधान है। दहेज निषेध अधिनियम की धारा चार के तहत अदालत ने एक साल की जेल और पांच हजार रुपये जुर्माने का आदेश दिया। जुर्माना नहीं भरने पर 15 दिन की अतिरिक्त कैद का प्रावधान है। ये सजाएं साथ-साथ चलती रहेंगी।

सजा पर पक्ष और विपक्ष के वकीलों में चली जिरह

आपको बता दें कि दोषी ने कोर्ट में कहा कि उसके पिता को भूलने की बीमारी है, ऐसे में चोट लगने की आशंका है और वह परिवार का एकमात्र कमाने वाला है और उसकी उम्र को ध्यान में रखा जाना चाहिए। प्रतिवादी के वकील ने कल अदालत में कहा कि किरण कुमार की कोई आपराधिक पृष्ठभूमि नहीं थी और वह पहले अन्य मामलों में शामिल नहीं था। हालांकि, अभियोजन पक्ष ने तर्क दिया कि यह किसी व्यक्ति के खिलाफ मामला नहीं है। यह सामाजिक बुराई - दहेज के खिलाफ मामला है। दहेज खरीदने वाला आरोपी सरकारी कर्मचारी है। अभियोजन पक्ष ने तर्क दिया कि विस्माया की आत्महत्या हत्या के समान थी और इसलिए फैसला अनुकरणीय होना चाहिए। आपको बता दें कि 23 मई को कोर्ट ने इस मामले में किरण कुमार को दोषी पाया था।

ये भी पढ़ें: कमरे में लाश को गाड़कर 7 महीने से साथ रह रहे थे प्रेमी-प्रेमिका, गर्लफ्रेंड से अफेयर के शक में दोस्त की हत्याये भी पढ़ें: कमरे में लाश को गाड़कर 7 महीने से साथ रह रहे थे प्रेमी-प्रेमिका, गर्लफ्रेंड से अफेयर के शक में दोस्त की हत्या

Comments
English summary
Kerala court Vismaya Husband sentenced to 10 years in jail
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X