• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

जनादेश मिलने पर पिनाराई विजयन बोले- केरल सांप्रदायिकता या धार्मिक विभाजन को स्वीकार नहीं करेगा

|
Google Oneindia News

तिरुवनंतपुरम, 2 मई: केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने विधानसभा चुनाव परिणाम में आज एक नए और निर्णायक जनादेश के साथ कायाकल्प किया। इस जीत से ने केरल में भाजपा के नेतृत्व वाले विपक्षी गठबंधन को परास्‍त कर दिया। भले ही उनकी सरकार की मुख्य प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस, संयुक्त लोकतांत्रिक मोर्चा (यूडीएफ) बनी हुई है। एडीटीवी को दिए साक्षात्‍कार में केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने कहा कि विधानसभा चुनाव में सत्तारूढ़ मोर्चे की जीत, केरल में धार्मिक विभाजन की अस्वीकृति का प्रतीक है।

पिनाराई विजयन

लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट ने आज केरल में सत्‍ता पर दोबारा जीत हासिल की है। यूडीएफ और बीजेपी के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) को हराकर2016 में 97 सीटों पर कब्जा कर लिया था। एनडीए, राज्य की राजनीति में एक प्रमुख तीसरा स्तंभ है, अपनी एकल सीट - निमोम - से एलडीएफ भी हार गई। यहां तक ​​कि अंतिम मतों की गिनती अभी भी की जा रही है। विजयन, जिन्होंने खुद कन्नूर में धर्मदोम निर्वाचन क्षेत्र पर बड़े अंतर से जीत हासिल की है। उन्‍होंने एनडीए पर हमला करते हुए कहा कि वह राज्य में लंबे समय से सामाजिक सद्भाव के लिए धार्मिक संघर्ष को भड़काने की कोशिश कर रहा था।

केरल में भाजपा के लिए कोई जगह नहीं है। केरल सांप्रदायिकता या धार्मिक विभाजन को स्वीकार नहीं करेगा। "कांग्रेस या यूडीएफ द्वारा क्रॉस वोटिंग के कारण भाजपा ने अपनी पिछली सीट जीती। हमने कहा था कि हम केरल में भाजपा का खाता बंद कर देंगे।" पूर्व मिजोरम के राज्यपाल कुम्मनम राजशेखरन ने अपने सबसे प्रसिद्ध उम्मीदवारों में से एक को मैदान में उतारने के बावजूद एनडीए ने तिरुवनंतपुरम में आज निमोम को खो दिया। कुछ अन्य बड़े एनडीए के नाम, जैसे मेट्रो मैन ई श्रीधरन और राज्य भाजपा प्रमुख के सुरेंद्रन भी असफल हो गए।

विजयन ने केरल पर ध्यान केंद्रित करने के लिए कांग्रेस, विशेष रूप से अपने समर्थन दल के नेता राहुल गांधी की जमकर क्‍लास लगाई। विजयन ने कहा, "राहुल गांधी एक राष्ट्रीय नेता हैं, लेकिन लोग उन्हें केरल में वामपंथियों के साथ छेड़छाड़ करते हुए देखने के लिए तैयार नहीं हैं। भाजपा के नेतृत्व वाले कई राज्य हैं, जहां वह जा सकते हैं और प्रचार कर सकते हैं। इसके बजाय, वह केरल पर ध्यान केंद्रित करते हैं।" विजयनल ने कहा मेरी सरकार द्वारा उठाए गए कई समर्थक उपायों के कारण केरल के लोगों ने एलडीएफ की वापसी को चुना । उन्होंने आश्वासन दिया चाहे वह फिर से मुख्यमंत्री बने या नहीं, एलडीएफ सुनिश्चित करेगा कि राज्य का विकास जारी रहे।

English summary
Kerala Chunav Results 2021 :Pinarayi Vijayan said after mandate - Kerala will not accept communalism or religious division
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X