• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

मोटर व्हीकल एक्ट को लेकर केरल सरकार का बड़ा फैसला, लोगों को मिलेगी बड़ी राहत

|

नई दिल्ली। केंद्र सरकार द्वारा लागू किए गए मोटर व्हीकल एक्ट 2019 में चालान की राशि देखने के बाद से लोगों के हाथ-पांव फूल गए। वहीं, कई अन्य राज्यों ने इसका विरोध करते हुए प्रदेश में नया मोटर व्हीकल एक्ट लागू करने से इनकार कर दिया और उसमें बदलाव करने की बात पर विचार करने की बात कही। इन राज्यों में केरल भी शामिल था जिसने अपने लोगों को बड़ी राहत दी है। केरल की कैबिनेट ने केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित चालान की राशि में कटौती करते हुए प्रदेश में लागू कर दिया है।

Kerala cabinet has decided to reduce fines of new Motor Vehicle Act

मिली जानकारी के मुताबिक केंद्र सरकार ने मोटर व्हीकल एक्ट 2019 में जहां ओवरलोडिंग और ओवर स्पीडिंग के लिए 2000 से 4000 रुपये का चालान रखा था वहीं, केरल सरकार ने इसमें कटौती करते हुए 3000 रुपये चालान की राशि के साथ लागू किया है। ऐसे ही, वाहन चलाते समय मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर राज्य सरकार ने 2000 रुपये चालान निर्धारित किया है जबकि केंद्र सरकार ने इस पर 1000 से 5000 रुपये तक का चालान रखा था।

यह भी पढ़ें: जोमैटो को बड़ा झटका, साफ-सफाई न रखने पर चेन्नई निगम ने काटा 1 लाख रुपये का चालान

काटे गए धड़ाधड़ चालान
नया मोटर व्हीकल एक्ट 2019 लागू होने के बाद से ट्रैफिक पुलिस नें भी वाहन चालकों के धड़ाधड़ चालान काटे। इससे नाराज कुछ लोगों ने हंगामा किया तो कुछ ने सड़क पर ही अपनी गाड़ी को आग के हवाले कर मोटर व्हीकल एक्ट का विरोध दर्ज कराया। हाल ही में ऐसी कई खबरें सुर्खियों में रहीं जिनमें वाहन की कीमत से ज्यादा उसके चालान काटे जानें का मामला था। आकड़ों के अनुसार जनवरी से लेकर अगस्त महीन के बीच ट्रैफिक पुलिस ने 5 लाख 35 हजार 689 लोगों के चानाल काटे। वहीं एनएच-24 पर लगे कैमरों के जरिए 2 लाख से ज्यादा लोगों के घर पर चालान भेजा गया।

English summary
Kerala cabinet has decided to reduce fines of new Motor Vehicle Act
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X