• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

महिलाओं की आजादी के नाम हुए इस फोटोशूट पर मचा बवाल,धार्मिक भावनाओं को आहत करने लगा आरोप

|

बेंगलुरु। केरल के अलुवा में एक फोटोग्राफर द्वारा महिलाओं की आजादी के नाम पर किए गए महिला के फोटोशूट पर धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप लग रहा है। इन दिनों जब नवरात्रि के अवसर पर देवी की पूजा की जा रही है ऐसे समय में इस फोटो में कुछ ऐसा है जो लोगों को गुस्‍सा दिला रहा है। सोशल मीडिया यूजर्स के एक वर्ग ने नवरात्रि के त्योहार के दौरान इसे पोस्ट करके धार्मिक भावनाओं को आहत करने के वाले फोटोशूट का का आरोप लगाया है। आइए जानते हैं आखिर इस फोटो में ऐसा क्‍या है जिस पर लोगों का गुस्‍सा उबाल पर पहुंच चुका है?

सिगरेट और शराब की एक बोतल के साथ दिखाई गई है ये महिला

सिगरेट और शराब की एक बोतल के साथ दिखाई गई है ये महिला

फोटोग्राफर का दावा है यह महिलाओं की आजादी के बारे में है जिसमें महिला सुर्ख लाल लाल रंग की साड़ी में लिपटी है और हाथों में कमल, शंख और त्रिशूल लेकर बैठी है। फोटो के एक अन्य सेट में इस महिला का शंख, कमल और त्रिशूल जमीन पर पड़े हैं, क्योंकि वह धूम्रपान करती दिखाई दे रही है। शराब की एक बोतल उसकी गोद में पड़ी है। तीन तस्वीरों के एक सेट पर कैप्शन दिया गया है "एक महिला को एक देवी माना जाता है, लेकिन उसके साथ क्या व्यवहार किया जाता है? अक्सर पवित्रता, मासूमियत और सहिष्णुता के एक आसन पर बैठने के लिए बनाया जाता है, उससे उसका व्यक्तित्व छीन लिया जाता है। क्या यह समय नहीं है कि हम उसकी मानवता को स्वीकार करें?"

अमिताभ बच्‍चन से शख्‍स ने पूछा- आप दान क्यों नहीं करते, तो बिग बी ने दिया ये करारा जवाब

महिला का शंख, कमल और त्रिशूल जमीन पर पड़े हैं और महिला की गोद में पड़ी है फोटो

महिला का शंख, कमल और त्रिशूल जमीन पर पड़े हैं और महिला की गोद में पड़ी है फोटो

फोटो के एक अन्य सेट में इस महिला का शंख, कमल और त्रिशूल जमीन पर पड़े हैं, क्योंकि वह धूम्रपान करती दिखाई दे रही है। शराब की एक बोतल उसकी गोद में पड़ी है। पृष्ठभूमि में, एक रेडियो है। इस फोटो को कैप्शन दिया गया है "whre", "slt", and "rebel" जैसे लेबल उन महिलाओं का इंतजार करते हैं जो पैदल चलने से रोकने की हिम्मत करती हैं कि वह खड़े होने के लिए बनी हैं। वे एक बदलते हैं और उन्हें अब परवाह नहीं है।

दर्दनाक: 74 वर्षीय आदमी को फ्रीजर में रखकर, परिवार करता रहा रात भर मरने का इंतजार

फोटोग्राफर की जमकर यूजर्स ने क्‍लास लगाई

इस फोटो पर कुछ लोगों से "बहुत बोल्ड" से "सुंदर" तक, फोटोशूट को कई प्रशंसात्मक टिप्पणियां मिलीं। वहीं बड़ी संख्‍या ने इसको देवी के रुप में दिखाई गई महिला को हाथ में सिगरेट और गोद में शराब की बोतल दिखाने के लिए फोटोग्राफर की जमकर क्‍लास लगाई है। एक यूजर ने कहा "उसे देवी मत कहो, वह शैतान है। वहीं सोशल मीडिया के यूजर्स के एक वर्ग ने नवरात्रि के त्योहार के दौरान इसे पोस्ट करके धार्मिक भावनाओं को आहत करने के लिए फोटोशूट पर आरोप लगाया है।

जानिए किन्‍होंने किया ये फोटोशूट

जानिए किन्‍होंने किया ये फोटोशूट

बता दें केरल के अलुवा स्थित एक फोटोग्राफर दीया जॉन ने महिलाओं की आजादी के बारे में बात करने के लिए अथिरा हरिकुमार की चौंकाने वाली इन तस्वीरों को कैद किया। टीम में मेकअप कलाकार जैकब अनिल, स्टाइलिस्ट ज़ोहिब ज़ाय, सहायक फोटोग्राफर जस्टिन पॉल और अक्षय रंजीथ शामिल थे। जॉन ने कहा कि हर जगह, यह उम्मीद की जाती है कि महिलाएं आज्ञाकारी हैं और उन्हें स्वतंत्रता नहीं दी जानी चाहिए। लेकिन वे स्वतंत्रता चाहती हैं। उनके सपने हैं।

फोटोग्राफर ने फोटो की आलोचना के बाद दिया ये जवाब

फोटोशूट को मिली आलोचना का जवाब देते हुए जॉन ने कहा, "मैं उन चीजों पर प्रतिक्रिया नहीं देने जा रहा हूं। मैं किसी धर्म का अपमान नहीं कर रहा हूं। हम केवल महिलाओं पर जोर दे रहे हैं।" "हम एक देवी के लेबल को हटाने की कोशिश कर रहे थे जो एक महिला को दी गई है। कहीं भी हमने किसी देवी के नाम का उल्लेख नहीं किया है, और न ही हमने इसे धार्मिक-विरोधी दृष्टिकोण से लिया है," जॉन ने कहा, "महिलाओं के बारे में और उनकी स्वतंत्रता यह मानवता के बारे में है। "

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
This photoshoot in the name of women's freedom created a ruckus, accusations of hurting religious sentiments
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X