कठुआ गैंगरेप: गांववालों ने बच्ची दफनाने के लिए नहीं दी जमीन, गांव से 8 किमी दूर है उसकी कब्र

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

जम्मू। कठुआ में आठ साल की बच्ची के साथ रेप और हत्या की घटना ने देश को झकझोर कर ऱख दिया है। अब इस मामले में एक और हैरान कर देने वाली खबर सामने आई है। बच्ची को रसाना गांव से करीब आठ किमी की दूरी पर गेहूं में दफनाया गया है। हिंदुस्तान टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक, नाबालिग बच्ची की करीब पांच फीट लंबी यह कब्र उसके अन्य रिश्तेदारों के ही पास में स्थित है। कब्र के दोनों छोरो पर दो बड़े पत्थर रखे हैं।

kathua

बच्ची के ही एक रिश्तेदार ने बताया, 'हमारी परंपरा के मुताबिक कब्र को तुंरत पक्का नहीं किया जाता। हम इसे तब पक्का नहीं करेंगे जब तक बच्ची के माता-पिता अपने मवेशियों के साथ एक साल बाद वापस लौटकर नहीं आ जाते।' आपको बता दें कि 17 फरवरी को बच्ची का शव बरामद होने के बाद बच्ची के परिजन चाहते थे कि बच्ची का शव रसाना में दफनाया जाए। लेकिन गांव वालों ने विरोध कर दफनाने से मना कर दिया।

गांव वालों का कहना था कि बकरवाल मुस्लिम समुदाय इलाके से संबंध नहीं रखता है। और ना ही ये उनकी जमीन है। इस संबंध में गांव वालों ने उन्हें कागजात भी दिखाए। बच्ची की दादी ने बताया कि, हम लोग कब्र की आधी खुदाई कर चुके थे। लेकिन गांव वालों ने आकर मना कर दिया। इसे बाद बच्ची के एक रिश्तेदार ने गांव से आठ किमी दूर जमीन दी। जहां पर उसको दफनाया गया।

बच्ची के सौतेले पिता जिन्होंने उसे बचपन में गोद लिया था, तो उनकी इच्छा थी कि बच्ची के शव को रसाना गांव में दफनाया जाए। दरअसल उनके तीन बच्चे और पत्नी दफन हैं। तीन बच्चों और उनकी मां की एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई थी जिसके बाद उन्हें इसी गांव में दफनाया गया था। लेकिन इस बार गांव वालों ने बच्ची का शव दफनाने के लिए जमीन देने से इंकार कर दिया। कहा कि यह जमीन मुस्लिम समुदाय की नहीं है, इसलिए यहां बच्ची को दफन नहीं कर सकते हैं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Kathua rape victim buried 8km from village after rasana locals refuse land

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.