• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Rafale डील में निभाई इस IAF अधिकारी ने अहम भूमिका, कश्मीर से है खास रिश्ता

|

नई दिल्ली। लड़ाकू विमान राफेल का पहला बैच कल यानि 29 जुलाई को भारत पहुंचने वाला है। फ्रांस से रवाना हुए पांच राफेल लड़ाकू विमान बुधवार को अंबाला एयरबेस पर पहुंचेंगे। राफेल को भारत तक पहुंचाने में सबसे अहम भूमिका एक कश्मीर अफसर एयर कोमोडोर हिलाल अहमद राथर की रही। उन्होंने ही राफेल को भारतीय वायुसेना की जरूरतों को हिसाब से तैयार करवाने में बड़ी भूमिका निभाई। आज राफेल के कॉकपिट में एयर कोमोडोर हिलाल अहमद राथर की फोटो सामने आने के बाद ट्विटर पर अनंतनाग टॉप ट्रेडिंग में आ गया।

    Rafale in India : Air Commodore Hilal Ahmed Rather को देख खुशी से झूम उठे कश्मीरी | वनइंडिया हिंदी
    हिलाल अहमद कश्मीर के अनंतनाग जिले से ताल्लुक रखते हैं

    हिलाल अहमद कश्मीर के अनंतनाग जिले से ताल्लुक रखते हैं

    एयर कमोडोर हिलाल अहमद राथर फ्रांस में भारतीय वायुसेना के एयर अटैच के रूप में तैनात हैं। हिलाल अहमद कश्मीर के अनंतनाग जिले से ताल्लुक रखते हैं और यहां के बख्शियाबाद इलाके से हैं। उन्होंने सैनिक स्कूल से पढ़ाई की थी, जिसके बाद 1988 में वायुसेना ज्वाइन कर ली। शुरुआत एक फ्लाइट लेफ्टिनेंट से हुई और अब वो एक एयर कॉमोडोर हैं। हिलाल को एनडीए में स्वॉर्ड ऑफ ऑनर का खिताब भी मिला हुआ है। अब अपने माता-पिता के अकेले बेटे हैं।

    हिलाल अहमद राथर ने भारत की हर जरूरत का रखा ख्याल

    हिलाल अहमद राथर ने भारत की हर जरूरत का रखा ख्याल

    जिस दिन फ्रांस से पांच राफेल फाइटर प्लेन भारत के लिए उड़ान भर रहे थे, तो उस दिन फ्रांस में भारतीय राजदूत जावेद अशरफ के साथ वायुसेना के एक वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे, जो वायरल हो रही तस्वीरों में उनके साथ दिख रहे हैं। राफेल की सही वक्त पर डिलीवरी, भारत की जरूरतों का ध्यान रखना फ्रांस में एयर कॉमोडोर हिलाल अहमद के हाथ में यही जिम्मेदारी थी, जिन्हें उन्होंने बखूबी निभाया। इस बात पर कश्मीरी ट्विटर पर अपने जोश का इजहार कर रहे हैं।

    हिलाल अहमद के पास 3000 घंटे तक एयरक्राफ्ट उड़ाने का अनुभव

    हिलाल अहमद के पास 3000 घंटे तक एयरक्राफ्ट उड़ाने का अनुभव

    हिलाल अहमद के पास 3000 घंटे तक मिग-21, मिराज- 2000 और किरन एयरक्राफ्ट उड़ाने का अनुभव है। एयर कोमोडोर हिलाल अहमद राठेर को 2010 में वायु सेना मेडल से नवाजा गया था जब वो विंग कमांडर हुआ करते थे। 2016 में उन्हें विशिष्ट सेना मेडल से भी सम्मानित किया गया है। उस वक्त वो ग्रुप कैप्टन थे।

    ट्विटर पर जमकर ट्रेंड हुआ अनंतनाग

    @Beingsajiddarr के ट्विटर हैंडल ने अक्टूबर 2019 का एक वीडियो शेयर किया जिसमें एयर कोमोडोर हिलाल अहमद राठेर राफेल की शस्त्र पूजा की तैयारियों में जुटे दिख रहे हैं। ट्वीट में कहा गया है, 'प्रिय पाकिस्तान, कृपया इस वीडियो को देखो! एक कश्मीरी एयर कोमोडोर हिलाल अहमद राठेर राजनाथ सिंह की मौजूदगी में आयोजित समारोह में एक सिख ग्रुप कैप्टन आनंद के साथ शस्त्र-पूजा की तैयारी कर रहा है। अब खालिस्तान और कश्मीर पर रोते रहो।

    किले में तब्दील हुआ अंबाला एयरबेस, राफेल की लैंडिंग से पहले धारा 144 लागू, 3 किमी तक नो ड्रोन जोन

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Kashmiri IAF officer Hilal Ahmad Rather played key role in fastracking India’s import of Rafale
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X