• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

कपिल सिब्बल ने कहा- मैं किसी की क्षमता पर उंगली नहीं उठा रहा, कांग्रेस के लाखों कार्यकताओं की आवाज उठा रहा हूं

|

नई दिल्‍ली। देश की राष्‍ट्रीय राजनीतिक पार्टी कांग्रेस के पतन के बारे में वरिष्‍ठ नेता कपिल सिब्बल की टिप्‍पणी के बाद पार्टी दो धड़ों में बंटती दिख रही है। बिहार विधानसभा चुनाव और कुछ राज्यों के उपचुनाव परिणाम के बाद पार्टी के वरिष्‍ष्‍ठ नेता कांग्रेस की जमीनी हालत को लेकर एक के बाद चिंतित होकर बयान दे रहे हैं लेकिन ये बात गांधी परिवार की पैरवी करने वाले कांग्रेसियों के गले नहीं उतर रही। यहीं कारण है कि खुले तौर पर नेताओं के बीच वाक युद्ध आरंभ हो चुका है। कपिल सिब्बल ने बिहार में मिली हार पर शीर्ष नेताओं से सवाल उठाए तो कांग्रेस के कई नेताओं ने उन पर खुलकर पलटवार किया। इसके बाद शुक्रवार को कपिल सिब्बल ने इसका जवाब दिया है।

kapilsibbal

इंडिया टुडे को कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने दिए साक्षात्‍कार में कहा कि समस्‍या इस बात की है कि लगभग डेढ़ वर्ष पहले राहुल गांधी ने यह बात साफ कर दिया है कि वे अब कांग्रेस का अध्यक्ष नहीं बनना चाहते। राहुल गांधी ने ये भी था कि मैं नहीं चाहता कि गांधी परिवार का कोई भी व्यक्ति उस पद बैठे। आगे कपिल सिब्बल ने कहा इस बात के डेढ़ साल बीत जाने के बाद मैं ये पूछता हूं कि कोई राष्ट्रीय पार्टी इतने लंबे समय तक अपने अध्यक्ष के बिना कैसे काम कर सकती है। उन्‍होंने अपने साक्षात्‍कार में कहा मैंने पार्टी के भीतर आवाज उठाई थी। अगस्‍त महीने में पार्टी के शीर्ष को एक लेटर भी लिखा लेकिन किसी ने जवाब नहीं दिया। उन्‍होंने कहा मैं जानना चाहता हूं कि डेढ़ साल बाद भी हमारी पार्टी का कोई अध्यक्ष नहीं है। कार्यकर्ता अपनी समस्या लेकर किसके पास जाएं।

congress

साक्षात्‍कार में कांग्रेस के कद्दादार नेता कपिल सिब्बल बोले कि एक राष्ट्रीय पार्टी के लिए यह कठिन स्थिति है और तब जब वह सबसे पुरानी पार्टी हो। उन्‍होंने कहा मैं किसी की क्षमता पर उंगली नहीं उठा रहा पार्टी के संविधानों की बात कर रहा कि चुनाव होना चाहिए। उन्‍होंने कहा जब हम ही चुनाव नहीं करवाएंगे तो चुनाव में अच्‍छे परिणाम कैसे प्राप्‍त करेंगे। उन्‍होंने कहा कि ये ही बातें हमने अगस्‍त माह में पार्टी को लिखे गए लेटर में भी कहा था। उन्‍होंने कहा मुझे अपनी पार्टी की चिंता है। मैं पार्टी फोरम में बात कैसे रखूं जब मैं कभी सीडब्ल्यूसी का हिस्सा नहीं रहा और न ही पिछले डेढ़ साल से पार्टी का कोई अध्‍यक्ष है। मुझसे पहले गुलाम नबी ने भी दो लेटर लिखे थे।

कांग्रेस अच्‍छा प्रदर्शन नहीं करती तो हमारी भावनाएं आ‍हत होती हैं

अधीर रंजन की टिप्पणी पर कपिल सिब्बल ने कहा कि मैं उनकी बातों पर मैं कुछ नहीं कहूंगा, अगले साल पश्चिम बंगाल में चुनाव हैं। पार्टी ने अधीर रंजन को उसकी जिम्‍मेदारी दी है उन्‍हें अपनी पूरी एनर्जी उस पर फोकस करनी चाहिए। सिब्बल ने आगे कहा अगर कांग्रेस चुनाव में अच्‍छा प्रदर्शन नहीं करती तो हमारी भावनाएं बहुत आहत होती है। मैं तो कांग्रेस में लोकतांत्रिक सिस्‍टम को प्रमोट करने की बात कर रहा हूं और लाखों कार्यकताओं की आवाज उठा रहा हूं। कपिल सिब्बल ने आगे कहा कि हम 2014 में हारे कुछ नहीं हुआ, फिर हम 2019 में हारे इसके बाद कोई बदलाव नहीं हुआ। चुनाव होते रहते हैं लेकिन मैं चाहता हूं कि कांग्रेस पार्टी कम से कम अपने भविष्‍य के रास्‍तें में ठीक से और संभल कर चले।

कांग्रेस को मिली चुनावी हार,पार्टी में पड़ रही फूट और दुर्दशा पर चिदंबरम ने बयां किया ये सच

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Kapil Sibal said - I am not against the Gandhi family, raising the voice of Congress workers
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X