• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

NIA की आपत्ति के बाद जस्टिस शिंदे ने दिवंगत स्टेन स्वामी की प्रशंसा वाली टिप्पणी वापस ली

|
Google Oneindia News

मुंबई, जुलाई 23: जस्टिस एसएस शिंदे की अध्यक्षता वाली बॉम्बे हाईकोर्ट की खंडपीठ ने एल्गर परिषद के आरोपी दिवंगत फादर स्टेन स्वामी की प्रशंसा में दिए गए मौखिक बयानों को वापस ले लिया है। जिनका हाल ही में गंभीर बीमारी के कारण निधन हो गया था। यह बयान तब सामने आया है जब राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) का प्रतिनिधित्व कर रहे अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल (एएसजी) अनिल सिंह ने शुक्रवार को एक सुनवाई के दौरान आपत्ति जताई। दरअसल जस्टिस शिंदे ने कहा था कि 'स्टेन स्वामी अद्भुत व्यक्ति थे और उन्होंने समाज के लिए सेवाएं प्रदान की थीं।

Justice SS Shinde withdrawn oral statements made in praise late Father Stan Swamy

बॉम्बे हाईकोर्ट ने सोमवार को दिवंगत जेसुइट पुजारी स्टेन स्वामी को याद करते हुए कहा था कि कानूनी मामले के बावजूद, वे समाज के लिए उनके द्वारा किए गए काम की प्रशंसा करते हैं और चाहे आज की कानूनी स्थिति जो भी हो। हमने उनका अंतिम संस्कार ऑनलाइन देखा और यह बहुत सम्मानजनक और शालीन तरीके से किया गया। सुनवाई के दौरान अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल (एएसजी) अनिल सिंह ने कहा कि एनआईए के खिलाफ नकारात्मक धारणा बनाई जा रही है और इससे जांचकर्ताओं की नैतिकता प्रभावित होती है।

एएसजी ने कहा कि न्यायमूर्ति शिंदे द्वारा खुली अदालत में टिप्पणी किए जाने के बाद, मीडिया में इसे व्यापक रूप से रिपोर्ट किया गया है। इस पर जस्टिस एसएस शिंदे ने कहा कि जज भी इंसान होते हैं और 5 जुलाई को फादर स्टेन स्वामी की मौत की खबर अचानक आई। न्यायमूर्ति शिंदे ने कहा, मैंने कहा था, जहां तक कानूनी मुद्दों का संबंध है, वह अलग है। मान लीजिए कि आप आहत हैं कि मैंने व्यक्तिगत रूप से कुछ कहा है, तो मैं उन शब्दों को वापस लेता हूं।

महाराष्ट्र में आफत की बारिश, कोल्हापुर में 45-50 और सतारा में 8 लोगों की मौत, 2 लापतामहाराष्ट्र में आफत की बारिश, कोल्हापुर में 45-50 और सतारा में 8 लोगों की मौत, 2 लापता

जस्टिस शिंदे ने कहा कि, हमारा प्रयास हमेशा संतुलित रहना है। हमने कभी टिप्पणी नहीं की है। ...लेकिन आप देखिए मिस्टर सिंह, हम भी इंसान हैं और अचानक कुछ ऐसा हो जाता है। जस्टिस शिंदे ने आगे कहा कि अगर इससे किसी को ठेस पहुंची है तो वह अपनी टिप्पणी वापस ले लेंगे। न्यायमूर्ति शिंदे ने शुरू में यह भी स्पष्ट किया कि मामले में किसी वकील या एजेंसी के खिलाफ कोई व्यक्तिगत टिप्पणी नहीं की गई। न्यायमूर्ति शिंदे ने आगे जोर देकर कहा कि उन्होंने अदालत में एएसजी के आचरण की सराहना की और इस तथ्य की प्रशंसा की कि वह कभी भी किसी भी मामले से नहीं जुड़े।

English summary
Justice SS Shinde withdrawn oral statements made in praise late Father Stan Swamy
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X