• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Nirbhaya Case: कोर्ट के फैसले से निराश निर्भया की मां ने कहा-मुझे क्यों सजा मिल रही है?

|
    Nirbhaya Case: कानून पेंच में फिर फंसी फांसी, फूट-फूटकर रोईं निर्भया की मां |वनइंडिया हिंदी

    नई दिल्ली। राजधानी की पटियाला हाउस कोर्ट में निर्भया गैंगरेप के दोषी मुकेश की तरफ से दी गई अर्जी पर सुनवाई करते हुए पटियाला हाउस कोर्ट ने दोषियों की फांसी पर स्टे लगा दिया है, जिसकी वजह से अब गुनाहगारों को 22 जनवरी को फांसी नहीं होगी। पटियाला हाउस कोर्ट ने अभियोजन पक्ष की दलील मानते हुए कहा कि दोषियों को 22 जनवरी को फांसी नहीं दी जा सकती, क्योंकि उनकी दया याचिका अभी लंबित है। कोर्ट ने कहा कि जेल अधिकारियों को यह रिपोर्ट देनी होगी कि वे 22 जनवरी को फांसी नहीं देंगे।

    निर्भया की मां निराश और नाराज

    निर्भया की मां निराश और नाराज

    कोर्ट के फैसले से निर्भया की मां आशा देवी नाराज हैं, उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार नहीं चाहती है कि दोषियों को फांसी हो, फांसी में हो रही देरी के लिए दिल्ली सरकार जिम्मेदार है, दोषियों को फायदा क्यों मिल रहा है, मेरी बेटी की हत्या हुए सात साल हो गए हैं, लेकिन आज भी मैं न्याय के लिए लड़ रही हूं, यह सरकार की गलती है, मैं एक कोर्ट से दूसरे कोर्ट जा रही हूं बस,मुझे क्यों सजा दी जा रही है।

    यह पढ़ें:पूजा हेगड़े से मिलने के लिए क्रेजी फैन ने किया 5 दिनों तक इंतजार, सड़कों पर गुजारी रातयह पढ़ें:पूजा हेगड़े से मिलने के लिए क्रेजी फैन ने किया 5 दिनों तक इंतजार, सड़कों पर गुजारी रात

    दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने दिया ये बयान

    दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने दिया ये बयान

    दूसरी तरफ दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बताया कि दिल्ली में सत्तासीन आम आदमी पार्टी सरकार ने मुकेश की दया याचिका खारिज करने की सिफारिश करते हुए फाइल उपराज्यपाल अनिल बैजल के पास भेजी थी, उपराज्यपाल के माध्यम से यह केंद्रीय गृह मंत्रालय को भेज दी गई है, गृह मंत्रालय ने इसके रिसीव करने की जानकारी दी है।

    7 जनवरी को जारी हुआ था डेथ वारंट

    7 जनवरी को जारी हुआ था डेथ वारंट

    मालूम हो कि 7 जनवरी को पटियाला हाउस के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश सतीश कुमार अरोड़ा ने निर्भया के चारों गुनाहगार मुकेश कुमार (32), पवन गुप्ता (25), विनय शर्मा (26) और अक्षय कुमार सिंह (31) को 22 जनवरी की सुबह सात बजे तिहाड़ जेल में फांसी देने का आदेश दिया था।

    आज भी होगी सुनवाई

    पटियाला कोर्ट ने जेल अधिकारियों से निर्भया रेप मामले के दोषी अक्षय, विनय और पवन से जुड़े सारे कागजात और रिपोर्ट सौंपने को कहा है, कोर्ट ने कहा कि इस मामले में जेल अथॉरिटी एक विस्तृत रिपोर्ट दाखिल करे, कोर्ट इस मामले में आज दोबारा सुनवाई करेगा।

    यह पढ़ें: Delhi Assembly Elections 2020: तो अरविंद केजरीवाल को टक्कर देंगी सुषमा स्वराज की बेटी 'बांसुरी'?यह पढ़ें: Delhi Assembly Elections 2020: तो अरविंद केजरीवाल को टक्कर देंगी सुषमा स्वराज की बेटी 'बांसुरी'?

    English summary
    In a scathing attack on the system that has allowed the convicts to delay their execution, Nirbhaya's mother Asha Devi said the government and court did not seem to be helping the victim's family, but the convicts.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X