• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

International Yoga Day 2021: 'COVID19 के दौरान योग की प्रासंगिकता बढ़ी इसे बनाए जीवन का हिस्सा'

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 21 जून। आज 'विश्व योग दिवस' है, इस खास मौके पर पीएम मोदी ने सुबह जनता को संबोधित करते हुए कहा कि 'भारत के ऋषियों ने भारत के जब भी स्वास्थ्य की बात की है तो इसका मतलब केवल शारीरिक स्वास्थ्य नहीं रहा है बल्कि इसका रिलेशन मेंटल हेल्थ यानी कि मानसिक स्थिति से भी है, क्योंकि जब तक इंसान का दिमाग स्वस्थ नहीं रहेगा, तब तक इंसान का शरीर स्वस्थ नहीं रहेगा और योग से इंसान का दिमाग पूरी तरह से स्वस्थ रहता है इसलिए हर किसी को योग का अपने जीवन का हिस्सा नियमित रूप से बनाना चाहिए।'

'COVID19 के दौरान योग की प्रासंगिकता बढ़ी'

'COVID19 के दौरान योग की प्रासंगिकता बढ़ी'

पिछले साल की तरह इस बार भी 'योग दिवस' को कोरोना वायरस के प्रकोप की वजह से सुरक्षा मानकों को ध्यान में रखकर सेलिब्रेट किया जा रहा है। योग दिवस के मौके पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने बड़ी ही खास बात कही। उन्होंने कहा कि 'COVID19 के दौरान योग की प्रासंगिकता बढ़ी है। योग ने हमें अपने शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को फिट बनाए रखने में मदद की है।'

यह पढ़ें: योग दिवस के मौके पर पीएम मोदी के भाषण की अहम बातें, स्ट्रेस से स्ट्रेंथ का दिया मंत्रयह पढ़ें: योग दिवस के मौके पर पीएम मोदी के भाषण की अहम बातें, स्ट्रेस से स्ट्रेंथ का दिया मंत्र

    International Yoga Day 2021: ITBP personnel ने 18000 फीट की ऊंचाई पर किया योग | वनइंडिया हिंदी
    'योग हमारी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करेगा'

    'योग हमारी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करेगा'

    केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि 'हमें योग या अन्य शारीरिक गतिविधियों को अपने दैनिक जीवन का हिस्सा बनाना चाहिए। ये हमें कोरोना वायरस के खिलाफ अपनी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करेंगे।'

    'हमारा स्वास्थ्य और हमारा चरित्र सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण'

    'हमारा स्वास्थ्य और हमारा चरित्र सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण'

    उन्होंने आगे कहा कि 'हम सभी के लिए हमारा स्वास्थ्य और हमारा चरित्र सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है, जिसका रक्षा करना हमारा नैतिक धर्म है और कोविड काल ये पहले से भी ज्यादा उपयोगी और खास हो गया है। देश के हर इंसान को योग को अपने जीवन का अंग बना लेना चाहिए, 21 जून हमें इस बात की याद दिलाता है कि योग, जो भारत के ऋषिमुनियों की देन है, आज उसे पूरी दुनिया मान रही है। लेकिन आज का दिन हमें केवल साल में एक दिन सांकेतिक रूप से नहीं मनाना चाहिए और ना ही इस दिन को तात्कालिक संतुष्टि के लिए मनाना चाहिए बल्कि सभी को योग जीवन का अंग बनना चाहिए।'

    21 जून को ही क्यों मनाते हैं अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस?

    21 जून को ही क्यों मनाते हैं अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस?

    अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को मनाया जाता है, यह दिन वर्ष का सबसे लंबा दिन होता है और योग भी मनुष्य को दीर्घ जीवन प्रदान करता है इसलिए इस दिन को योग के लिए चुना गया। पहली बार यह दिवस 21 जून 2015 को मनाया गया, जिसकी पहल भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 27 सितंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने भाषण से की थी, जिसके बाद 21 जून को 'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' घोषित किया गया।गौरतलब है कि इस वर्ष योग दिवस की थीम 'कल्याण के लिए योग' यानी कि 'Yoga for wellness' रखी गई है।

    English summary
    Relevance of Yoga has increased during COVID19. Yoga has helped us to maintain our physical & mental health says Union Health Min Harsh Vardhan.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X