• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

खुफिया विभाग को नहीं मिल रहे भरोसेमंद अधिकारी, 8600 पद खाली

|

नई दिल्ली। अल कायदा और आईएसआईएस के आंतंकियों की नयी भर्तियों पर निगरानी रखने के लिए भारतीय खुफिया विभाग को बड़ी संख्या में अधिकारियों पर निर्भर होना पड़ेगा। इस काम के लिए आईबी को कम से कम 8600 अधिकारियों की भर्ती करनी पड़ेगी और इसके लिए सभी प्रयास किये जा रहे हैं।

spy

आईबी में मौजूदा समय में कम से कम 27000 कर्मियों की जरूरत है लेकिन अभी भी इसके पास 8600 कर्मियों का अभाव है। लेकिन ऐसे में आईबी के लिए सबसे बड़ी दिक्कत है कि ऐसे लोगों को पर भरोसा नहीं किया जा सकता है जो कि स्थानीय लोगों के संपर्क में हो। हाल ही में मणिपुर हमले में उग्रवादियों को आईबी से पहले यहां के स्थानीय लोगों से जानकारी मिल रही थी।

आईबी की पहली आंख और कान बनना होगा

आईबी ऐसे लोगों पर भरोसा करना चाहता है जो सबसे पहले खुफिया जानकारी उनतक पहुंचाये, इसके लिए लोगों में देशभक्ति कूट-कूट कर भरी होनी चाहिए। आईबी के एक अधिकारी ने बताया कि हमें ऐसे लोगों की जरूरत है जिनका लिए पैसे से बढ़कर देशभक्ति हो।

आईबी के अधिकारी ने बताया कि जो लोग खुफिया जानकारी पैसों के लिए किसी से भी साझा करते हैं उनपर भरोसा नहीं किया जा सकता है। ये लोग पैसों की खातिर दोनों तरफ जानकारी साझा कर सकते हैं। इन लोगों की वजह से आईबी 10 में से एक बार जरूर असफल होता है जोकि हमें काफी भारी पड़ता है।

पिछले कुछ महीनों में अच्छे आवेदक नौकरी के लिए आवेदन कर रहे हैं। जिनमें से कई एमबीए ग्रेजुएट भी हैं जिन्होंने हाई सैलरी नौकरी को ठोकर मारकर आईबी में शामिल होने के लिए आवेदन किया।

विवादित स्थलों पर खुफिया तंत्र को मजबूत करना होगा

आईबी के लिए नयी भर्तियों के लिए सबसे बड़ी अड़चन पूर्वोत्तर के क्षेत्र हैं। दस में से पांच ऐसे मौके होते हैं जब उग्रवादियों के पास आईबी से पहले जानकारी पहुंचती है और इसकी मुख्य वजह है यहां स्थानीय लोगों की मदद। यहां खुफिया विभाग को स्थानीय भाषा को समझना बेहद जरूरी होता है ऐसे में स्थानीय लोगों पर भरोसा करना ही एकमात्र विकल्प है।

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
The Indian Intelligence Bureau will rely a lot on human intelligence to spot an ISIS or al-Qaeda recruit. With a shortage of at least 8,600 IB personnel, the agency will rely a lot on human intelligence to get the job done.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more