• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

भारतीय मूल के गौरव शर्मा ने न्यूजीलैंड की संसद में ली संस्कृत में शपथ, रच दिया इतिहास

|
Google Oneindia News

वेलिंग्टन। न्यूजीलैंड में भारतीय मूल के डॉक्टर गौरव शर्मा ने बुधवार को इतिहास रच दिया। दरअसल, उन्होंने संसद के सदस्य के रूप में संस्कृत भाषा में शपथ ली। इस ऐतिहासिक कदम के बाद उनकी चर्चा हर तरफ हो रही है।

Gaurav Sharma

न्यूजीलैंड की संसद में सबसे कम उम्र के सांसद बने गौरव शर्मा

आपको बता दें कि गौरव शर्मा न्यूजीलैंड की संसद में चुने गए सबसे कम उम्र के सांसद भी हैं। मूल रूप से हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर के रहने वाले गौरव शर्मा हैमिल्टन वेस्ट से लेबर पार्टी के उम्मीदवार के रूप में चुनाव जीते हैं। आपको बता दें कि उन्होंने संस्कृत के अलावा मोरी भाषा में भी शपथ ली।

शपथ लेने के बाद गौरव शर्मा का ट्वीट

संस्कृत में शपथ लेने के पीछे गौरव शर्मा ने बताया कि सच कहूं तो शपथ लेने से पहले मैं काफी उलझन में था। उलझन ये थी कि मैं पहाड़ी या पंजाबी भाषा में शपथ लूं, लेकिन फिर मैंने तय किया कि क्यों ना संस्कृत में शपथ ली जाए ताकि हर भारतीय भाषा का सम्मान किया जा सके।

कौन हैं गौरव शर्मा?

हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर के रहने वाले गौरव शर्मा ने अपनी पढ़ाई धर्मशाला और न्यूजीलैंड में की है। इससे पहले 1998-99 तक गौरव शर्मा शिमला स्थित चैपसली स्कूल में पढ़ाई कर चुके हैं। गौरव शर्मा हिमाचल प्रदेश के पूर्व आइएएस अधिकारी डॉक्टर अरुण शर्मा के भांजे हैं। गौरव शर्मा ने न्यूजीलैंड में पिछला चुनाव भी लड़ा था, जिसमें वो हार गए थे।

गौरव शर्मा के चुनाव जीतने की खुशी उनके गांव में भी मनाई जा रही है। गांववालों ने लड्डू बांटकर, ढोल-नगाड़े बजाकर खुशी मनाई। साथ ही मुख्‍यमंत्री जयराम ठाकुर ने भी गौरव शर्मा को चुनाव जीतने पर बधाई दी थी।

English summary
Indian-origin doctor Gaurav sharma takes oath in Sanskrit in New zealand parliament
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X